डेंगू के 11 नए मरीजों के साथ आंकड़ा हुआ 400 पार

शहर में एक माह के लिए कूलर का उपयोग हुआ प्रतिबंधित

जबलपुर:  डेंगू का कहर बढ़ता जा रहा है, शहर से लेकर ग्रामीण इलाके से रोजाना नए मरीज सामने आ रहे है, घर-घर बुखार के मरीज मिल रहे है। सोमवार  भी डेंगू के 11 नए मरीज मिले है। जिन्हें मिलाकर अब तक अधिकृत रूप से इस सीजन में डेंगू के 405 मरीज मिल चुके है। वहीं बढ़ते मामलों को देखते हुए शहर में एक माह के लिए कूलर का उपयोग प्रतिबंधित कर दिया गया है।

इस संबंध में निगमायुक्त ने बताया कि जनहित में यह फैसला लिया गया है, जिससे संक्रामक बीमारियों का फैलाव रोकने में मदद् मिलेगी। उन्होंने नागरिकों से अपील की है कि एक माह तक कूलरों का उपयोग न करें यदि टीम भ्रमण के दौरान कहीं पर भी कूलरों का उपयोग होते देखा जाता है तो संबंधितों के खिलाफ  कार्रवाई की जायेगी।

1069 घरों में सर्वे, 75 कंटेनरों में मिला लार्वा
जिला मलेरिया अधिकारी की टीम ने सोमवार को 1069 घरों में मच्छरों के लार्वा का सर्वे कार्य किया। जिसमें 4998 कंटेनरों में मच्छरों के लार्वा की जांच की गई। जिसमें 59 घरों के 75 कंटेनरों में लार्वा पाये गये। जन समुदाय को लार्वा की पहचान एवं विनष्टीकरण कर स्वास्थ्य शिक्षा दी गई।

1156 बुखार पीडि़त मिले
जिला मलेरिया अधिकारी की टीम ने सर्वे के दौरान 1156 बुखार पीडि़त रोगियों की रक्त पट्टी और आर.डी. किट के द्वारा जांच की गई, जिसमें मलेरिया पॉजिटिव शून्य था। डेंगू पॉजिटिव केस के घरों एवं क्षेत्र के 200 घरों में स्पेस स्प्रे एवं फागिंग किया गया।

पानी की टँकी, बर्तनों एवं कूलरों की हुई जांच
डेंगू और मलेरिया की रोकथाम के उद्देश्य से सोमवार को चिकनी कुआं एवं जैन मोहल्ला गढा तथा त्रिमूर्ति नगर राम मंदिर में स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की टीम ने घर-घर सर्वे कर लार्वा विनिष्टिकरण के लिये पानी की टँकी, बर्तनों एवं कूलरों की जांच की। इस दौरान दवाओं का छिड़काव किया गया तथा इंडोर एवं आउटडोर फॉगिंग भी की गई।

कूलरों में अधिकतर पाए जा रहे लार्वा शहर के नागरिकों को डेंगू चिकनगुनिया और अन्य मौसमी बीमारियों से बचाव के लिए नगर निगम द्वारा निगमायुक्त संदीप जीआर के मार्गदर्शन में बड़े पैमाने पर कीटनाशक दवाईयों के छिड़काव के साथ-साथ फागिंग कराने का कार्य कराया जा रहा है।  इस सब चीजों के बीच यह रिपोर्ट प्राप्त हुई है कि अधिकतर लार्वा घर के कूलरों में पाए जा रहे हैं जिसके कारण लोग संक्रामक बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। जिसके चलते कूलर का उपयोग प्रतिबंधित कर दिया गया है।

नए मरीजों को भर्ती करने पलंग का अभाव
उल्लेखनीय है कि वैसे तो हर क्षेत्र से डेंगू के मरीज मिल रहे है परंतु
अब तक सबसे अधिक केस रांझी क्षेत्र से आए है जिसके चलते डेंगू के लिए हॉट स्पाट रांझी क्षेत्र बन चुका है। हालात यह बन गए हैं कि सरकारी से लेकऱ निजी अस्पताल फुल चल रहे है, नए मरीजों को भर्ती करने के लिए पलंग का अभाव हो गया है।

नव भारत न्यूज

Next Post

साल भर में आज खुलेंगे राधा मंदिर के पट

Tue Sep 14 , 2021
नंदवाना स्थित राधिका कुुंज वृंदावन गली में बरसेगा ब्रज का आनंद, मनेगी राधा अष्टमी विदिश 13 सितम्बर नवभारत न्यूज. नंदवाना स्थित राधिका कुंज वृंदावन गली का राधा मंदिर लगभग 300 वर्ष प्राचीन है. जिसके कपाट वर्ष में एक बार राधा अष्टमी को आमजनों के लिए खोले जाते हैं. वर्ष के […]