व्यापारी बिजनिस का ट्रांसफार्म कर जीडीपी में योगदान दें: डॉ. सारस्वत

उद्यमी सुरक्षा एवं सरलीकरण नीति पर चेम्बर में चर्चा में नीति आयोग के सदस्य ने कहा…
ग्वालियर: देश की जीडीपी व्यापार एवं उद्योग से ही बनती है। इसलिए व्यापारियों को अपने बिजनिस को ट्रांसफार्म करने के गुर सीखना चाहिए और चेम्बर ऑफ कॉमर्स को इसमें अपनी सक्रिय भूमिका निभाना चाहिए। यह बात बुधवार को उद्यमी सुरक्षा, सम्मान एवं सरलीकरण नीति पर चेम्बर भवन में आयोजित चर्चा में मुख्य अतिथि नीति आयोग के सदस्य डॉ. विजय कुमार सारस्वत ने कही।डॉ. सारस्वत ने कहा कि ग्वालियर मेरा गृह नगर है और मैं यहां के व्यापार एवं उद्योग से भलीभांति परिचित हूँ। आपने कहा कि व्यापार एवं उद्योग से जो रेवेन्यू आता है, जिससे जीडीपी बनती है।

आपके द्बारा चुकाये गये कर को सरकार विकास रूपी सुविधा के रूप में आपको वापिस करती है। जो भी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलप किया जाता है, वह आप लोगों के लिए ही है। एमएसएमई को सरकार द्बारा 3 लाख 60 हजार करोड़ रूपये का कोलेटरल दिया गया है, यह भी आपसे मिले कर से ही दिया जा रहा है। व्यापार एवं उद्योग का मॉडर्नाइजेशन आज बहुत जरूरी है, यदि हमने इसे नहीं अपनाया तो इनकी ग्रोथ रूक जाएगी। आपने कहा कि मध्यप्रदेश सरसों की फसल में अग्रणी राज्य है। हमें ग्वालियर में फूड प्रोसेसिंग इण्डस्ट्री लगानी चाहिए। मप्र से गुजरात सरसों जाता है और वह इसे प्रोसेस करके फॉचून जैसे ब्राण्ड बनाकर सेल कर रहे हैं तो हमारे प्रदेश और ग्वालियरवासियों को इसमें पीछे क्यों रहना चाहिए। आपने कहा कि आज आपके द्बारा जो मुझे सुझाव दिये गये हैं। उन सुझावों को मैं नीतियों में समावेश करने की कोशिश करूंगा।
इस अवसर पर अध्यक्ष डॉ. प्रवीण अग्रवाल ने कहा कि नीति आयोग के साथ चर्चा का यह दूसरा अवसर है। आपने कहा कि देश में आर्थिक असमानता की का प्रश्न उठता है। इस प्रश्न का हल उद्योग व्यापार को प्रोत्साहित एवं नवीन निवेश को आकर्षित करके किया जा सकता है, इससे रोजागार में वृद्घि होगी, लोगों का जीवन स्तर सुधरेगा। आपने कहा कि आज की युवा पीढी पैतृक व्यवसाय को न संभालकर शासकीय एवं मल्टीनेशनल नौकरियों की तरफ आकर्षिक हो रही है।

मानसेवी सचिव दीपक अग्रवाल ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्रों के लिए वास्तविक सिंगल विण्डो सिस्टम गुजरात की तरह मध्यप्रदेश में भी होना चाहिए जिससे उद्यमियों को विभिन्न विभागों के चक्कर न लगाना पड़ें। आपने कहा कि व्यापार एवं उद्योग के ट्रांसफार्म के लिए चेम्बर ऑफ कॉमर्स कार्य करेगा।कार्यक्रम में मुख्य अतिथि डॉ. विजय कुमार सारस्वत को पदाधिकारियों द्बारा उद्यमियों को वृद्घावस्था पेंशन, उद्यमी बीमा, आपदा-विपदा के समय ब्याज रहित ऋण, व्यापार को सरल बनाया जाए, आरक्षण का आधार आर्थिक होना चाहिए, पर्यावरण का संरक्षण, यूनिवर्सल आईडेंटिफिकेशन नंबर लागू किया जाए, सार्वजनिक परिवहन के लिए देशभर में एक कार्ड लागू किया जाए, कौशल विकास पर अधिक से अधिक ध्यान दिया जाए, सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं को सुलभ और सस्ता बनाया जाए, हाईवे पर सडक़ दुर्घटनाएं रोकने के लिए सौलर लाइट लगाई जाएं आदि निम्नलिखित सुझावों का ज्ञापन भेंट किया गया।
इनकी रही उपस्थिति
कार्यक्रम के अंत में मुख्य अतिथि डॉ. सारस्वत को स्मृति चिन्ह उपाध्यक्ष डॉ. राकेश अग्रवाल द्बारा दिया गया।इस अवसर पर आशीष जैन, संजय गुप्ता, राजेश माखीजा, अनिल दुबे, आशुतोष मिश्रा, रवि कुमार गर्ग, विकास अग्रवाल, नंदकिशोर गोयल, अमर सिंह ग्रोवर, अशोक शर्मा प्रेमी, रोशन गाबरा, आशीष अग्रवाल, संजय अग्रवाल, सुशांत सिंघल, मुकेश गोयल, विवेक बंसल सहित सदस्य-हेमंत निगम, गौरव जैन, अभिषेक लोहिया, योगेश गर्ग, राहुल शर्मा, संतोष कुमार जैन, सतीश गोयल, नवीन रस्तोगी, हितेश कुमार सिंघल, सोबरन सिंह तोमर सहित काफी संख्या में व्यापारी एवं उद्योगपति उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन दीपक अग्रवाल द्बारा एवं आभार पवन कुमार अग्रवाल द्बारा व्यक्त किया गया।

Next Post

मूल्यांकन कर सेवा समाप्त करना कलंकित आदेश नहीं

Thu Jul 11 , 2024
हाईकोर्ट ने खारिज की याचिका जबलपुर: लोकायुक्त विभाग द्वारा परिवीक्षा अवधि में बिना विभागीय जांच किये सेवा से हटाये जाने को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी। हाईकोर्ट जस्टिस विवेक अग्रवाल की एकलपीठ ने अपने आदेश में कहा है कि मूल्यांकन कर सेवा समाप्त करना कलंकित […]

You May Like