कोरोना पर भारी पड़ी आस्था, हजारों लोग पहुंचे अजयपाल महाराज के दर्शन को

पन्ना : मकर संक्रांति के पर्व पर अजयगढ़ के अजय पाल किले के उपर राजा शाही जमाने से चला आ रहा मेला व अजय पाल के दर्शनों का सिलसिला कोरॉना महामारी भी नही रोक पाई प्रशासन द्वारा मेला के आयोजनों पर रोक लगा रखी थी परंतु भगवान के दर्शनों पर रोक नही थी जिससे प्रति वर्ष लाखो की तादाद में आने श्रद्धालु अजय पाल किला पहुंचे जिसमे सुबह से ही भारी मात्रा में दर्शनार्थी अजय पाल किले की ओर जाते हुए देखे गए व शाम 7 बजे तक दर्शनार्थी वापिस आते रहे जबकि मेला के आयोजक नगर परिषद के जिम्मेदार प्रभारी सीएमओ यशवंत वर्मा ने मकर संक्रान्ति के पूर्व अजयगढ़ आकार मकर संक्रांति पर्व का नगर का निरीक्षण व अपने कर्मचारियों को दिशा निर्देश नही दिए व हप्तो से अजयगढ़ नही आए.

जिससे सड़क किनारे मेला के आयोजन ना होने के बाद भी सड़क किनारे दोनो ओर दुकाने सजती रही और नगर परिषद का अमला मूकदर्शक बना कचड़ा गाड़ी से मुनादी कराता रहा की मकर संक्रांति मेले पर शासन से रोक है नगर परिषद द्वारा मेला लगने पर कोई कारगर कदम नहीं उठाए गए मुनादी कराके रस्म अदायगी भर प्रशासन की जाती रही जिससे लाखो की भीड़ शहर की गलियों में भर गई माधोगंज से मंडी से कछियाना से अजय पाल किला तक एक जन सैलाब उमड़ पड़ा कुछ लोग दर्शनों को आए कुछ लोग अपनी मन्नत के सवाई रोट चढ़ाने पहुंचे व दूर दूर से लोग वर्ष में दो दिन रखी जाने वाली मूर्ति के दर्शनों को आए इस तरह से हर वर्ष की भांति भीड़ बराबर रही सामाजिक दूरी का पालन सवाल ही न ही यदा कदा लोग ही मास्क लगाए नजर आए यह जन सैलाब कोरोना महामारी के लिए अजयगढ़ प्रशासन का खुला निमंत्रण था कोरोना संकट के की तीसरी लहर पर आस्था भारी पड़ी।

पुलिस प्रशासन के अलावा राजस्व एवं नगर पालिका अमला नदारद रहाः- सम्पूर्ण मेले में देखा गया कि व्यवस्था के नाम पर राजस्व अमला पूरी तरह से नदारद था वहीं नगरपरिषद अमला भी नहीं दिखा। सिर्फ पुलिस प्रशासन कानून व्यवस्था बनाने व यतायात को सुचारू रूप से करने के लिए मुस्तैदी से जद्दो जहद करता नजर आया जहां जहां बैरिकेटिंग होनी थी वहां पर बैरिकेटिंग कर आवागवान सुचारू रूप से करता नजर आया नगर निरीक्षक अरविंद कुजूर सभी नाकों पर बारी बारी से निगरानी करते रहे व लोगो में चर्चा का विषय रही पुलिस भर अपना काम कर रही बाकि प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारी सारे दिन नदारत नजर आए आखिर इस जनसैलाब से कोरोना महामारी नगर में कितना विकराल रूप लेती है क्योंकि इतनी मात्रा में उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश छतरपुर जिला एवं दमोह सतना आदि अनेक जगहों से अजय पाल किला लोग पहुंचते है इस संक्रमण के लिए कोन जिम्मेदार होगा या प्रशासन के आदेश ही प्रसारित होते रहेंगे जिम्मेदार इन इनका पालन करवाने में क्यों असमर्थ रहे यह विचारणीय है ?

फोटो सेशन के चक्कर में भाईपाई बिना मास्क के बांटते रहे खिचड़ीः- आज मकर संक्रांति पर्व पर अजयगढ़ में देखा गया भाजपाई नेतागण खिचड़ी का वितरण कर रहे थे उस समय फोटो खिंचाने के चक्कर में कहें या लोगों के बीच अपने इस पुनीत कार्य का प्रचार प्रसार कहें इसके लिए उन्होंने बगैर मास्क के अपने खिचड़ी वितरण का कार्य जारी रखा यही नेतागण बैठकों में नियम कानूनों की बात कहते हैं और यही नियम कानून तोड़ते हैं यह कहां तक उचित हैं स्वमेव अंदाजा लगाया जा सकता है ऐसे में इस विकराल कोरोना महामारी के संकट में आखिर वे क्या संदेश देना चाहते हैं ये तो वही जाच सकते हैं लेकिन यह बात सच है कि बिना मास्क एवं सोशल डिस्टेंस का पालन किये भीड में खिचडी का वितरण कर रहे थे वह उनके और खिचड़ी प्रसाद लेने वालों के लिए घातक सिद्ध हो सकता है। खिचडी प्रसाद लेना एवं बांटना एक पवित्र कार्य है लेकिन इसे कोरोना गाईडलाइर्नका पालन करते हुए भी पूरा किया जा सकता था लेकिन सत्ताधारी दल के नेताओं को शायद यह उचित प्रतीत नहीं हुआ।

नव भारत न्यूज

Next Post

रामनगर की माइक्रो सिचाई परियोजना को पूरा होने में लगेगा एक साल

Sat Jan 15 , 2022
रामनगर माइक्रो सिंचाई परियोजना का निरीक्षण किया- सांसद गणेश सिंह सतना : सांसद गणेश सिंह दधीचटोला के सेमरिया गांव पहुंच कर वर्ष 2017 से निर्माणाधीन रामनगर माइक्रो सिंचाई परियोजना का निरीक्षण किया।इस दौरान बताया गया कि अभी इस परियोजना का 70 फीसदी ही काम पूरा हुआ है जबकि इस योजना […]