Breaking News :

बासेल, समीर वर्मा स्विस ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीतने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। दूसरी वरीयता प्राप्त समीर ने रविवार को फाइनल में डेनमार्क के जान ओ जोर्गेनसन को 36 मिनट में 21-15, 21-13 से हराकर पुरुष एकल खिताब जीता। विश्व रैंकिंग में 46 वें नंबर के समीर ने 112 वीं रैंकिंग के जोर्गेनसन के खिलाफ अब अपना रिकॉर्ड 2-0 कर लिया है। समीर स्विस ओपन का खिताब जीतने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। इससे पहले सायना नेहवाल ने 2011 और 2012, किदाम्बी श्रीकांत ने 2015 और एच एस प्रणय ने 2016 में यह खिताब जीता था।"/> बासेल, समीर वर्मा स्विस ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीतने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। दूसरी वरीयता प्राप्त समीर ने रविवार को फाइनल में डेनमार्क के जान ओ जोर्गेनसन को 36 मिनट में 21-15, 21-13 से हराकर पुरुष एकल खिताब जीता। विश्व रैंकिंग में 46 वें नंबर के समीर ने 112 वीं रैंकिंग के जोर्गेनसन के खिलाफ अब अपना रिकॉर्ड 2-0 कर लिया है। समीर स्विस ओपन का खिताब जीतने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। इससे पहले सायना नेहवाल ने 2011 और 2012, किदाम्बी श्रीकांत ने 2015 और एच एस प्रणय ने 2016 में यह खिताब जीता था।"/> बासेल, समीर वर्मा स्विस ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीतने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। दूसरी वरीयता प्राप्त समीर ने रविवार को फाइनल में डेनमार्क के जान ओ जोर्गेनसन को 36 मिनट में 21-15, 21-13 से हराकर पुरुष एकल खिताब जीता। विश्व रैंकिंग में 46 वें नंबर के समीर ने 112 वीं रैंकिंग के जोर्गेनसन के खिलाफ अब अपना रिकॉर्ड 2-0 कर लिया है। समीर स्विस ओपन का खिताब जीतने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। इससे पहले सायना नेहवाल ने 2011 और 2012, किदाम्बी श्रीकांत ने 2015 और एच एस प्रणय ने 2016 में यह खिताब जीता था।">

स्विस ओपन जीतने वाले चौथे भारतीय बने समीर

2018/02/26



बासेल, समीर वर्मा स्विस ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीतने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। दूसरी वरीयता प्राप्त समीर ने रविवार को फाइनल में डेनमार्क के जान ओ जोर्गेनसन को 36 मिनट में 21-15, 21-13 से हराकर पुरुष एकल खिताब जीता। विश्व रैंकिंग में 46 वें नंबर के समीर ने 112 वीं रैंकिंग के जोर्गेनसन के खिलाफ अब अपना रिकॉर्ड 2-0 कर लिया है। समीर स्विस ओपन का खिताब जीतने वाले चौथे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। इससे पहले सायना नेहवाल ने 2011 और 2012, किदाम्बी श्रीकांत ने 2015 और एच एस प्रणय ने 2016 में यह खिताब जीता था।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts