सूरत हादसे के मृतक श्रमिकों के परिजनों को गुजरात सरकार देगी मुआवजा!

० सूरत में हादसे के शिकार हुए सीधी जिले के मझौली क्षेत्र के 5 श्रमिकों के परिजनों के सामने खड़ा हो गया भरण-पोषण का संकट

नवभारत न्यूज

सीधी 10 जुलाई। सूरत में हादसे के शिकार हुये सीधी जिले के मझौली क्षेत्र के पांच श्रमिकों के परिजनों के सामने भरण-पोषण का संकट खड़ा हो गया है। ऐसे में सवाल उठ रे हैं कि सूरत हादसे के मृतक श्रमिकों के परिजनों को गुजरात सरकार क्या मुआवजा देगी!

गुजरात राज्य के सूरत जिले में भवन गिरने से सीधी जिले के मझौली क्षेत्र से 5 श्रमिकों की हुई दर्दनाक मौत के बाद परिजन गहरे सदमें में डूबे हुए हैं। सभी परिवार काफी गरीब एवं श्रमिक वर्ग से संबंधित हैं। जिन 5 श्रमिकों की मौत हुई है उनके नाबालिग छोटे-छोटे बच्चे हैं। कमाऊ सदस्य की मौत के बाद परिवारों का सहारा छिन चुका है। सीधी जिले में रोजगार धंधे का अभाव होने से सैकड़ों श्रमिक प्रदेश से बाहर काम करने के लिए जाते हैं। वहां उनके साथ कभी भी कोई हादसा हो सकता है। काम की तलाश में पलायन करने वाले श्रमिक गरीब परिवारों से संबंधित होते हैं। उनके साथ हादसा होने के बाद इसका असर समूचे परिवार पर पड़ता है। मझौली क्षेत्र से जिन पांच श्रमिकों की मौत हुई है वह आपस में रिश्तेदार ही हैं। इसी वजह से एक साथ सूरत में रहते हुए काम धंधा कर रहे थे। जिस छ: मंजिला भवन के दूसरी मंजिल में वह रहते थे वह अचानक धराशाई हो गई और उस समय मौजूद सीधी जिले के पांचों श्रमिकों की मौत भी हो गई। घटना की खबर मिलने के बाद से परिवार में मातम पसरा हुआ है। चौथे दिन मृतक श्रमिकों का शव उनके गृह ग्राम लाया गया। मंगलवार की सुबह सभी पांचों मृतक श्रमिकों के शवों की अंत्येष्ठि हुई। उस दौरान मृतक श्रमिकों के परिजनों को प्रशासन की ओर से तात्कालिक सहायता के रूप में अंत्येष्ठि के लिए केवल 5-5 हजार रुपए दिए गए। शेष आर्थिक मदद का इंतजार आज भी मझौली थाना के पुलिस चौकी मड़वास अंतर्गत परासी निवासी बंभोली केवट के दो मृतक पुत्र हीरामणि 34 वर्ष एवं लालजी केवट 32 वर्ष, मझौली थाना क्षेत्र के दियाडोल निवासी सौखीलाल केवट के दो मृतक पुत्र शिवपूजन केवट 24 वर्ष एवं प्रवेश केवट 22 वर्ष, नगर परिषद मझौली के वार्ड क्र.6 कोटमा टोला निवासी मृतक अभिलाष पिता छोटेलाल केवट 32 वर्ष के परिजन कर रहे हैं। उनकी कातर निगाहों को इंतजार है कि प्रशासन की ओर से जल्द आर्थिक मदद मिले और उनकी जिंदगी में जो ठहराव आ गया है उसकोआगे बढ़ाने के लिए कोई नया रास्ता निकाला जाए। मृतक परिजनों के गांव के लोगों से जब चर्चा की गई तो उनका कहना था कि सूरत में जो दुखद हादसा हुआ उससे श्रमिकों का परिवार पूरी तरह से टूट गया है।

००

श्रमिकों की मौत पर गुजरात सरकार 5-5 लाख की दे आर्थिक मदद: कमलेश्वर

मध्य प्रदेश शासन के पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल ने नवभारत से चर्चा करते हुए गुजरात राज्य के सूरत में छ: मंजिला भवन के धसकने से सीधी जिले के 5 श्रमिकों की मौत पर गहरी संवेदना जताते हुए कहा कि इसको संवेदनशीलता से लेते हुए गुजरात सरकार भी मृतक श्रमिकों के परिजनों को कम से कम 5-5 लाख रुपए की आर्थिक मदद जल्द से जल्द प्रदान करे। उन्होंने कहा कि सभी 5 मृतक श्रमिकों का परिवार अत्यंत गरीब है। कमाने वाले सदस्यों की मौत से पूरा परिवार टूट चुका है। हादसे में परासी निवासी बंभोली केवट एवं दियाडोल निवासी सौखीलाल केवट के दो-दो पुत्रों की मौत हुई है। इसी तरह कोटमा टोला निवासी छोटेलाल केवट की मौत के बाद इनके यहां कोई कमाने वाला नहीं है। मृतक श्रमिकों के छोटे-छोटे बच्चे हैं, जिनका भविष्य दांव पर लग गया। ऐसे में मध्यप्रदेश सरकार भी मृतक परिवारों को पर्याप्त आर्थिक मदद प्रदान करें।

०००००००००००००००

Next Post

उपमुख्यमंत्री से मिले सांसद डॉ.राजेश मिश्रा, चिकित्सा व्यवस्था में होगा क्रांतिकारी परिवर्तन

Wed Jul 10 , 2024
० उप मुख्यमंत्री ने सीधी संसदीय क्षेत्र की अस्पतालों में जल्द चिकित्सकों की पदस्थापना एवं अन्य स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराने दिया आश्वासन नवभारत न्यूज सीधी 10 जुलाई। लोकसभा संसदीय क्षेत्र सीधी के सांसद डॉ.राजेश मिश्रा अपने भोपाल प्रवास के दौरान उपमुख्यमंत्री और रीवा विधायक राजेन्द्र शुक्ला से मिलकर सीधी जिले […]

You May Like