वरिष्ठों ने झोंकी पूरी ताकत, रूठों को मनाने में गुजरा दिन

267 उम्मीदवार मैदान से हटे, रेस में शामिल प्रत्याशियों को प्रतीक चिन्ह आवंटित
जबलपुर: जिले में दो चरणों में हो रहे नगरीय निकाय चुनाव की प्रक्रिया के तहत नामांकन और स्क्रूटनी के बाद बुधवार का दिन मेयर और पार्षद पद की उम्मीदवारी से नाम वापस लेने वालों के नाम रहा। भाजपा-कांग्रेस दोनों ही पार्टियों के वरिष्ठ नेताओं का दिन रूठों और बागियों को मनाने में निकल गया। बागी प्रत्याशी और निर्दलीय प्रत्याशी नाम वापस ले लें इसके लिए पुरजोर कोशिश कर दोनों ही पार्टी के वरिष्ठों ने पूरी ताकत झौंक दी। राजनीतिक दलों के नेताओं ने प्रत्याशियों से संपर्क किया। दोपहर 3 बजे तक मान-मनौव्वल का मौका मिला। सबसे ज्यादा बागी आप की झाड़ू से मैदान साफ करने मैदान में उतरे।

इनके अलावा भी अनेक बागी ऐसे हैं जो निर्दलीय तौर पर अपनी किस्मत आजमाना चाह रहे हैं। उनमें से कुछ को तो मनाया लिया गया लेकिन कुछ आवेदक ऐसे हैं, जिनपर किसी भी समझाइश या मनुहार का असर नहीं पड़ा। उन्होंने अपनी जीत की पूरी उम्मीद है। हालांकि अंतिम दिननाम वापसी के बगावती रुख दिखाते हुए उम्मीदवारी का दावा करने वाले कई नेताओं को मनाने में भाजपा और कांग्रेस दोनों को थोड़ी सफलता मिल गई है। कुल 267 उम्मीदवारों ने नाम वापिस ले लिया है। ऐसे में दोनों दलों के संगठन थोड़ी राहत महसूस कर रहे हैं। नाम वापसी के बाद सभी उम्मीदवारों को को प्रतीक चिन्हों का आवंटन भी कर दिया गया है।
कहां से कितने नाम हुए वापिस
नगर निगम महापौर पद के चार प्रत्याशियों ने नाम वापिस ले लिया है। इसके साथ ही 79 वार्डोंं में से 189 पार्षद उम्मीदवारों समेत सिहोरा नगर पालिका परिषद से 17, पनागर से 9, बरेला से 5, भेड़ाघाट से 6, पाटन से 5, मझौली से 11, कटंगी से 12, शहपुरा से 9 पार्षद प्रत्याशियों ने नाम वापिस ले लिए है।
डैमेज कंट्रोल करने तन्खा ने लगााया एड़ी चोटी का जोर
डैमेज कंट्रोल करने के लिए कांग्रेस से राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया यहां तक की उन्होंने रूठे नेता एवं कार्यकर्ताओं के साथ बंद कमरे में बैठक की और गिले शिकवे दूर किए। साथ ही रूठे कार्यकर्ताओं को भविष्य में महत्व देने के साथ जिम्मेदारी देने की भी बात कहीं। जिसके बाद अधिकांश बागी मान गए और उन्होंने नाम वापिस ले लिया।
अब 11 महापौर प्रत्याशी की दौड़ में शामिल
महापौर प्रत्याशी नकुल गुप्ता, राकेश समुन्द्रे, ठाडेश्वर महावर, रईस वली द्वारा नाम वापिस लेने के बाद नगर निगम महापौर पद का चुनाव लडऩे वाले उम्मीदवारों की अंतिम सूची में कांग्रेस से जगत बहादुर सिंह अन्नूू, भाजपा से जितेन्द्र जामदार, बहुजन समाज पार्टी से लखन अहिरवार, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी से कु. रश्मि पोर्तेे, स्मार्ट इंडियंस पार्टी से सचिन गुप्ता, जनता दल से विनोद कुमार पटेल, निर्दलीय भूपेन्द्र मेहरा, निर्दलीय इन्द्र कुमार गोस्वामी, निर्दलयी राजेश सेन, निर्दलीय राजकुमार त्रिपाठी, निर्दलीय शशि स्टैला शामिल है।
किसी को तीर, किसी केक-कैमरा समेत अनेक प्रतीक चिन्ह हुए आवंटित-
महापौर प्रत्याशियों को पंजा, कमल, हाथी के अलावा पीपल का पत्ता,स्लेट, तीर, गैस बत्ती,बस, सूरजमुखी, नल, प्रेशर कुकर का चिन्ह आवंटित हुआ। इसके अलावा पार्षद प्रत्याशियों को केक, कैमरा, गाजर, कोट, टेंट, चारपाई, सिलाई की मशीन, नाव, स्कूटर, जीप, ब्लेक बोर्ड, टेलीफोन, टेलीविजन, कप और प्लेट, बरगद का पेड़, लेटर बॉक्स (पत्र पेटी), अलमारी, हॉकी और गेंद, डीजल पंप, दो तलवार और एक ढाल, डोली, फलों सहित नारियल का पेड़, कैची, बाल्टी, कमीज, फ्रॉक, केतली, लेडी पर्स, भोंपू, सेव और प्रेस चिन्ह आवंटित किया गया।

नव भारत न्यूज

Next Post

मुख्यमंत्री के हस्तक्षेप से मनसुख ने निकाला नामांकन

Thu Jun 23 , 2022
महापौर के दो प्रत्याशी चुनाव मैदान से हटे,गेंदलाल ने भी पर्चा वापस लिया सतना:नगर निगम सतना के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी से असंतुष्ट होकर पर्चा दाखिल करने वाले पूर्व जिला उपाध्यक्ष मनसुख सिंह पटेल ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के सीधे हस्तक्षेप के बाद अपना नामांकन वापस ले लिया.महापौर प्रत्याशियों […]