Breaking News :

खेलकू द स्पर्धा में जुटेंगे 500 खिलाड़ी भोपाल, वनवासी तीरंदाजी के अंदाज राजधानी में दिखाई देगा. अवसर है 20वीं राष्ट्रीय वनवासी खेलकूद प्रतियोगिता का. वनवासी कल्याण आश्रम मध्यप्रांत द्वारा आयोजित की जा रही इस प्रतियोगिता में देश भर के विभिन्न वनवासी अंचलों के लगभग 500 युवा जुट रहे हैं. यह कार्यक्रम कमला देवी पब्लिक स्कूल में 28 से 31 दिसंबर के बीच होगा. वनवासी कल्याण परिषद के अखिल भारतीय सहसंगठन मंत्री अतुल जोग ने बताया कि पहली बार मुंबई में यह प्रतियोगिता 1988 में आयोजित की गई थी. जबकि बीते वर्ष यह मुंबई में ही संपन्न हुई है. जिसमें आए 265 प्रतिभागियों की प्रतिभा देखकर भारतीय खेल प्राधिकरण ने 30 को प्रशिक्षण देने के लिए चयनित कर लिया है. एक सवाल के जबाव में उन्होंने दावा किया कि दूरस्थ वनवासी क्षेत्र की प्रतिभाओं को चिंहित करने और मंच प्रदान में यह आयोजन बहुत सहायक हुआ है. इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसमें आज देश के 25 राज्यों के साथ पड़ोसी देश नेपाल के युवक-युवती शामिल हो रहे हैं. वह यहां मार्डन खो-खो और तीरंदाजी के हुनर दिखाएंगे. इससे पहले संजय शाह की अध्यक्षता वाली सात सदस्यीय स्वागत समिति की भी घोषणा की गई है. गुमान सिंह डामोर इस समिति में सचिव बनाए गए हैं."/> खेलकू द स्पर्धा में जुटेंगे 500 खिलाड़ी भोपाल, वनवासी तीरंदाजी के अंदाज राजधानी में दिखाई देगा. अवसर है 20वीं राष्ट्रीय वनवासी खेलकूद प्रतियोगिता का. वनवासी कल्याण आश्रम मध्यप्रांत द्वारा आयोजित की जा रही इस प्रतियोगिता में देश भर के विभिन्न वनवासी अंचलों के लगभग 500 युवा जुट रहे हैं. यह कार्यक्रम कमला देवी पब्लिक स्कूल में 28 से 31 दिसंबर के बीच होगा. वनवासी कल्याण परिषद के अखिल भारतीय सहसंगठन मंत्री अतुल जोग ने बताया कि पहली बार मुंबई में यह प्रतियोगिता 1988 में आयोजित की गई थी. जबकि बीते वर्ष यह मुंबई में ही संपन्न हुई है. जिसमें आए 265 प्रतिभागियों की प्रतिभा देखकर भारतीय खेल प्राधिकरण ने 30 को प्रशिक्षण देने के लिए चयनित कर लिया है. एक सवाल के जबाव में उन्होंने दावा किया कि दूरस्थ वनवासी क्षेत्र की प्रतिभाओं को चिंहित करने और मंच प्रदान में यह आयोजन बहुत सहायक हुआ है. इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसमें आज देश के 25 राज्यों के साथ पड़ोसी देश नेपाल के युवक-युवती शामिल हो रहे हैं. वह यहां मार्डन खो-खो और तीरंदाजी के हुनर दिखाएंगे. इससे पहले संजय शाह की अध्यक्षता वाली सात सदस्यीय स्वागत समिति की भी घोषणा की गई है. गुमान सिंह डामोर इस समिति में सचिव बनाए गए हैं."/> खेलकू द स्पर्धा में जुटेंगे 500 खिलाड़ी भोपाल, वनवासी तीरंदाजी के अंदाज राजधानी में दिखाई देगा. अवसर है 20वीं राष्ट्रीय वनवासी खेलकूद प्रतियोगिता का. वनवासी कल्याण आश्रम मध्यप्रांत द्वारा आयोजित की जा रही इस प्रतियोगिता में देश भर के विभिन्न वनवासी अंचलों के लगभग 500 युवा जुट रहे हैं. यह कार्यक्रम कमला देवी पब्लिक स्कूल में 28 से 31 दिसंबर के बीच होगा. वनवासी कल्याण परिषद के अखिल भारतीय सहसंगठन मंत्री अतुल जोग ने बताया कि पहली बार मुंबई में यह प्रतियोगिता 1988 में आयोजित की गई थी. जबकि बीते वर्ष यह मुंबई में ही संपन्न हुई है. जिसमें आए 265 प्रतिभागियों की प्रतिभा देखकर भारतीय खेल प्राधिकरण ने 30 को प्रशिक्षण देने के लिए चयनित कर लिया है. एक सवाल के जबाव में उन्होंने दावा किया कि दूरस्थ वनवासी क्षेत्र की प्रतिभाओं को चिंहित करने और मंच प्रदान में यह आयोजन बहुत सहायक हुआ है. इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसमें आज देश के 25 राज्यों के साथ पड़ोसी देश नेपाल के युवक-युवती शामिल हो रहे हैं. वह यहां मार्डन खो-खो और तीरंदाजी के हुनर दिखाएंगे. इससे पहले संजय शाह की अध्यक्षता वाली सात सदस्यीय स्वागत समिति की भी घोषणा की गई है. गुमान सिंह डामोर इस समिति में सचिव बनाए गए हैं.">

वनवासी युवक राजधानी में दिखाएंगे तीरंदाजी के करतब

2017/11/28



खेलकू द स्पर्धा में जुटेंगे 500 खिलाड़ी भोपाल, वनवासी तीरंदाजी के अंदाज राजधानी में दिखाई देगा. अवसर है 20वीं राष्ट्रीय वनवासी खेलकूद प्रतियोगिता का. वनवासी कल्याण आश्रम मध्यप्रांत द्वारा आयोजित की जा रही इस प्रतियोगिता में देश भर के विभिन्न वनवासी अंचलों के लगभग 500 युवा जुट रहे हैं. यह कार्यक्रम कमला देवी पब्लिक स्कूल में 28 से 31 दिसंबर के बीच होगा. वनवासी कल्याण परिषद के अखिल भारतीय सहसंगठन मंत्री अतुल जोग ने बताया कि पहली बार मुंबई में यह प्रतियोगिता 1988 में आयोजित की गई थी. जबकि बीते वर्ष यह मुंबई में ही संपन्न हुई है. जिसमें आए 265 प्रतिभागियों की प्रतिभा देखकर भारतीय खेल प्राधिकरण ने 30 को प्रशिक्षण देने के लिए चयनित कर लिया है. एक सवाल के जबाव में उन्होंने दावा किया कि दूरस्थ वनवासी क्षेत्र की प्रतिभाओं को चिंहित करने और मंच प्रदान में यह आयोजन बहुत सहायक हुआ है. इसकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसमें आज देश के 25 राज्यों के साथ पड़ोसी देश नेपाल के युवक-युवती शामिल हो रहे हैं. वह यहां मार्डन खो-खो और तीरंदाजी के हुनर दिखाएंगे. इससे पहले संजय शाह की अध्यक्षता वाली सात सदस्यीय स्वागत समिति की भी घोषणा की गई है. गुमान सिंह डामोर इस समिति में सचिव बनाए गए हैं.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts