सदन से भगाती है शिवराज सिंह सरकार

42 साल की सबसे बड़ी महंगाई, विश्व आदिवासी दिवस की भावना पर कुठाराघात, कांग्रेस ने लगाए भाजपा सरकार पर आरोप
जबलपुर:  शिवराज सरकार ने अगस्त 2021 में मानसून सत्र 4 दिन के लिए बुलाया, उसके बाद से 3 घंटे कार्यवाही चलने के बाद सत्र स्थगित कर दिया। अगर सरकार की मंशा सदन चलाने की होती, तो कुछ दिन के लिए कार्यवाही स्थगित करके दोबारा बुलाई जा सकती थी। इस प्रकार का आरोप आज कांग्रेस द्वारा संभाग स्तर पर प्रेसवार्ता करके सरकार पर लगाया गया ।

इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि विपक्ष के पास अपनी बात करने के लिए केवल चार हथियार हैं स्थगन, ध्यान कॉमन, 139 पर चर्चा और अशासकीय संकल्प। कार्य मंत्रणा समिति की बैठक में कांग्रेस ने विभिन्न प्रकार के मुद्दों पर सूचना दी जिसमें कि डीजल-पेट्रोल, रसोई गैस महंगाई पर चर्चा की गई तथा बाढ़ से हुई तबाही पर प्रशासन की लापरवाही पर बात की गई ,वही पिछड़ा वर्ग आरक्षण, विश्व आदिवासी दिवस तथा जहरीली शराब, जासूसी मामला, भ्रष्टाचार और बलात्कार में मध्यप्रदेश का इन सब मुद्दों पर कांग्रेस संगठन ने सरकार पर विभिन्न प्रकार के आरोप लगाए। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री लखन घनघोरिया पूर्व वित्त मंत्री ताराबानो, विधायक विनय सक्सेना, संजय यादव, जगत बहादुर अन्नू और टीकाराम कोष्टा आदि उपस्थित रहे।

नव भारत न्यूज

Next Post

ग्रेडपे बढाने पर अडे पटवारी, हडताल से आय-जाति सर्टिफिकेट और रेवेन्यू से जुड़े कामों पर हो रहा असर

Sat Aug 14 , 2021
ग्वालियर: मप्र के 19 हजार से ज्यादा पटवारी पिछले 3 दिन के कलमबन्द हड़ताल पर है। शुक्रवार को हड़ताल का चौथा दिन है पर अभी तक मांगों को लेकर काई निर्णय नहीं हो सका है। मप्र पटवारी संघ ग्रेड पे बढ़ाने पर अटका है। सरकार भी पटवारियों को आर्थिक लाभ […]