6 हजार की रिश्वत लेते वनरक्षक को लोकायुक्त पुलिस ने किया गिरफ्तार

लकड़ी चोरी का केस न बनाने मांगी थी रिश्वत

रीवा:  जिले के गोविन्दगढ़ वन चौकी में पदस्थ वन रक्षक को लोकायुक्त पुलिस ने गुरूवार की दोपहर 6 हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया. लकड़ी चोरी का केस न बनाने के एवज में 10 हजार रूपये की रिश्वत मांगी गई थी. 4 हजार रूपया पूर्व में ले चुका था और 6 हजार रूपया लेते फारेस्ट क्वार्टर में रंगे हांथ पकड़ा गया. प्राप्त जानकारी के मुताबिक शिकायतकर्ता राम विश्वास विश्वकर्मा निवासी ग्राम पोस्ट बांसा थाना गोविन्दगढ़ को लकड़ी चोरी के मामले में पकड़ा गया था. केस न बनाने के एवज में वन रक्षक आशीष यादव पिता जगदीश यादव ग्राम गुझियारी द्वारा 10 हजार रूपये की रिश्वत मांगी गई थी. जिसमें 4 हजार 21 नवम्बर को शिकायतकर्ता ने दे दिया था.

जिसके बाद पूरे मामले की शिकायत लोकायुक्त एसपी गोपाल सिंह धाकड़ से की. शिकायत के बाद मामले की जांच की गई और रंगे हांथ आरोपी वन रक्षक को पकडऩे की योजना बनाई गई. गुरूवार की दोपहर फारेस्ट क्वार्टर में शेष राशि 6 हजार रूपये लेकर आरोपी ने बुलाया था. जैसे ही शिकायतकर्ता 6 हजार रूपये लेकर पहुंचा तो पहले से ताक में बैठी लोकायुक्त टीम ने आरोपी वनरक्षक को 6 हजार रूपये के साथ रंगे हांथ गिरफ्तार कर लिया. कार्यवाही का नेतृत्व निरीक्षक प्रमेंद्र कुमार ने किया. साथ में डीएसपी प्रवीण सिंह परिहार, निरीक्षक रंजीत सिंह राजपूत, राजेश कोहरिया, प्रधान आरक्षक मुकेश मिश्रा सहित 15 सदस्यीय टीम मौजूद रही. आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण कायम कर विवेचना में लिया गया है.

6 हजार की रिश्वत लेते वनरक्षक गिरफ्तार: एसपी
लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक गोपाल सिंह धाकड़ ने जानकारी देते हुए बताया कि 10 हजार की रिश्वत आरोपी वन रक्षक द्वारा मांगी गई थी. लकड़ी पकड़े जाने के बाद केश न बनाने के एवज में आरोपी द्वारा रिश्वत की मांग की गई थी. जिसमें पूर्व में 4 हजार आरोपी ले चुका था, 6 हजार रूपया लेते हुए गुरूवार की दोपहर वनरक्षक पकड़ा गया है. जिसके विरूद्ध भ्रष्टचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है.

नव भारत न्यूज

Next Post

हवा में जहर: कौन जिम्मेदार

Fri Nov 26 , 2021
प्राचीन काल से ही पर्यावरण और विकास में घनिष्ठ संबंध रहा है. इन दोनों को आपस में एक-दूसरे का पूरक माना जाता है. पर्यावरण को नुकसान पहुंचाकर विकास किया जाए तो वह विकास सतत न होकर भावी पीढिय़ों के लिए घातक व विनाशकारी साबित होगा. फिलवक्त तो हम राष्ट्रीय राजधानी […]