रुपये की स्थिरता बनाए रखने में समर्थ सिद्ध होगा भारत: दास

मुंबई,  (वार्ता) रुपये की विनिमय दर में गिरावट की बढ़ती चिंता के बीच भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने सोमवार को कहा कि भारत अपनी मुद्रा रुपये की स्थिरता को बनाए रखने में सक्षम सिद्ध होगा।
यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब कि अमेरिकी फेडरल रिजर्व बैंक द्वारा तीन साल से अधिक समय के बाद ब्याज 0. 25 प्रतिशत वृद्धि तथा वैश्विक स्तर पर भू-राजनीतिक संकट के चलते जिंसों की कीमतों में उछाल के चलते रुपये की विनिमय दर में बड़ी गिरावट की आशंका बढ़ गयी है।
आरबीआई गवर्नर श्री दास ने कहा, ‘मैं पर्याप्त विश्वास के साथ कह सकता हूं कि हम भारतीय रुपये की स्थिरता को बनाए रखने में सक्षम होंगे।”
गवर्नर दास ने कहा भारतीय उद्योग परिसंघ की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में कहा , ‘ वास्तव में यदि आप देखे तो, विदेशी मुद्रा बाजार में हमारे हस्तक्षेप की एक मानक नीति है। हम अत्यधिक अस्थिरता को रोकने के लिए ही हस्तक्षेप करते हैं।”
उन्होंने कहा कि भारत भारतीय रुपये की स्थिरता को बनाए रखने में सक्षम रहा है और आगे भी इसे बनाए रखेगा।
मुद्रास्फीति के बारे में बोलते हुए, दास ने कहा कि इसके नरम होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा, “ मुझे नहीं लगता कि मुद्रास्फीति छह प्रतिशत से आगे बढ़ रही है और वास्तव में हमारी उम्मीद है कि यह नरम हो कर 4.5 प्रतिशत के आस पास रहेगी।”
कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव के बारे में अनुमान लगाना मुश्किल है। भारत के विकास पर चल रहे रूस-यूक्रेन संकट के प्रभाव पर, दास ने कहा, “ इस वर्ष आर्थिक वृद्धि 8.9 प्रतिशत रहने का अनुमान है। और यदि आप इस पर यूक्रेन संकट के प्रभाव को भी देखते हैं, तो यह मामूली ही रहेगा।”
उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था आज बेहतर स्थिति में है और शालीनता का कोई कारण नहीं है।
“हमें सतर्क रहना होगा और हम हैं। हम कच्चे तेल और कमोडिटी की कीमतों और अस्थिरता की भी बहुत बारीकी से निगरानी कर रहे हैं। और जब हम मुद्रास्फीति के बारे में सतर्क हैं, लेकिन साथ ही, हम किसी भी तरह की चुनौती से निपटने के लिए प्रतिबद्ध हैं।
उन्होंने कहा कि वृद्धि और स्थिरता पर ध्यान केंद्रित करते हुए हमें सभी निवेशों की स्थिरता और दीर्घकालिक स्थिरता पर भी ध्यान देना होगा।

नव भारत न्यूज

Next Post

आईपीएल 2022 में 25 फीसदी से अधिक दर्शकों की हो सकती है मौजूदगी

Tue Mar 22 , 2022
नयी दिल्ली,  (वार्ता) महाराष्ट्र में होने आईपीएल के आगामी सीजन में आयोजन स्थलों पर 25 प्रतिशत से अधिक दर्शकों की मौजूदगी देखी जा सकती है। राज्य सरकार से हालांकि प्रारंभिक अनुमति केवल एक-चौथाई स्टेडियम के आकार के लिए है, लेकिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को विश्वास है कि लीग […]