छावनी क्षेत्र मुरार को सिविल एरिया घोषित कराने रक्षा मंत्री से मिले केन्द्रीय मंत्री तोमर और प्रदेश के मंत्री कुशवाह

ग्वालियर:  छावनी क्षेत्र मुरार को सिविल एरिया घोषित करने की मांग को लेकर आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर और मध्य प्रदेश के उद्यानिकी मंत्री भारत सिंह कुशवाह ने मुलाकात की। श्री तोमर व श्री कुशवाह ने रक्षा मंत्री को अवगत कराया कि यह विषय क्षेत्र की जनता के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है और यह मांग पूरी होने से क्षेत्रवासियों को काफी सुविधा होगी।मंत्री कुशवाह आज दिल्ली प्रवास पर थे और इस दौरान उन्होंने पहले केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर से कृषि भवन में मुलाकात कर छावनी क्षेत्र मुरार को सिविल एरिया घोषित करवाने के संबंध में पत्र देते हुए अनुरोध किया।

पत्र में श्री कुशवाह ने बताया कि छावनी क्षेत्र मुरार में बरसों से जनता निवासरत है। श्री कुशवाह ने इस क्षेत्र के लोगों को आने वाली परेशानियों का जिक्र करते हुए कहा कि सिविल एरिया घोषित कर दिए जाने पर इस क्षेत्र के निवासियों को काफी सहूलियत हो जाएगी। इससे केन्द्र व राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ क्षेत्रवासियों को मिल सकेगा।

पत्र में श्री कुशवाह ने बताया कि छावनी क्षेत्र में सैन्य भूमि पर कई बस्तियों में 100 साल से ज्यादा समय से आम लोग निवासरत हैं और यह बात ध्यान में आई है कि सर्वे अनुसार इन बस्तियों को अतिक्रमण माना जा रहा है, जो कि न्यायसंगत नहीं है। छावनी क्षेत्र मुरार में पिछली जनगणना के अनुसार जनसंख्या लगभग पचास हजार होने के बावजूद कर्मचारियों के स्वीकृत पद केवल 90 ही है, जिससे छावनी क्षेत्र में जनहित के रोजमर्रा के कार्य प्रभावित हो रहे हैं। ग्वालियर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधि होने के नाते वे छावनी क्षेत्र मुरार की मूलभूत समस्याएं हल करना चाहते हैं, इसलिए केंद्रीय मंत्री तोमर के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से यह अनुरोध किया गया है।

नव भारत न्यूज

Next Post

ग्राहकों की सुरक्षा के लिए फ्यूल अनलोडिंग के समय बंद रहेंगे पेट्रोल पंप

Thu May 5 , 2022
डीलर एवं ऑयल कंपनियों के पदाधिकारियों की बैठक में कलेक्टर के निर्देश इंदौर: विगत दिवस शहर के जीपीओ चौराहा स्थित लक्ष्मी सर्विस स्टेशन पर लगी आग की घटना को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर मनीष सिंह की अध्यक्षता में बुधवार को कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में पेट्रोल पंप पर सुरक्षा मानकों […]