सिंधिया ने डाक विभाग की 100 दिवसीय कार्ययोजना की समीक्षा की

नयी दिल्ली (वार्ता) संचार एवं पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने डाक विभाग की 100 दिवसीय कार्ययोजना की आज यहां समीक्षा की जिसमें ग्रामीण इलाकों में लोगों के घरों तक सेवाएँ उपलब्ध कराने,

3,000 नए निर्यातकों को शामिल करने और सेवा अदायगी में क्रांतिकारी बदलाव लाने पर चर्चा की गयी।

संचार विभाग ने यहां जारी बयान में कहा कि डाक विभाग का लक्ष्य देश और इसके नागरिकों के लाभ के लिए प्रमुख पहलों के माध्यम से सेवा अदायगी में बदलाव लाना और दक्षता बढ़ाना है।

इसके तहत ग्रामीण इलाकों में लोगों के घरों तक सेवाओं की उपलब्धता एक ऐतिहासिक पहल के तहत, डाक विभाग 100 दिनों में देश भर में 5,000 डाक चौपालों का आयोजन करेगा। इस पहल का उद्देश्य आवश्यक सरकारी और नागरिक-केंद्रित सेवाओं को सीधे ग्रामीण क्षेत्रों में लाना है, जिससे पहुँच और सुविधा में सुधार होगा। डाक चौपाल ग्रामीणों और सरकारी कार्यों के बीच महत्वपूर्ण कड़ी के रूप में काम करेंगे, जिससे दूरी और पहुँच जैसी बाधाएँ कम होंगी।

ग्रामीण निर्यात को बढ़ावा देना डाकघर निर्यात केंद्र योजना छोटे पैमाने के निर्यातकों का समर्थन करके ग्रामीण निर्यात को बढ़ावा देगी। यह पहल दस्तावेज़ीकरण सहायता, बाज़ार की जानकारी, बार-कोड के साथ लेबल की छपाई और दस्तावेज रहित सीमा शुल्क निकासी सहित आवश्यक सेवाएँ प्रदान करती है। ‘एक जिला-एक उत्पाद’ पहल के साथ तालमेल बिठाते हुए यह योजना, स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देगी, जिससे आर्थिक विकास और ग्रामीण विकास में योगदान मिलेगा। विभाग का लक्ष्य 100 दिनों में डाक घर निर्यात केंद्र पोर्टल पर 3000 नए निर्यातकों को शामिल करना है। सेवा अदायगी में क्रांतिकारी बदलावडाक विभाग भारत में एक मानकीकृत, भू-सांकेतिक पता प्रणाली स्थापित करने की पहल को आगे बढ़ा रहा है, जिससे सार्वजनिक और निजी सेवाओं की नागरिक-केंद्रित अदायगी के लिए सरलीकृत पता-समाधान सुनिश्चित हो सके। यह ग्रिड-आधारित प्रणाली भू-स्थानिक शासन के एक मजबूत स्तंभ के रूप में काम करेगी, जिससे सार्वजनिक सेवा अदायगी में वृद्धि होगी, आपातकालीन प्रतिक्रिया में तेज़ी आयेगी और लॉजिस्टिक्स दक्षता में उल्लेखनीय वृद्धि होगी।

100-दिवसीय कार्य योजना के हिस्से के रूप में, विभाग ने पूरे भारत में अवधारणा का साक्ष्य (पीओसी) परीक्षण शुरू किए हैं, जिसमें 10 गाँव और एक शहर शामिल हैं। ज्ञान समर्थन साझेदारी स्थापित करने के लिए 5 जुलाई, 2024 को राष्ट्रीय शहरी कार्य संस्थान के साथ एक करार किया है। तकनीकी सहायता साझेदारी स्थापित करने के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के राष्ट्रीय सुदूर संवेदी केंद्र (एनआरएससी) के साथ एक और समझौता किया जाना है। इन साझेदारियों का उद्देश्य सटीक मानचित्रण और पता समाधान प्रदान करने के लिए उन्नत तकनीकों और विशेषज्ञता का लाभ उठाना है, जो अंततः पूरे देश में सेवा अदायगी में क्रांति लाएगा।

रणनीतिक पहलों के माध्यम से नागरिकों को सशक्त बनानाडाक चौपाल, डीएनके योजना और मानकीकृत भू-सांकेतिक पता प्रणाली जैसी पहलों के माध्यम से, डाक विभाग का लक्ष्य देश भर में समावेशी विकास और प्रगति को बढ़ावा देते हुए नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता में उल्लेखनीय सुधार करना है। ये प्रयास एक विविधतापूर्ण और तेजी से आगे बढ़ते समाज की उभरती जरूरतों को पूरा करने के लिए विभाग के सक्रिय दृष्टिकोण और समर्पण को रेखांकित करते हैं।श्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया के मार्गदर्शन में, डाक विभाग पहले 100 दिनों में उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करने के लिए तैयार है। पहुँच और दक्षता को बढ़ाकर, डाक विभाग सामाजिक-आर्थिक प्रगति को उत्प्रेरित करने और देश भर में लाखों लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए तैयार है।

Next Post

सृष्टि भारती और प्रिया सिन्हा का लोकगीत 'जहरिया लागेला राजा जी' रिलीज

Wed Jul 10 , 2024
मुंबई, (वार्ता) गायिका सृष्टि भारती और अभिनेत्री प्रिया सिन्हा का लोकगीत ‘जहरिया लागेला राजा जी’ रिलीज हो गया है। लोकगीत ‘जहरिया लागेला राजा जी’ वर्ल्डवाइड रिकॉर्ड्स भोजपुरी के ऑफिसियल यूट्यूब चैनल पर रिलीज किया गया है। इस गाने को सृष्टि भारती ने गाया है। इसके वीडियो में प्रिया सिन्हा नजर […]

You May Like