Breaking News :

न्यूयार्क, संयुक्त राष्ट्र ने अफगानिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में हुए हमले की कड़ी निंदा की है। शुक्रवार को हुए इस धमाके में कम से कम आठ लोग मारे गये और 55 घायल हो गये थे। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एन्टोनियो गुटेर्रेस के उप प्रवक्ता फरहान हक ने कल एक बयान जारी करके कहा कि श्री गुटेर्रेस ने अफगानिस्तान हमले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा, “आम नागरिकों पर हमला मानवाधिकार और अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून का गंभीर उल्लंघन है। इसे कभी भी न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता।” श्री हक ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र का मानना है कि विवाद से जुड़े सभी पक्ष किसी भी सूरत में आम नागरिकों की रक्षा के दायित्व का निर्वाह करें।” अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के सहायता मिशन (यूएनऐएमए) ने बताया कि जलालाबाद में शाम की नमाज अदा करने के बाद स्थानीय मैच देखने आये जनसमूह को निशाना बनाकर चार धमाके किये गये थे। संयुक्त राष्ट्र महासचिव के अफगानिस्तान में विशेष प्रतिनिधि तदामिचि यमामोतो ने कहा, “क्रिकेट मैच को देखने आये आम नागरिकों को निशाना बनाकर किये गये चार बम धमाकों से मैं बेहद गुस्से में हूं। इस बर्बर हमले को किसी भी तरह से उचित नहीं ठहराया जा सकता। इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए। ” मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने अफगानिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में किये गये हमलों की जिम्मेदारी नहीं ली है। तालिबान ने भी इसमें हाथ होने से इंकार किया है।"/> न्यूयार्क, संयुक्त राष्ट्र ने अफगानिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में हुए हमले की कड़ी निंदा की है। शुक्रवार को हुए इस धमाके में कम से कम आठ लोग मारे गये और 55 घायल हो गये थे। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एन्टोनियो गुटेर्रेस के उप प्रवक्ता फरहान हक ने कल एक बयान जारी करके कहा कि श्री गुटेर्रेस ने अफगानिस्तान हमले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा, “आम नागरिकों पर हमला मानवाधिकार और अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून का गंभीर उल्लंघन है। इसे कभी भी न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता।” श्री हक ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र का मानना है कि विवाद से जुड़े सभी पक्ष किसी भी सूरत में आम नागरिकों की रक्षा के दायित्व का निर्वाह करें।” अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के सहायता मिशन (यूएनऐएमए) ने बताया कि जलालाबाद में शाम की नमाज अदा करने के बाद स्थानीय मैच देखने आये जनसमूह को निशाना बनाकर चार धमाके किये गये थे। संयुक्त राष्ट्र महासचिव के अफगानिस्तान में विशेष प्रतिनिधि तदामिचि यमामोतो ने कहा, “क्रिकेट मैच को देखने आये आम नागरिकों को निशाना बनाकर किये गये चार बम धमाकों से मैं बेहद गुस्से में हूं। इस बर्बर हमले को किसी भी तरह से उचित नहीं ठहराया जा सकता। इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए। ” मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने अफगानिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में किये गये हमलों की जिम्मेदारी नहीं ली है। तालिबान ने भी इसमें हाथ होने से इंकार किया है।"/> न्यूयार्क, संयुक्त राष्ट्र ने अफगानिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में हुए हमले की कड़ी निंदा की है। शुक्रवार को हुए इस धमाके में कम से कम आठ लोग मारे गये और 55 घायल हो गये थे। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एन्टोनियो गुटेर्रेस के उप प्रवक्ता फरहान हक ने कल एक बयान जारी करके कहा कि श्री गुटेर्रेस ने अफगानिस्तान हमले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा, “आम नागरिकों पर हमला मानवाधिकार और अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून का गंभीर उल्लंघन है। इसे कभी भी न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता।” श्री हक ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र का मानना है कि विवाद से जुड़े सभी पक्ष किसी भी सूरत में आम नागरिकों की रक्षा के दायित्व का निर्वाह करें।” अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के सहायता मिशन (यूएनऐएमए) ने बताया कि जलालाबाद में शाम की नमाज अदा करने के बाद स्थानीय मैच देखने आये जनसमूह को निशाना बनाकर चार धमाके किये गये थे। संयुक्त राष्ट्र महासचिव के अफगानिस्तान में विशेष प्रतिनिधि तदामिचि यमामोतो ने कहा, “क्रिकेट मैच को देखने आये आम नागरिकों को निशाना बनाकर किये गये चार बम धमाकों से मैं बेहद गुस्से में हूं। इस बर्बर हमले को किसी भी तरह से उचित नहीं ठहराया जा सकता। इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए। ” मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने अफगानिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में किये गये हमलों की जिम्मेदारी नहीं ली है। तालिबान ने भी इसमें हाथ होने से इंकार किया है।">

संयुक्त राष्ट्र ने की अफगानिस्तान हमले की निंदा

2018/05/21



न्यूयार्क, संयुक्त राष्ट्र ने अफगानिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में हुए हमले की कड़ी निंदा की है। शुक्रवार को हुए इस धमाके में कम से कम आठ लोग मारे गये और 55 घायल हो गये थे। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एन्टोनियो गुटेर्रेस के उप प्रवक्ता फरहान हक ने कल एक बयान जारी करके कहा कि श्री गुटेर्रेस ने अफगानिस्तान हमले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा, “आम नागरिकों पर हमला मानवाधिकार और अंतरराष्ट्रीय मानवीय कानून का गंभीर उल्लंघन है। इसे कभी भी न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता।” श्री हक ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र का मानना है कि विवाद से जुड़े सभी पक्ष किसी भी सूरत में आम नागरिकों की रक्षा के दायित्व का निर्वाह करें।” अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के सहायता मिशन (यूएनऐएमए) ने बताया कि जलालाबाद में शाम की नमाज अदा करने के बाद स्थानीय मैच देखने आये जनसमूह को निशाना बनाकर चार धमाके किये गये थे। संयुक्त राष्ट्र महासचिव के अफगानिस्तान में विशेष प्रतिनिधि तदामिचि यमामोतो ने कहा, “क्रिकेट मैच को देखने आये आम नागरिकों को निशाना बनाकर किये गये चार बम धमाकों से मैं बेहद गुस्से में हूं। इस बर्बर हमले को किसी भी तरह से उचित नहीं ठहराया जा सकता। इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई होनी चाहिए। ” मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने अफगानिस्तान के क्रिकेट स्टेडियम में किये गये हमलों की जिम्मेदारी नहीं ली है। तालिबान ने भी इसमें हाथ होने से इंकार किया है।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts