भारत के लोकल को ग्लोबल बनाने की दिशा में भी एक अच्छा कदम: मोदी

पालनपुर, 19 अप्रैल (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि आलू और दूध का आपस में कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन बनास डेयरी ने ये रिश्ता भी जोड़ दिया। दूध, छाछ, दही, पनीर, आइक्रीम के साथ ही आलू टिक्की, फ्रेंच फ्राइज, बर्गर, पेटीज जैसे उत्पादों को भी बनास डेयरी ने किसानों का सामर्थ्य बना दिया है। ये भारत के लोकल को ग्लोबल बनाने की दिशा में भी एक अच्छा कदम है।
श्री मोदी ने तीन दिवसीय गुजरात दौरे के दूसरे दिन आज गुजरात के बनासकांठा में डेयरी प्लांट समेत कई विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी और उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने नमस्ते कह कर उपस्थित सभी लोगों से गुजराती में ,“पूछा बधा मजा मां हवे जरा तमारी क्षमा मांगी ने शरूआत मां मारे थोडू हिंदी मां बोलवुं पड़से, बाबा बन्या ऐटले हिंदी बोलना पडेगा न। कारण के आ मीडीया वाणा मित्रों नी विनंती हती के साहेब हिंदी मां बोलो तो सारू। मने थयुं के बधु तो नहीं पण थोडूघणूं जरा ऐमने हाचवी लइये।” (आप सभी मजे में हैं। अब जरा आपकी क्षमा मांग कर शुरूआत में मुझे हिंदी में बोलना पड़ेगा। बाबा बने इसलिए हिंदी बोलना पड़ेगा न। मीडिया के मित्रों ने विनती की थी कि साहब हिंदी में बोलना। मुझे लगा कि थोड़ा उनके लिए हिंदी में बोला जाए )
श्री मोदी ने कहा,“ शायद जीवन में पहली बार एसा अवसर आया होगा कि एक साथ डेढ़, दो लाख माताएं बहनें आज मुझे यहां आशीर्वाद दे रही हैं। हम सबको आशीर्वाद दे रही हैं। आपके आशीर्वाद मां जगदंबा की भूमि की माताओं के आशीर्वाद मेरे लिए एक अनमोल आशीर्वाद हैं। अनमोल शक्ति, अनमोल उर्जा का केंद्र है। मैं बनास की सभी माताओं को आदर पूर्वक नमन करता हूं।”
प्रधानमंत्री ने कहा,“ बीते 1-2 घंटों में मैं यहां अलग-अलग जगहों पर गया। डेयरी सेक्टर से जुड़ी सरकारी योजनाओं की लाभार्थियों पशु पालक बहनों से मेरी विस्तार से बात हुई। ये जो नया संकुल बना है। पोटेटो प्रोसिसंग प्लांट है वहां भी विजीट करने का अवसर मुझे मिला। इस पूरे समय के दौरान मुझे जो कुछ भी जानकारियां दी गई उससे मैं बहुत प्रभावित हूं। मैं डेयरी के सभी साथियों को बहुत-बहुत बधाई देता हूं। भारत में गांव की अर्थव्यवस्थाओं को, माताओं-बहनों के सशक्तिकरण को कैसे बल दिया जा सकता है, सहकार कैसे आत्मनिर्भर भारत के अभियान को ताकत दे सकता है, ये सब कुछ यहां प्रत्यक्ष अनुभव किया जा सकता है।”
श्री मोदी ने इस अवसर पर कहा,“अब बताइये आलू और दूध का आपस में कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन बनास डेयरी ने ये रिश्ता भी जोड़ दिया। दूध, छाछ, दही, पनीर, आइसक्रीम के साथ ही आलू टिक्की, फ्रेंच फ्राइज, बर्गर, पेटीज जैसे उत्पादों को भी बनास डेयरी ने किसानों का सामर्थ्य बना दिया है। ये भारत के लोकल को ग्लोबल बनाने की दिशा में भी एक अच्छा कदम है।”

नव भारत न्यूज

Next Post

हम आत्मनिर्भर भारत, उन्नत कृषि और समृद्ध किसान के लिए समर्पित हों: तोमर

Tue Apr 19 , 2022
नयी दिल्ली 19 अप्रैल (वार्ता) कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने मंगलवार को कहा कि आत्मनिर्भर भारत, उन्नत कृषि और समृद्ध किसान, इस उद्देश्य के लिए हम सबको समर्पित होना चाहिए । श्री तोमर ने खरीफ अभियान-2022 के लिए राष्‍ट्रीय कृषि सम्‍मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार […]