डेंगू से जिले में पहली मौत

कोरोना के बाद मौत का कहर बनकर टूट पड़ रहा है डेंगू

बालाघाट: जिले में कोरोना के बाद फिर एक बार मौत को दस्तक देने वाली बीमारी प्रवेश कर गई है, डेंगू से एक युवक की मौत हो गयी। हालांकि चिकित्सा विभाग ने पुष्टि नहीं की है लेकिन एक निज़ी अस्पताल में मरीज का टेस्ट डेंगू पॉजिटिव पाया गया था।

वर्तमान में जिले में 2 पॉजिटिव डेंगू के मरीज है। जिले के पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र में इन दिनों ड़ेगू के वाहक मच्छरों का आतंक छाया हुआ है, वहीं जिले से लगे जबलपुर में भी डेंगू के पॉजिटिव मरीजों की संख्या पाई जा रहीं है। प्रशासन ने इसे रोकने के लिए जिले में प्रवेश करने वाले नाकों पर जॉच की व्यवस्था की है।

यह है लक्षण, रहे सावधान…?
डेंगू बुखार मच्छरों के काटने से होने वाली एक दर्दनाक बीमारी है. यह चार किस्मों के डेंगू वायरस के संक्रमण से होती है जो मादा ऐडीस मच्छर के काटने से फैलता है. डेंगू बुखार में तेज बुखार के साथ नाक बहना, खांसी,आखों के पीछे दर्द, जोड़ों के दर्द और त्वचा पर हल्के रैश होते हैं. हालांकि कुछ लोगों में लाल और सफेद निशानों के साथ पेट खराब, जी मिचलाना, उल्टी आदि हो सकता है.

इनका कहना है
राहुल मेश्राम उम्र लगभग 30 वर्षीय युवक का हमारे यहा पर टेस्ट के पश्चात डेंगू पॉजिटिव पाया गया, और एक अन्य मरीज का भी टेस्ट पॉजिटिव पाया गया है। राहुल मेश्राम का स्वास्थ्य अधिक खराब होने के चलते उसके परिजनों के द्वारा अन्य अस्पताल में लेकर गये है, उसके बाद कोई जानकारी नहीं है कि
उसकी मौत हो गयी।
डॉ.अशोक लिल्हारे निजी चिकित्सक
भारत सरकार द्वारा एलाइजा टेस्ट की ही रिपोर्ट को सहीं मानी
जाती है, अगर निजी पेथोलाजीं में रैपिड टेस्ट के माध्यम से पॉजिटिव पाई जाती उसे हमारे द्वारा नहीं माना जाता है।
मनीषा जुनेजा
जिला मलेरिया अधिकारी बालाघाट

नव भारत न्यूज

Next Post

हिंदी हमारी संस्कृति की पहचान -उमाकान्त शर्मा

Tue Sep 14 , 2021
बैतूल : 14 सितम्बर 1949 को भारतीय संविधान में हिंदी को राष्ट्रीय भाषा का दर्जा प्राप्त हुआ एंव 14 सितम्बर 1953 को प्रथम हिंदी दिवस बनाया गया ज्यादातर हिन्दुस्तानियो की पढ़ाई हिंदी माध्यम से हुई हैं तो विचार-प्रक्रिया भी हिंदी में ही चलती है. साहित्य भी सर्वाधिक हिंदी का ही […]