30 एकड़ जमीन में एम्स बनाएगा औषधि केंद्र

बर्रई में 30 एकड़ जमीन देगा जिला प्रशासन
नवभारतन न्यूज
भोपाल, 12 अक्टूबर. राजधानी भोपाल स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (एम्स) में मरीजों के लिए सुविधाएं बढ़ाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. बतांदे कि एम्स सरकारी अस्पताल होने के बावजूद ज्यादातर जांचो और दवाइयों के लिए मरीजों को पैसे देने पड़ते हैं. जबकि दिल्ली और दूसरे राज्यों के एम्स में जांचे और दवाएं फ्री में दी जाती है. अब भोपाल में भी सुविधाएं देने की कवायद शुरू की गई है. एम्स जल्‍द ही स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और पारंपरिक औषधि केंद्र बनाने जा रहा है. इसके लिए शासन द्वारा जमीन आवंटित की जाएगी.
राज्य भूमि आवंटन समिति की बैठक में इसका निर्णय हो गया है. इसके लिए एम्स ने बर्रई में 30 एकड़ जमीन जिला प्रशासन से मांगी थी.
आम लोग भी कर पाएंगे अध्ययन
मिली जानकारी के मुताबिक जल्‍द ही जमीन आवंटन की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी. इसके बाद एम्स प्रबंधन यहां पर सेंटर बनाने का काम शुरू करेगा. खास बात यह है कि एम्स में गंभीर बीमारियों और आम जनता में स्वास्थ्य से संबंधित हो रहे बदलावों का अध्ययन अब सिर्फ डॉक्टर नहीं, बल्कि दूसरे लोग भी सकेंगे. इसके लिए एम्स प्रबंधन स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और स्कूल ऑफ पैरामेडिक ल साइंसेंस की शुरुआत करने जा रहा है.
विशनखेड़ी में मेडिसिन सेंटर
इसी तरह पारंपरिक औषधि केंद्र बनाकर इसमें पुरानी आयुर्वेद, यूनानी चिकित्‍सा पद्धतियों पर रिसर्च की जाएगी और इसे आधुनिक भारत की जरूरत के हिसाब से विकसित किया जाएगा. विशनखेड़ी में करीब 11 एकड़ पर डब्ल्यूएचओ के सहयोग से यह मेडिसिन सेंटर खोला जाएगा. इसके लिए जमीन आवंटन प्रस्ताव भेज दिया गया है.

नव भारत न्यूज

Next Post

जेपी में 10 के अंदर शुरू होगा आंखो का ऑपरेशन

Wed Oct 13 , 2021
अस्पताल प्रबंधन ने शुरू की तैयारी नवभारत न्यूज भोपाल, 12 अक्टूबर. राजधानी भोपाल जिला अस्पताल जेपी में आंख के मरीजों को एक बार फिर से राहत मिलने जा रही है. कोविड के चलते बंद ऑपरेशन थिएटर को शुरू करने की तैयारी मंगलवार से अस्पताल प्रबंधन ने शुरू कर दी है. […]