Breaking News :

मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं खामलाखेड़ी कॉलोनी के रहवासी संत हिरदाराम नगर, पंचायत की एक कॉलोनी ऐसी भी है जहां पर 15 सालों से रहवासी विकास का इंतजार कर रहे हैं. ईंटखेड़ी पंचायत की खामलाखेड़ी कॉलोनी में 15 साल बाद भी विकास नहीं हो पाया है. इस कॉलोनी में ना तो पानी की कोई व्यवस्था है और ना ही यहां की सड़कें चलने लायक बची हैं. इस कॉलोनी को बसे हुए 15 साल हो चुके हैं लेकिन 15 सालों से कॉलोनी के रहवासी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में जीवन यापन करने को मजबूर हैं. खजूरी पंचायत के समीप बसी इस कॉलोनी में आधे वोटर ईंटखेड़ी पंचायत के हैं और आधे वोटर खजूरी पंचायत के हैं जिसकी वजह से भी कॉलोनी में विकास की गति धीमी है. जब भी रहवासी सड़क के लिए बोलते हैं तो दूसरी पंचायत का कहकर टाल दिया जाता है. रहवासियों का कहना है कि जब से कॉलोनी बनी है तब से मिट्टी भी हम लोंगो द्वारा सड़कों के गड्डों पर डाली जाती है. एक मात्र हैंडपम्प के भरोसे रहवासी इस कॉलोनी में पानी के लिए एकमात्र हैंडपम्प है जो की नाली के बिल्कुल पास में बना हुआ है. मजबूरी में रहवासियों को उसी हैंडपंप का गंदा पानी पीना पड़ रहा था लेकिन यह हैंडपंप भी पिछले कुछ महीनों से खराब पड़ा हुआ है जिसकी वजह से रहवासियों को दूर-दूर से हैंडपम्पों से पानी लाना पड़ता है. अधिकत्तर लोंगों को नहीं मिले पट्टे यहां रहने वाले अधिकतर लोगों के पास पट्टे नहीं है. लोगों ने कई बार पट्टे की मांग की है लेकिन अभी तक इन लोगों के पट्टे नहीं बनाए गए हैं जिसकी वजह से लोगों को अपने मकानों पर मालिकाना हक नहीं मिल पा रहा है जबकि इस कॉलोनी का निर्माण पंचायत द्वारा ही किया गया है. जिसकी रसीद ही इन लोगों के पास है. पट्टे, सड़क और पानी यहां की समस्या है जिसके लिए कई बार अवगत कराया जा चुका है. लेकिन इसके बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है. हर बार आश्वासन तो दिए जाते हैं लेकिन आश्वासनों को पूरा नहीं किया जाता है. -आकाश मेवाड़ा, रहवासी मेरी पंचायत में विकास कार्य हो रहे हैं. कई जगह सड़क का निर्माण किया गया है खामलाखेड़ी की सड़क के लिए प्रस्ताव बन रहा है. जैसे ही पास होगा सड़क का निर्माण किया जाएगा. -पदम सिंह मेवाड़ा, सरपंच, ईंटखेड़ी पंचाय"/> मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं खामलाखेड़ी कॉलोनी के रहवासी संत हिरदाराम नगर, पंचायत की एक कॉलोनी ऐसी भी है जहां पर 15 सालों से रहवासी विकास का इंतजार कर रहे हैं. ईंटखेड़ी पंचायत की खामलाखेड़ी कॉलोनी में 15 साल बाद भी विकास नहीं हो पाया है. इस कॉलोनी में ना तो पानी की कोई व्यवस्था है और ना ही यहां की सड़कें चलने लायक बची हैं. इस कॉलोनी को बसे हुए 15 साल हो चुके हैं लेकिन 15 सालों से कॉलोनी के रहवासी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में जीवन यापन करने को मजबूर हैं. खजूरी पंचायत के समीप बसी इस कॉलोनी में आधे वोटर ईंटखेड़ी पंचायत के हैं और आधे वोटर खजूरी पंचायत के हैं जिसकी वजह से भी कॉलोनी में विकास की गति धीमी है. जब भी रहवासी सड़क के लिए बोलते हैं तो दूसरी पंचायत का कहकर टाल दिया जाता है. रहवासियों का कहना है कि जब से कॉलोनी बनी है तब से मिट्टी भी हम लोंगो द्वारा सड़कों के गड्डों पर डाली जाती है. एक मात्र हैंडपम्प के भरोसे रहवासी इस कॉलोनी में पानी के लिए एकमात्र हैंडपम्प है जो की नाली के बिल्कुल पास में बना हुआ है. मजबूरी में रहवासियों को उसी हैंडपंप का गंदा पानी पीना पड़ रहा था लेकिन यह हैंडपंप भी पिछले कुछ महीनों से खराब पड़ा हुआ है जिसकी वजह से रहवासियों को दूर-दूर से हैंडपम्पों से पानी लाना पड़ता है. अधिकत्तर लोंगों को नहीं मिले पट्टे यहां रहने वाले अधिकतर लोगों के पास पट्टे नहीं है. लोगों ने कई बार पट्टे की मांग की है लेकिन अभी तक इन लोगों के पट्टे नहीं बनाए गए हैं जिसकी वजह से लोगों को अपने मकानों पर मालिकाना हक नहीं मिल पा रहा है जबकि इस कॉलोनी का निर्माण पंचायत द्वारा ही किया गया है. जिसकी रसीद ही इन लोगों के पास है. पट्टे, सड़क और पानी यहां की समस्या है जिसके लिए कई बार अवगत कराया जा चुका है. लेकिन इसके बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है. हर बार आश्वासन तो दिए जाते हैं लेकिन आश्वासनों को पूरा नहीं किया जाता है. -आकाश मेवाड़ा, रहवासी मेरी पंचायत में विकास कार्य हो रहे हैं. कई जगह सड़क का निर्माण किया गया है खामलाखेड़ी की सड़क के लिए प्रस्ताव बन रहा है. जैसे ही पास होगा सड़क का निर्माण किया जाएगा. -पदम सिंह मेवाड़ा, सरपंच, ईंटखेड़ी पंचाय"/> मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं खामलाखेड़ी कॉलोनी के रहवासी संत हिरदाराम नगर, पंचायत की एक कॉलोनी ऐसी भी है जहां पर 15 सालों से रहवासी विकास का इंतजार कर रहे हैं. ईंटखेड़ी पंचायत की खामलाखेड़ी कॉलोनी में 15 साल बाद भी विकास नहीं हो पाया है. इस कॉलोनी में ना तो पानी की कोई व्यवस्था है और ना ही यहां की सड़कें चलने लायक बची हैं. इस कॉलोनी को बसे हुए 15 साल हो चुके हैं लेकिन 15 सालों से कॉलोनी के रहवासी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में जीवन यापन करने को मजबूर हैं. खजूरी पंचायत के समीप बसी इस कॉलोनी में आधे वोटर ईंटखेड़ी पंचायत के हैं और आधे वोटर खजूरी पंचायत के हैं जिसकी वजह से भी कॉलोनी में विकास की गति धीमी है. जब भी रहवासी सड़क के लिए बोलते हैं तो दूसरी पंचायत का कहकर टाल दिया जाता है. रहवासियों का कहना है कि जब से कॉलोनी बनी है तब से मिट्टी भी हम लोंगो द्वारा सड़कों के गड्डों पर डाली जाती है. एक मात्र हैंडपम्प के भरोसे रहवासी इस कॉलोनी में पानी के लिए एकमात्र हैंडपम्प है जो की नाली के बिल्कुल पास में बना हुआ है. मजबूरी में रहवासियों को उसी हैंडपंप का गंदा पानी पीना पड़ रहा था लेकिन यह हैंडपंप भी पिछले कुछ महीनों से खराब पड़ा हुआ है जिसकी वजह से रहवासियों को दूर-दूर से हैंडपम्पों से पानी लाना पड़ता है. अधिकत्तर लोंगों को नहीं मिले पट्टे यहां रहने वाले अधिकतर लोगों के पास पट्टे नहीं है. लोगों ने कई बार पट्टे की मांग की है लेकिन अभी तक इन लोगों के पट्टे नहीं बनाए गए हैं जिसकी वजह से लोगों को अपने मकानों पर मालिकाना हक नहीं मिल पा रहा है जबकि इस कॉलोनी का निर्माण पंचायत द्वारा ही किया गया है. जिसकी रसीद ही इन लोगों के पास है. पट्टे, सड़क और पानी यहां की समस्या है जिसके लिए कई बार अवगत कराया जा चुका है. लेकिन इसके बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है. हर बार आश्वासन तो दिए जाते हैं लेकिन आश्वासनों को पूरा नहीं किया जाता है. -आकाश मेवाड़ा, रहवासी मेरी पंचायत में विकास कार्य हो रहे हैं. कई जगह सड़क का निर्माण किया गया है खामलाखेड़ी की सड़क के लिए प्रस्ताव बन रहा है. जैसे ही पास होगा सड़क का निर्माण किया जाएगा. -पदम सिंह मेवाड़ा, सरपंच, ईंटखेड़ी पंचाय">

15 सालों से विकास का इंतजार

2017/12/30



मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं खामलाखेड़ी कॉलोनी के रहवासी संत हिरदाराम नगर, पंचायत की एक कॉलोनी ऐसी भी है जहां पर 15 सालों से रहवासी विकास का इंतजार कर रहे हैं. ईंटखेड़ी पंचायत की खामलाखेड़ी कॉलोनी में 15 साल बाद भी विकास नहीं हो पाया है. इस कॉलोनी में ना तो पानी की कोई व्यवस्था है और ना ही यहां की सड़कें चलने लायक बची हैं. इस कॉलोनी को बसे हुए 15 साल हो चुके हैं लेकिन 15 सालों से कॉलोनी के रहवासी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में जीवन यापन करने को मजबूर हैं. खजूरी पंचायत के समीप बसी इस कॉलोनी में आधे वोटर ईंटखेड़ी पंचायत के हैं और आधे वोटर खजूरी पंचायत के हैं जिसकी वजह से भी कॉलोनी में विकास की गति धीमी है. जब भी रहवासी सड़क के लिए बोलते हैं तो दूसरी पंचायत का कहकर टाल दिया जाता है. रहवासियों का कहना है कि जब से कॉलोनी बनी है तब से मिट्टी भी हम लोंगो द्वारा सड़कों के गड्डों पर डाली जाती है. एक मात्र हैंडपम्प के भरोसे रहवासी इस कॉलोनी में पानी के लिए एकमात्र हैंडपम्प है जो की नाली के बिल्कुल पास में बना हुआ है. मजबूरी में रहवासियों को उसी हैंडपंप का गंदा पानी पीना पड़ रहा था लेकिन यह हैंडपंप भी पिछले कुछ महीनों से खराब पड़ा हुआ है जिसकी वजह से रहवासियों को दूर-दूर से हैंडपम्पों से पानी लाना पड़ता है. अधिकत्तर लोंगों को नहीं मिले पट्टे यहां रहने वाले अधिकतर लोगों के पास पट्टे नहीं है. लोगों ने कई बार पट्टे की मांग की है लेकिन अभी तक इन लोगों के पट्टे नहीं बनाए गए हैं जिसकी वजह से लोगों को अपने मकानों पर मालिकाना हक नहीं मिल पा रहा है जबकि इस कॉलोनी का निर्माण पंचायत द्वारा ही किया गया है. जिसकी रसीद ही इन लोगों के पास है. पट्टे, सड़क और पानी यहां की समस्या है जिसके लिए कई बार अवगत कराया जा चुका है. लेकिन इसके बावजूद भी समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है. हर बार आश्वासन तो दिए जाते हैं लेकिन आश्वासनों को पूरा नहीं किया जाता है. -आकाश मेवाड़ा, रहवासी मेरी पंचायत में विकास कार्य हो रहे हैं. कई जगह सड़क का निर्माण किया गया है खामलाखेड़ी की सड़क के लिए प्रस्ताव बन रहा है. जैसे ही पास होगा सड़क का निर्माण किया जाएगा. -पदम सिंह मेवाड़ा, सरपंच, ईंटखेड़ी पंचाय


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts