महवीश, विराज, गुरसिमरत और नीलेश बने चैंपियन

जालंधर (वार्ता) इंडियन ऑयल पंजाब स्टेट सब-जूनियर बैडमिंटन रैंकिंग टूर्नामेंट बुधवार को सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ। टूर्नामेंट में विभिन्न वर्गो के हुए मुकाबलों में महवीश, विराज,गुरसिमरत और नीलेश चैंपियन बने।

इस अवसर पर जिला बैडमिंटन एसोसिएशन के सचिव एवं पूर्व राष्ट्रीय खिलाड़ी रितिन खन्ना ने बताया कि रायजादा हंसराज बैडमिंटन स्टेडियम में सात जुलाई से शुरू हुये टूर्नामेंट में अंडर-15 और अंडर-17 आयु वर्ग की 10 अधिक स्पर्धाओं में राज्य के 20 जिलों के 400 से खिलाड़ियों ने भाग लिया। चार दिनों तक चले टूर्नामेंट में कुल 471 मैच खेले गये। विजेताओं को ओलिंपियन दीपांकर अकादमी की तरफ से आकर्षक पुरस्कार भी वितरित किए गए।

अंडर 15 लड़कियों के एकल वर्ग में गुरदासपुर की महवीश कौर ने लुधियाना की अमेलिया भाखू को 21-10, 21-15 से मात दी। आराध्या सिंह व इनायत गुलाटी तृतीय रहीं।

अंडर 17 लड़कों के एकल वर्ग में नीलेश सेठ (अमृतसर) ने जालंधर के समर्थ भारद्वाज को 21-18, 21-12 से हराया।  इशान और गीतांशु शर्मा तीसरे स्थान पर रहे। अंडर 17 लड़कियों के एकल वर्ग में गुरसिमरत कौर (लुधियाना) ने गुरदासपुर की मनमीत कौर को 21-14 और 21-12 से मात दी। महवीश कौर और अमिया सचदेवा तृतीय स्थान पर रहीं।

लड़कों के युगल वर्ग अंडर 15 में वीरेन सेठ और जोरावर सिंह (जालंधर) की जोड़ी ने आरव पोरवाल और कैवल्य सूद को 21-13, 21-15 से हराया। लडको के एकल वर्ग अंडर 15 में जालंधर के विराज शर्मा ने लुधियाना के वजीर सिंह को 21-16, 21-12 से मात दी। मिश्रित युगल अंडर 15 में विराज शर्मा और दिशिका की जोड़ी विजयी रही जबकि शिवेन ढींगरा व अनन्या निझावन दूसरे नंबर पर रहे।  लड़कियों के अंडर 15 युगल वर्ग में अमिया सचदेव और महवीश कौर की जोड़ी विजेता रहीं और अनन्या निझावन और दिशिका की जोड़ी दूसरे स्थान पर रहीं।

लड़को के अंडर 17 युगल वर्ग में अखिल अरोड़ा व जगशेर सिंह खंगूड़ा की जोड़ी प्रथम स्थान पर रहीं जबकि कृतज्ञ अरोड़ा व साहिब दूसरे स्थान पर रहे। कार्तिक कालड़ा व माधव, कुलप्रीत व सूजल की जोड़ी तृतीय रही। लड़कियों के युगल वर्ग अंडर 17 में मनमीत कौर (गुरदासपुर) और सीजा (संगरूर) की जोड़ी विजेता बनीं। आरुषि मेहता व समायरा अरोड़ा की जोड़ी दूसरे स्थान पर रही।  मिश्रित युगल अंडर 17 में समर्थ भारद्वाज व सीजा की जोड़ी विजेता बनी जबकि वंश बत्रा और मनमीत कौर की जोड़ी दूसरे, कार्तिक कालड़ा तथा अनन्या निझावन और नीलेश सेठ तथा असीसप्रीत कौर की जोड़ी तृतीय स्थान पर रही।

Next Post

क्या सचमुच जंगल राज से मुक्त हुआ बिहार ?

Thu Jul 11 , 2024
बुद्ध, महावीर और आचार्य चाणक्य जैसे देश के सबसे महान संतों और महापुरुषों को जन्म देने वाली, राजनीतिक रूप से सबसे ज्यादा चेतना वाली भूमि बिहार अभी भी लगता है जंगल राज्य से मुक्त नहीं हुई है. जबकि यहां पिछले 20 वर्षों से सुशासन बाबू के नाम से विख्यात नीतीश […]

You May Like