बाजार, रक्षाबंधन की ग्राहकी से गुलजार

कोरोनाकाल के बाद अब बाजार में दिखी रौनक, गांधी रोड पर पैदल चलना भी हुआ दूभर
सीहोर  नवभारत न्यूज. भाई- बहन के स्नेह का पर्व रक्षाबंधन रविवार को उत्साह के साथ मनाया जाएगा. शनिवार को बाजार में भारी चहल- पहल बनी रही. त्योहार की खरीदी से बाजार गुलजार नजर आए. महिलाएं व युवतियां अपने भाईयों की कलाई पर सजाने के लिए राखी खरीदने बाजार में उमड़ी थीं. कोरोना संक्रमण काल के बाद पहली बार बाजार में भीड़ नजर आई है.
भाई- बहन के अमिट प्रेम का प्रतीक पर्व रक्षाबंधन रविवार को मनाया जाएगा. कोरोनाकाल के चलते एक साल से बाजार के हाल बेहाल हैं. रक्षाबंधन सहित अन्य त्योहार भी कोरोना की भेंट चढ़ चुके थे. इस साल फिर कोरोना की दूसरी लहर ने शहर के कारोबार को पूरी तरह चौपट कर दिया था. मार्च से अब तक व्यापार की धीमी रफ्तार के चलते दुकानदारों को आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा था.
सारी कसर निकालने की फिराक में
बीते एक साल से किसी भी त्योहार को जोरदार ढंग से नहीं मना पाने से मायूस लोग अब सारी कसर पूरी कर लेना चाहते हैं. इन दिनों कोरोना संक्रमण का खतरा खत्म हो जाने और वर्तमान में जिले में कोरोना का एक भी मरीज नहीं होने से प्रशासन ने तमाम रोकटोक हटा ली हैं. इसके बाद पहली बार कोई बड़ा त्योहार आया है. ऐसे में बाजार में पहली बार इतनी भीड़ देखने को मिली है. शुक्रवार को सुबह से ही बाजार में भारी चहल पहल बनी हुई थी. सर्वाधिक भीड़ गांधी रोड पर देखी जा रही थी जहां पैदल चलना भी दूभर बना हुआ था. ऐसे में वहां दुपहिया वाहनों और हाथठेलों की आवाजाही बनी रहने से जाम के हालात बनते रहे.
ग्राहकी देख खिले दुकानदारों के चेहरे
बीते कई महीनों से मंदी के मार झेल रहे शहर के बाजार में जोरदार ग्राहकी निकलने से दुकानदारों के चेहरे खिल उठे हैं. रक्षाबंधन के लिए उन्होंने माल का पर्याप्त स्टाक कर रखा था. शुक्रवार को राखी, कपड़ों और चूड़ी की दुकानों पर महिलाओं और युवतियों की भीड़ लगी थी. इसके अलावा रुमाल, नारियल की अस्थायी दुकानों पर भी ग्राहकी देखी गई. अपने भाई की कलाई को सजाने के लिए खूबसूरत राखियों की तलाश दुकानों पर की जा रही थी. रक्षाबंधन पर्व पर फैनी और मिठाईयों की विशेष मांग रहती है. इसके मद्देनजर होटलों पर भी फैनी व घेवर बिकना शुरू हो गए हैं.
भद्रा के साए से अछूता रहेगा रक्षाबंधन पर्व
इस वर्ष रक्षाबंधन का त्यौहार उदयमान तिथि पूर्णिमा 22 अगस्त रविवार को मनाया जाएगा. स्वर्ण पदक प्राप्त ज्योतिषाचार्य डॉ. पंडित गणेश शर्मा ने बताया कि इस वर्ष रक्षाबंधन पर भद्रा काल का साया नहीं होगा, बल्कि इस वर्ष धनिष्ठा नक्षत्र के साथ शोभन योग का शुभ संयोग बन रहा है. कुंभ राशि में गुरु चंद साथ में होने से गज केसरी योग भी बन रहा है. ज्योतिष में इस संयोग को अति उत्तम माना गया है. पंडित शर्मा ने बताया कि चौघडिय़ा के अनुसार सुबह 7.40 से 9.20 तक लाभ 9.21 से 10.55 तक अमृत, 10.56 से दोपहर 12.30 बजे तक शुभ, 2.05 से 3.40 दिन रहेगा. इसके साथ ही शोभन योग का मुहूर्त सुबह 6.15 से 10.35 बजे तक रहेगा.

नव भारत न्यूज

Next Post

बाजारों में लौटी रौनक

Sat Aug 21 , 2021
रक्षाबंधन त्यौहार के कारण खरीददारी करने उमड़े लोग विदिशा  नवभारत न्यूज, रक्षा बंधन त्यौहार नजदीक होने के कारण शहर के बाजार सज गये हैं जिससे खरीदारी के लिये लोगों की भीड़ उमड़ रही है. रविवार 22 अगस्त को रक्षा बंधन त्यौहार में अब एक दिन ही शेष रह गया है. […]