नगर निगम की एमआईसी घोषित, विधायकों की चली, सांसद लालवानी को झटका…

सियासत

इंदौर. नगर निगम के लिए महापौर परिषद का गठन कर दिया गया. गुरुवार को एमआईसी की सूची जारी की गई. इसमें विधायकों के समर्थकों को भी जगह दी गई है. एमआईसी के सदस्य हैं निरंजन सिंह चौहान, अश्विनी शुक्ला, राजेन्द्र राठौर, जीतू यादव, मनीष मामा, राकेश जैन, प्रिया डांगी, नंदकिशोर पहाड़िया, राजेश उदावत और बबलू शर्मा.इंदौर नगर निगम में नगर मंत्रियों की घोषणा हो गई है। मेयर पुष्यमित्र भार्गव के हस्ताक्षर से जारी 10 सदस्य मेयर इन काउंसिल में सभी विधायकों की चली है लेकिन सांसद शंकर लालवानी को झटका लगा है। सांसद ने क्षेत्र क्रमांक 4 से नगर निगम परिषद के लिए चुनी गई कंचन गिडवानी के लिए जोर लगाया था। इस मामले में उनकी विधायक मालिनी गौड़ से ठन गई थी। सूत्रों के अनुसार मालिनी गौड़ ने उनकी शिकायत प्रदेश नेतृत्व से की थी।

इसके बाद प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने मामले में हस्तक्षेप किया था। इस एमआईसी में विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 1 से पूर्व विधायक सुदर्शन गुप्ता के समर्थक अश्विन शुक्ला और निरंजन सिंह चौहान गुड्डू को लिया गया है। जबकि क्षेत्र क्रमांक 2 से रमेश मेंदोला समर्थक राजेंद्र राठौर और जीतू यादव को लिया गया है. क्षेत्र क्रमांक 3 से विधायक आकाश विजयवर्गीय के समर्थक मनीष मामा एमआईसी में लिए गए हैं. विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 4 से राकेश जैन और प्रिया डांगी को लिया गया है. यह दोनों मालिनी गौड़ के समर्थक हैं. विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 5 से महेंद्र हार्डिया के दोनों समर्थकों नंदकिशोर पहाड़िया और राजेश उदावत को एमआईसी में स्थान मिला है. विधानसभा राऊ से मधु वर्मा समर्थक अभिषेक शर्मा बबलू को स्थान मिला है. इसी के साथ एमआईसी में कैलाश विजयवर्गीय समर्थकों की संख्या चार है. यह हैं राजेंद्र राठौर, जीतू यादव, मनीष मामा और अभिषेक शर्मा.

इनके अलावा निगम सभापति मुन्ना लाल यादव भी कैलाश विजयवर्गीय के कट्टर समर्थक हैं. वैसे स्थानीय समीकरणों के हिसाब से मेयर पुष्यमित्र भार्गव को भी कैलाश विजयवर्गीय का समर्थक माना जा सकता है. इस तरह निगम परिषद में कैलाश विजयवर्गीय का बोलबाला है. एमआईसी की सूची भले ही पुष्यमित्र भार्गव के हस्ताक्षर से जारी की गई हो लेकिन इसकी मंजूरी प्रदेश के भाजपा नेतृत्व ने दी है. इसमें सामाजिक क्षेत्रीय समीकरणों का भी ध्यान रखा गया है.

सभी विधायकों और विधान सभा चुनाव हारे प्रत्याशियों की चली है लेकिन सांसद शंकर लालवानी को झटका लगा है. एमआईसी में मचे घमासान के कारण ऐसा लग रहा था कि सूची दो-तीन दिन और लटक जाएगी लेकिन जैसे ही अपनी 25 दिन की विदेश यात्रा को समाप्त कर कैलाश विजवर्गीय आज इंदौर लौटे वैसे ही सूची जारी कर दी गई। सूत्रों के अनुसार विभागों का आवंटन पुष्यमित्र भार्गव पर छोड़ दिया गया है। मेयर अपने हिसाब से विभागों का वितरण करेंगे। निगम के कामकाज के अनुसार सार्वजनिक कार्य, स्वास्थ्य, राजस्व और शिक्षा समिति महत्वपूर्ण होती है। देखना है इन 4 समितियों में किन एमआईसी सदस्यों को महत्त्व मिलता है.

नव भारत न्यूज

Next Post

निशानेबाजी विश्व कप में भारत की सोना-चांदी

Fri Aug 19 , 2022
चांगवोंग, 18 अगस्त (वार्ता) भारत के राहुल जाखड़ ने अपनी स्वर्णिम फॉर्म को बरकरार रखते हुए चांगवोंग 2022 निशानेबाजी विश्व कप में गुरुवार को स्वर्ण पदक जीता, जबकि अवनि लेखरा ने रजत और पूजा अग्रवाल ने कांस्य पदक हासिल किया। राहुल ने चांगवोंग 2022 के पहले दिन पी3 मिश्रित 25 […]