कांग्रेस चुनाव कराने से डरती है, अब निकाय चुनाव में भी बुरी तरह हारेंगे

विधायक रोहाणी बोले: कांग्रेस ने न्यायालयीन प्रक्रिया में उलझाकर ओबीसी हितों को कुचलने का काम किया
जबलपुर: कांग्रेस चुनाव कराने से हमेशा डरती है क्योंकि उनको इस बात का संज्ञान था कि उनका जनाधार पूरी तरह से समाप्त हो चुका है, जिस प्रकार विधान सभा उपचुनाव में उनकी हार हुई थी उसी प्रकार निकाय चुनाव में भी वो बुरी तरह से हारेंगे। शीघ्र चुनाव कराये जाने एवं अन्य पिछडा वर्ग आरक्षण के साथ कराये जाने का पुरजोर प्रयास भाजपा सरकार द्वारा किया जा रहा है।ये बातें विधायक रोहाणी ने भाजपा संभागीय कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता मेें कहीं। उन्होंने पत्रकारों सेे चर्चा करते हुए कहा कि भाजपा सरकार व संगठन हमेशा से नगरीय/ग्रामीण निकायो के चुनाव का पक्षधररहा है।

नगरीय निकायों के चुनाव प्रमुख रूप से नवम्बर 2019 को होना निर्धारित थे, परन्तु तत्समय कांग्रेस सरकार द्वारा चुनाव नहीं कराये। भाजपा सरकार ने तो करोना काल के समय भी चुनाव कराये जाने की आरक्षण/परिसीमन की कार्यवाही पूर्ण कर ली थी कि निकायों का चुनाव कराया जाए। लेकिन कांग्रेस ने अपने याचिकाकर्ताओं मनमोहन नागर, जया ठाकुर व सैयद जाफर के माध्यम से कोर्ट में प्रकरण दाखिल किया गया। इस तरहन्यायालयीन प्रक्रिया में उलझाकर ओबीसी हितों को कुचलने का काम कांग्रेस द्वारा किया गया है। कांग्रेस नहीं चाहती थी चुनाव हो। याचिकायें लगवाकर चुनाव रूकवा दिए गए।

फैसले पर संशोधन का आग्रह करेगी सरकारश्री रोहाणी ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान कहा कि बिना ओबीसी आरक्षण के नगरीय निकाय एवं पंचायत चुनाव कराये जाने की वर्तमान परिस्थिति कांग्रेस के कारण निर्मित हुई है। नगरीय निकाय एवं पंचायत चुनाव बिना ओबीसी आरक्षण करने के संबंध में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर मध्यप्रदेश सरकार पारित आदेश में संशोधन का आवेदन दायर करके पुन: अदालत से आग्रह करेगी कि मध्यप्रदेश में ओबीसी आरक्षण के साथ ही पंचायत एवं स्थानीय निकायचुनाव सम्पन्न हों।

असली ओबीसी विरोधी चेहराश्री रोहाणी ने कहा कि वह कमलनाथ सरकार ही थी, जिसने विधानसभा में 8 जुलाई 2019 को मध्यप्रदेश लोकसेवा आरक्षण संशोधन विधेयक में यह भ्रामक और असत्य आंकड़ा प्रस्तुत किया कि अन्य पिछड़े वर्ग की मध्य प्रदेश में कुल आबादी सिर्फ 27 प्रतिशत है। यह कांग्रेस का वह असली ओबीसी विरोधी चेहराहै जो मध्यप्रदेश की विधानसभा के दस्तावेजों में सदैव के लिए साक्ष्य बन गया है।
ये रहे उपस्थित
पत्रकार वार्ता में विधायक अशोक रोहाणी के साथ नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर, प्रदेश कोषाध्यक्ष अखिलेश जैन, पूर्व महापौर डॉ स्वाति गोड़बोले उपस्थित थे।

नव भारत न्यूज

Next Post

निवेशकों का मध्यप्रदेश में खुले दिल से स्वागतः चौहान

Sat May 14 , 2022
मुख्यमंत्री की स्टार्टअप इन्वेस्टर्स से हुई टेबल कॉन्फ्रेंस इंदौर:मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्टार्टअप कॉन्क्लेव में आज स्टार्टअप इन्वेस्टर से राउण्ड टेबल चर्चा की और कहा कि आपके लिए मध्यप्रदेश के द्वार सदैव खुले हुए हैं। हम खुले दिल और दिमाग से आपका स्वागत करते हैं. मध्यप्रदेश के युवाओं में […]