पेट्रोल-डीजल की कीमतें 21 वें दिन स्थिर

नयी दिल्ली 25 नवंबर (वार्ता) अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में जारी तेजी के बीच आज लगातार 21 वें दिन घरेलू स्तर पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया।
सरकारी तेल विपणन कंपनियों ने आज पेट्रोल और डीजल के भाव को स्थिर रखा।तेल उत्पादक देशों द्वारा उत्पादन नहीं बढ़ाने के बाद भारत और अमेरिका ने अपने रणनीतिक भंडार से कच्चे तेल को जारी करने की घोषणा की है।
चीन , जापान और दक्षिण कोरिया से भी रणनीतिक भंडार से तेल जारी करने की अपील की गयी है।
भारत 50 लाख बैरल तेल जारी करेगा।
भारत का रणनीतिक तेल भंडार 3.8 करोड़ बैरल का है और यह देश के पूर्वी एवं दक्षिण तट पर स्थित है।
इस घोषणा के बाद तेल की कीमतों पर कुछ दबाव दिखा है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में इनकी कीमतें लगभग स्थिर रही है।

केन्द्र सरकार द्वारा पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में क्रमश: पांच रुपये तथा 10 रुपये प्रति लीटर की कमी करने से देश में इसकी कीमतों में कमी आयी थी।
इसके बाद उत्तर प्रदेश, कर्नाटक सहित देश के 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने इन दोनों उत्पादों पर मूल्य वर्धित कर (वैट) में कमी की है।इससे संबंधित राज्यों में इन दोनों पेट्रोलियम उत्पाद की कीमतों में और कमी आयी है।

तेल उत्पादक देशाें के संगठन ओपेक के उत्पादन में फिर से बदलाव के संकेत दिये जाने के बाद से कच्चे तेल में बढोतरी हो रही है।
गुरूवार को सिंगापुर में ब्रेट क्रूड 0.18 प्रतिशत बढ़कर 82.40 डॉलर प्रति बैरल पर और अमेरिकी क्रूड 0.01 प्रतिशत चढ़कर 78.40 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा है।

घरेलू बाजार में 21 वें दिन भी पेट्रोल और डीजल के दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ।
राजधानी दिल्ली में देश की सबसे बड़ी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल) के पंप पर पेट्रोल की कीमत 103.97 रुपये प्रति लीटर और डीजल के दाम 86.67 रुपये प्रति लीटर पर टिके रहे।

पेट्रोल-डीजल के मूल्यों की रोजाना समीक्षा होती है और उसके आधार पर हर दिन सुबह छह बजे से नयी कीमतें लागू की जाती हैं।
देश के चार बड़े महानगरों में आज पेट्रोल और डीजल के दाम इस प्रकार रहे:
शहर का नाम——पेट्रोल (रुपये/लीटर)——(डीजल रुपये/लीटर)
दिल्ली————— 103.97-————— 86.67
मुंबई-—————109.98—————— 94.14
चेन्नई—————101.40 -————— 91.43
कोलकाता————104.67—————-89.79

नव भारत न्यूज

Next Post

फिर आदिवासियों का दिल जीतने के प्रयास में शिवराज

Thu Nov 25 , 2021
मालवा- निमाड़ की डायरी संजय व्यास मालवा-निमाड़ अंचल की 65 सीटों पर हार-जीत प्रदेश में सत्ता दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते आई है. यहां अधिकांश आदिवासी बहुल क्षेत्र हैं, विशेषकर निमाड़ के. 2023 के विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रदेश के प्रमुख दल कांग्रेस और भाजपा में आदिवासी समुदाय को […]