Breaking News :

भोपाल,  आओ सखियों घर विच लोहड़ी जलाईये अपनी खुशियां बचेआ दी खुशियां संग मनाईय और पंजाबी भंगड़ा गिद्दा पर सबके कदम रुकने का नाम नहीं ले रहे थे. पंजाबी समाज के लोगों द्वारा राजधानी के अलग-अलग स्थानों पर लोहड़ी पर रंगारंग भव्य आयोजन किया गया, जिसमें समाज के लोगों ने तिल, गुड़, रेवड़ी, मक्के के दाने और मूंगफली डालकर पूजा करके लोहड़ी जलाई. इस अवसर पर राजधानी के अलग-अलग होटलों में प्री-मकर संक्रांति सेलिब्रेशन के साथ-साथ लोगों ने पतंग उड़ाकर लोहड़ी और प्री-मकर संक्रांति का लुत्फ उठाया. इस अवसर पर कलाकारों ने पंजाबी संस्कृति की रंगारंग छटा बिखेरी. घर में नई बहू आने और बच्चे के पैदा होने पर भी मनाते हैं. सुरमयी लय व ताल देखने को मिली-प्रवक्ता गुरुचरण ङ्क्षसह अरेरा ने बताया कि लोहड़ी की संध्या में पंजाबी लोक गीतों ने खूबसूरत समां बांधा. मन को मोह लेने वाले गीतों पर भंगड़ा एवं गिद्दा की सुरमयी लय व ताल देखने को मिली.इस अवसर पर सैकड़ों लोगों ने एक-दूसरे को मुबारकबाद दी."/> भोपाल,  आओ सखियों घर विच लोहड़ी जलाईये अपनी खुशियां बचेआ दी खुशियां संग मनाईय और पंजाबी भंगड़ा गिद्दा पर सबके कदम रुकने का नाम नहीं ले रहे थे. पंजाबी समाज के लोगों द्वारा राजधानी के अलग-अलग स्थानों पर लोहड़ी पर रंगारंग भव्य आयोजन किया गया, जिसमें समाज के लोगों ने तिल, गुड़, रेवड़ी, मक्के के दाने और मूंगफली डालकर पूजा करके लोहड़ी जलाई. इस अवसर पर राजधानी के अलग-अलग होटलों में प्री-मकर संक्रांति सेलिब्रेशन के साथ-साथ लोगों ने पतंग उड़ाकर लोहड़ी और प्री-मकर संक्रांति का लुत्फ उठाया. इस अवसर पर कलाकारों ने पंजाबी संस्कृति की रंगारंग छटा बिखेरी. घर में नई बहू आने और बच्चे के पैदा होने पर भी मनाते हैं. सुरमयी लय व ताल देखने को मिली-प्रवक्ता गुरुचरण ङ्क्षसह अरेरा ने बताया कि लोहड़ी की संध्या में पंजाबी लोक गीतों ने खूबसूरत समां बांधा. मन को मोह लेने वाले गीतों पर भंगड़ा एवं गिद्दा की सुरमयी लय व ताल देखने को मिली.इस अवसर पर सैकड़ों लोगों ने एक-दूसरे को मुबारकबाद दी."/> भोपाल,  आओ सखियों घर विच लोहड़ी जलाईये अपनी खुशियां बचेआ दी खुशियां संग मनाईय और पंजाबी भंगड़ा गिद्दा पर सबके कदम रुकने का नाम नहीं ले रहे थे. पंजाबी समाज के लोगों द्वारा राजधानी के अलग-अलग स्थानों पर लोहड़ी पर रंगारंग भव्य आयोजन किया गया, जिसमें समाज के लोगों ने तिल, गुड़, रेवड़ी, मक्के के दाने और मूंगफली डालकर पूजा करके लोहड़ी जलाई. इस अवसर पर राजधानी के अलग-अलग होटलों में प्री-मकर संक्रांति सेलिब्रेशन के साथ-साथ लोगों ने पतंग उड़ाकर लोहड़ी और प्री-मकर संक्रांति का लुत्फ उठाया. इस अवसर पर कलाकारों ने पंजाबी संस्कृति की रंगारंग छटा बिखेरी. घर में नई बहू आने और बच्चे के पैदा होने पर भी मनाते हैं. सुरमयी लय व ताल देखने को मिली-प्रवक्ता गुरुचरण ङ्क्षसह अरेरा ने बताया कि लोहड़ी की संध्या में पंजाबी लोक गीतों ने खूबसूरत समां बांधा. मन को मोह लेने वाले गीतों पर भंगड़ा एवं गिद्दा की सुरमयी लय व ताल देखने को मिली.इस अवसर पर सैकड़ों लोगों ने एक-दूसरे को मुबारकबाद दी.">

'ढोल-जगीरे दा पांदा फिरे तमाशे...' लोहड़ी आयोजन पर झूमा पंजाबी समाज

2017/01/14



भोपाल,  आओ सखियों घर विच लोहड़ी जलाईये अपनी खुशियां बचेआ दी खुशियां संग मनाईय और पंजाबी भंगड़ा गिद्दा पर सबके कदम रुकने का नाम नहीं ले रहे थे. पंजाबी समाज के लोगों द्वारा राजधानी के अलग-अलग स्थानों पर लोहड़ी पर रंगारंग भव्य आयोजन किया गया, जिसमें समाज के लोगों ने तिल, गुड़, रेवड़ी, मक्के के दाने और मूंगफली डालकर पूजा करके लोहड़ी जलाई. इस अवसर पर राजधानी के अलग-अलग होटलों में प्री-मकर संक्रांति सेलिब्रेशन के साथ-साथ लोगों ने पतंग उड़ाकर लोहड़ी और प्री-मकर संक्रांति का लुत्फ उठाया. इस अवसर पर कलाकारों ने पंजाबी संस्कृति की रंगारंग छटा बिखेरी. घर में नई बहू आने और बच्चे के पैदा होने पर भी मनाते हैं. सुरमयी लय व ताल देखने को मिली-प्रवक्ता गुरुचरण ङ्क्षसह अरेरा ने बताया कि लोहड़ी की संध्या में पंजाबी लोक गीतों ने खूबसूरत समां बांधा. मन को मोह लेने वाले गीतों पर भंगड़ा एवं गिद्दा की सुरमयी लय व ताल देखने को मिली.इस अवसर पर सैकड़ों लोगों ने एक-दूसरे को मुबारकबाद दी.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts