Breaking News :

सतना,  शहर में स्थित एक निजी अस्पताल के संचालक की ओर से की गई शिकायत के आधार पर लोकायुक्त रीवा के 20 सदस्यीय दल ने आयुक्त नगर निगम सतना को 22 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया. इसमें 22 लाख रुपए की नगदी व 10 लाख रुपए का सोना शामिल है. निगमायुक्त के खिलाफ भ्रष्टïाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की गई. डीएसपी लोकायुक्त देवेश कुमार पाठक ने जानकारी देते हुए बताया कि शहर में स्थित सिटी हास्पिटल के संचालक डा. राजकुमार अग्रवाल की ओर से इस आशय की शिकायत की गई थी कि उनके अस्पताल के अतिक्रमण को यथावत रखे जाने के एवज में आयुक्त ननि सुरेंद्र कुमार कथूरिया द्वारा रिश्वत के तौर पर 50 लाख रुपए की मांग की जा रही है. शिकायत का सत्यापन होने के बाद लोकायुक्त दल की ओर से टै्रप की व्यूह रचना तैयार कर ली गई. जिसके आधार पर रविवार की दोपहर तकरीबन पौने तीन बजे निगमायुक्त के आवास पर उन्हें रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ दबोच लिया गया. लोकायुक्त टीम ने निगमायुक्त के आवास से 12 लाख रुपए नगद और 10 लाख रुपए का सोना बरामद कर लिया है. निगमायुक्त के खिलाफ भ्रष्टïाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज करते हुए कार्रवाई की गई है. राज्य प्रशासनिक सेवा स्तर के अधिकारी का इतनी बड़ी रकम लेते हुए रंगे पकड़े जाने की घटना जिले में पहली बार सामने आई है."/> सतना,  शहर में स्थित एक निजी अस्पताल के संचालक की ओर से की गई शिकायत के आधार पर लोकायुक्त रीवा के 20 सदस्यीय दल ने आयुक्त नगर निगम सतना को 22 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया. इसमें 22 लाख रुपए की नगदी व 10 लाख रुपए का सोना शामिल है. निगमायुक्त के खिलाफ भ्रष्टïाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की गई. डीएसपी लोकायुक्त देवेश कुमार पाठक ने जानकारी देते हुए बताया कि शहर में स्थित सिटी हास्पिटल के संचालक डा. राजकुमार अग्रवाल की ओर से इस आशय की शिकायत की गई थी कि उनके अस्पताल के अतिक्रमण को यथावत रखे जाने के एवज में आयुक्त ननि सुरेंद्र कुमार कथूरिया द्वारा रिश्वत के तौर पर 50 लाख रुपए की मांग की जा रही है. शिकायत का सत्यापन होने के बाद लोकायुक्त दल की ओर से टै्रप की व्यूह रचना तैयार कर ली गई. जिसके आधार पर रविवार की दोपहर तकरीबन पौने तीन बजे निगमायुक्त के आवास पर उन्हें रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ दबोच लिया गया. लोकायुक्त टीम ने निगमायुक्त के आवास से 12 लाख रुपए नगद और 10 लाख रुपए का सोना बरामद कर लिया है. निगमायुक्त के खिलाफ भ्रष्टïाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज करते हुए कार्रवाई की गई है. राज्य प्रशासनिक सेवा स्तर के अधिकारी का इतनी बड़ी रकम लेते हुए रंगे पकड़े जाने की घटना जिले में पहली बार सामने आई है."/> सतना,  शहर में स्थित एक निजी अस्पताल के संचालक की ओर से की गई शिकायत के आधार पर लोकायुक्त रीवा के 20 सदस्यीय दल ने आयुक्त नगर निगम सतना को 22 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया. इसमें 22 लाख रुपए की नगदी व 10 लाख रुपए का सोना शामिल है. निगमायुक्त के खिलाफ भ्रष्टïाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की गई. डीएसपी लोकायुक्त देवेश कुमार पाठक ने जानकारी देते हुए बताया कि शहर में स्थित सिटी हास्पिटल के संचालक डा. राजकुमार अग्रवाल की ओर से इस आशय की शिकायत की गई थी कि उनके अस्पताल के अतिक्रमण को यथावत रखे जाने के एवज में आयुक्त ननि सुरेंद्र कुमार कथूरिया द्वारा रिश्वत के तौर पर 50 लाख रुपए की मांग की जा रही है. शिकायत का सत्यापन होने के बाद लोकायुक्त दल की ओर से टै्रप की व्यूह रचना तैयार कर ली गई. जिसके आधार पर रविवार की दोपहर तकरीबन पौने तीन बजे निगमायुक्त के आवास पर उन्हें रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ दबोच लिया गया. लोकायुक्त टीम ने निगमायुक्त के आवास से 12 लाख रुपए नगद और 10 लाख रुपए का सोना बरामद कर लिया है. निगमायुक्त के खिलाफ भ्रष्टïाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज करते हुए कार्रवाई की गई है. राज्य प्रशासनिक सेवा स्तर के अधिकारी का इतनी बड़ी रकम लेते हुए रंगे पकड़े जाने की घटना जिले में पहली बार सामने आई है.">

22 लाख रिश्वत लेते पकड़े गए सतना निगम आयुक्त

2017/06/27



सतना,  शहर में स्थित एक निजी अस्पताल के संचालक की ओर से की गई शिकायत के आधार पर लोकायुक्त रीवा के 20 सदस्यीय दल ने आयुक्त नगर निगम सतना को 22 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया. इसमें 22 लाख रुपए की नगदी व 10 लाख रुपए का सोना शामिल है. निगमायुक्त के खिलाफ भ्रष्टïाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई की गई. डीएसपी लोकायुक्त देवेश कुमार पाठक ने जानकारी देते हुए बताया कि शहर में स्थित सिटी हास्पिटल के संचालक डा. राजकुमार अग्रवाल की ओर से इस आशय की शिकायत की गई थी कि उनके अस्पताल के अतिक्रमण को यथावत रखे जाने के एवज में आयुक्त ननि सुरेंद्र कुमार कथूरिया द्वारा रिश्वत के तौर पर 50 लाख रुपए की मांग की जा रही है. शिकायत का सत्यापन होने के बाद लोकायुक्त दल की ओर से टै्रप की व्यूह रचना तैयार कर ली गई. जिसके आधार पर रविवार की दोपहर तकरीबन पौने तीन बजे निगमायुक्त के आवास पर उन्हें रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ दबोच लिया गया. लोकायुक्त टीम ने निगमायुक्त के आवास से 12 लाख रुपए नगद और 10 लाख रुपए का सोना बरामद कर लिया है. निगमायुक्त के खिलाफ भ्रष्टïाचार निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज करते हुए कार्रवाई की गई है. राज्य प्रशासनिक सेवा स्तर के अधिकारी का इतनी बड़ी रकम लेते हुए रंगे पकड़े जाने की घटना जिले में पहली बार सामने आई है.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts