Breaking News :

कोल्हापुर, महाराष्ट्र के कोल्हापुर की रहने वाले स्नेहल बेनडके को आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में पांच अप्रैल से शुरू होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों में बास्केटबॉल स्पर्धाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय बास्केटबॉल महासंघ(फीबा) की ओर से रेफरी चुना गया है। गोल्ड कोस्ट में पांच से 15 अप्रैल तक राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन होना है जिसके लिये भारत की ओर से 325 सदस्यीय बड़ा दल इन खेलों में भाग लेगा।इनमें 221 एथलीट अौर 104 अधिकारी शामिल हैं। स्नेहल राष्ट्रमंडल खेलों में बतौर अधिकारी उतरने वाली पहली भारतीय महिला भी बन गयी हैं।उन्होंने सीनियर महिला चैंपियनशिप में बतौर रेफरी अपने करियर की शुरूआत की थी।वह फीबा एशियन चैंपियनशिप आौर फीबा एशिया सीनियर पुरूष कप चैंपियनशिप में भी एशिया की पहली महिला रेफरी के तौर पर उतरीं थीं। उन्होंने एशियाई स्तर पर महिला और पुरूष सभी आयु वर्गाें में कुल 11 बार अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में रेफरी की भूमिका निभाई है।स्नेहल के बास्केटबॉल में बतौर रेफरी करियर की शुरूआत वर्ष 2001 में हुई थी।उसके बाद उन्होंने महाराष्ट्र राज्य रेफरी की परीक्षा वर्ष 2006 में पास की और वर्ष 2008 में उन्हें फीबा से रेफरी का लाइसेंस मिल गया।स्नेहल एक अप्रैल को आस्ट्रेलिया के लिये रवाना होंगी। "/> कोल्हापुर, महाराष्ट्र के कोल्हापुर की रहने वाले स्नेहल बेनडके को आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में पांच अप्रैल से शुरू होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों में बास्केटबॉल स्पर्धाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय बास्केटबॉल महासंघ(फीबा) की ओर से रेफरी चुना गया है। गोल्ड कोस्ट में पांच से 15 अप्रैल तक राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन होना है जिसके लिये भारत की ओर से 325 सदस्यीय बड़ा दल इन खेलों में भाग लेगा।इनमें 221 एथलीट अौर 104 अधिकारी शामिल हैं। स्नेहल राष्ट्रमंडल खेलों में बतौर अधिकारी उतरने वाली पहली भारतीय महिला भी बन गयी हैं।उन्होंने सीनियर महिला चैंपियनशिप में बतौर रेफरी अपने करियर की शुरूआत की थी।वह फीबा एशियन चैंपियनशिप आौर फीबा एशिया सीनियर पुरूष कप चैंपियनशिप में भी एशिया की पहली महिला रेफरी के तौर पर उतरीं थीं। उन्होंने एशियाई स्तर पर महिला और पुरूष सभी आयु वर्गाें में कुल 11 बार अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में रेफरी की भूमिका निभाई है।स्नेहल के बास्केटबॉल में बतौर रेफरी करियर की शुरूआत वर्ष 2001 में हुई थी।उसके बाद उन्होंने महाराष्ट्र राज्य रेफरी की परीक्षा वर्ष 2006 में पास की और वर्ष 2008 में उन्हें फीबा से रेफरी का लाइसेंस मिल गया।स्नेहल एक अप्रैल को आस्ट्रेलिया के लिये रवाना होंगी। "/> कोल्हापुर, महाराष्ट्र के कोल्हापुर की रहने वाले स्नेहल बेनडके को आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में पांच अप्रैल से शुरू होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों में बास्केटबॉल स्पर्धाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय बास्केटबॉल महासंघ(फीबा) की ओर से रेफरी चुना गया है। गोल्ड कोस्ट में पांच से 15 अप्रैल तक राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन होना है जिसके लिये भारत की ओर से 325 सदस्यीय बड़ा दल इन खेलों में भाग लेगा।इनमें 221 एथलीट अौर 104 अधिकारी शामिल हैं। स्नेहल राष्ट्रमंडल खेलों में बतौर अधिकारी उतरने वाली पहली भारतीय महिला भी बन गयी हैं।उन्होंने सीनियर महिला चैंपियनशिप में बतौर रेफरी अपने करियर की शुरूआत की थी।वह फीबा एशियन चैंपियनशिप आौर फीबा एशिया सीनियर पुरूष कप चैंपियनशिप में भी एशिया की पहली महिला रेफरी के तौर पर उतरीं थीं। उन्होंने एशियाई स्तर पर महिला और पुरूष सभी आयु वर्गाें में कुल 11 बार अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में रेफरी की भूमिका निभाई है।स्नेहल के बास्केटबॉल में बतौर रेफरी करियर की शुरूआत वर्ष 2001 में हुई थी।उसके बाद उन्होंने महाराष्ट्र राज्य रेफरी की परीक्षा वर्ष 2006 में पास की और वर्ष 2008 में उन्हें फीबा से रेफरी का लाइसेंस मिल गया।स्नेहल एक अप्रैल को आस्ट्रेलिया के लिये रवाना होंगी। ">

स्नेहल राष्ट्रमंडल बास्केटबॉल में पहली भारतीय रेफरी

2018/03/27



कोल्हापुर, महाराष्ट्र के कोल्हापुर की रहने वाले स्नेहल बेनडके को आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में पांच अप्रैल से शुरू होने जा रहे राष्ट्रमंडल खेलों में बास्केटबॉल स्पर्धाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय बास्केटबॉल महासंघ(फीबा) की ओर से रेफरी चुना गया है। गोल्ड कोस्ट में पांच से 15 अप्रैल तक राष्ट्रमंडल खेलों का आयोजन होना है जिसके लिये भारत की ओर से 325 सदस्यीय बड़ा दल इन खेलों में भाग लेगा।इनमें 221 एथलीट अौर 104 अधिकारी शामिल हैं। स्नेहल राष्ट्रमंडल खेलों में बतौर अधिकारी उतरने वाली पहली भारतीय महिला भी बन गयी हैं।उन्होंने सीनियर महिला चैंपियनशिप में बतौर रेफरी अपने करियर की शुरूआत की थी।वह फीबा एशियन चैंपियनशिप आौर फीबा एशिया सीनियर पुरूष कप चैंपियनशिप में भी एशिया की पहली महिला रेफरी के तौर पर उतरीं थीं। उन्होंने एशियाई स्तर पर महिला और पुरूष सभी आयु वर्गाें में कुल 11 बार अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में रेफरी की भूमिका निभाई है।स्नेहल के बास्केटबॉल में बतौर रेफरी करियर की शुरूआत वर्ष 2001 में हुई थी।उसके बाद उन्होंने महाराष्ट्र राज्य रेफरी की परीक्षा वर्ष 2006 में पास की और वर्ष 2008 में उन्हें फीबा से रेफरी का लाइसेंस मिल गया।स्नेहल एक अप्रैल को आस्ट्रेलिया के लिये रवाना होंगी।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts