Breaking News :

न्यूयॉर्क, फोर्ब्स की धनकुबेरों की सूची में इस साल भारतीय अरबपतियों की संख्या बढ़कर 121 पर पहुंच गई है, इस सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक भारत के सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं जबकि पंजाब नेशनल बैंक(पीएनबी) घोटाले के मुख्य आरोपी ज्वेलरी डिजाइनर नीरव मोदी को इसमें जगह नहीं मिली। इतना ही नहीं विश्व के कुल धनकुबेरों के वर्ग में भारत दुनिया का ऐसा तीसरा देश बन गया है, जहां सबसे अधिक अरबपति हैं। अमेरिका पहले और चीन दूसरे स्थान पर है। पिछले साल फोर्ब्स की सूची में भारत के 102 अरबपति थे। इस बार इसमें 19 अन्य भारतीयों को जगह मिली है। सूची में अमेरिका के 585 अरबपति और चीन के 373 अरबपति हैं। फोर्ब्स 2018 की सूची के अनुसार मुकेश अंबानी की बादशाहत बरकरार है। मुकेश अंबानी की संपत्ति वर्ष 2017 के मुकाबले 16.9 अरब डाॅलर बढ़कर वर्ष 2018 में 40.1 अरब डाॅलर हो गई। मुकेश अंबानी ने विश्व के 2,208 धनकुबेरों की सूची में इस साल जोरदार छलांग लगाकर 13 पायदान उपर आ गये हैं। वर्ष 2017 में वह 23.2 अरब डाॅलर की कुल संपत्ति के साथ 33 वें स्थान पर थे और अब वह 19 वें नंबर पर आ गए हैं।"/> न्यूयॉर्क, फोर्ब्स की धनकुबेरों की सूची में इस साल भारतीय अरबपतियों की संख्या बढ़कर 121 पर पहुंच गई है, इस सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक भारत के सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं जबकि पंजाब नेशनल बैंक(पीएनबी) घोटाले के मुख्य आरोपी ज्वेलरी डिजाइनर नीरव मोदी को इसमें जगह नहीं मिली। इतना ही नहीं विश्व के कुल धनकुबेरों के वर्ग में भारत दुनिया का ऐसा तीसरा देश बन गया है, जहां सबसे अधिक अरबपति हैं। अमेरिका पहले और चीन दूसरे स्थान पर है। पिछले साल फोर्ब्स की सूची में भारत के 102 अरबपति थे। इस बार इसमें 19 अन्य भारतीयों को जगह मिली है। सूची में अमेरिका के 585 अरबपति और चीन के 373 अरबपति हैं। फोर्ब्स 2018 की सूची के अनुसार मुकेश अंबानी की बादशाहत बरकरार है। मुकेश अंबानी की संपत्ति वर्ष 2017 के मुकाबले 16.9 अरब डाॅलर बढ़कर वर्ष 2018 में 40.1 अरब डाॅलर हो गई। मुकेश अंबानी ने विश्व के 2,208 धनकुबेरों की सूची में इस साल जोरदार छलांग लगाकर 13 पायदान उपर आ गये हैं। वर्ष 2017 में वह 23.2 अरब डाॅलर की कुल संपत्ति के साथ 33 वें स्थान पर थे और अब वह 19 वें नंबर पर आ गए हैं।"/> न्यूयॉर्क, फोर्ब्स की धनकुबेरों की सूची में इस साल भारतीय अरबपतियों की संख्या बढ़कर 121 पर पहुंच गई है, इस सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक भारत के सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं जबकि पंजाब नेशनल बैंक(पीएनबी) घोटाले के मुख्य आरोपी ज्वेलरी डिजाइनर नीरव मोदी को इसमें जगह नहीं मिली। इतना ही नहीं विश्व के कुल धनकुबेरों के वर्ग में भारत दुनिया का ऐसा तीसरा देश बन गया है, जहां सबसे अधिक अरबपति हैं। अमेरिका पहले और चीन दूसरे स्थान पर है। पिछले साल फोर्ब्स की सूची में भारत के 102 अरबपति थे। इस बार इसमें 19 अन्य भारतीयों को जगह मिली है। सूची में अमेरिका के 585 अरबपति और चीन के 373 अरबपति हैं। फोर्ब्स 2018 की सूची के अनुसार मुकेश अंबानी की बादशाहत बरकरार है। मुकेश अंबानी की संपत्ति वर्ष 2017 के मुकाबले 16.9 अरब डाॅलर बढ़कर वर्ष 2018 में 40.1 अरब डाॅलर हो गई। मुकेश अंबानी ने विश्व के 2,208 धनकुबेरों की सूची में इस साल जोरदार छलांग लगाकर 13 पायदान उपर आ गये हैं। वर्ष 2017 में वह 23.2 अरब डाॅलर की कुल संपत्ति के साथ 33 वें स्थान पर थे और अब वह 19 वें नंबर पर आ गए हैं।">

मुकेश भारतीय धनकुबेरों में अव्वल.नीरव बाहर

2018/03/07



न्यूयॉर्क, फोर्ब्स की धनकुबेरों की सूची में इस साल भारतीय अरबपतियों की संख्या बढ़कर 121 पर पहुंच गई है, इस सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक भारत के सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं जबकि पंजाब नेशनल बैंक(पीएनबी) घोटाले के मुख्य आरोपी ज्वेलरी डिजाइनर नीरव मोदी को इसमें जगह नहीं मिली। इतना ही नहीं विश्व के कुल धनकुबेरों के वर्ग में भारत दुनिया का ऐसा तीसरा देश बन गया है, जहां सबसे अधिक अरबपति हैं। अमेरिका पहले और चीन दूसरे स्थान पर है। पिछले साल फोर्ब्स की सूची में भारत के 102 अरबपति थे। इस बार इसमें 19 अन्य भारतीयों को जगह मिली है। सूची में अमेरिका के 585 अरबपति और चीन के 373 अरबपति हैं। फोर्ब्स 2018 की सूची के अनुसार मुकेश अंबानी की बादशाहत बरकरार है। मुकेश अंबानी की संपत्ति वर्ष 2017 के मुकाबले 16.9 अरब डाॅलर बढ़कर वर्ष 2018 में 40.1 अरब डाॅलर हो गई। मुकेश अंबानी ने विश्व के 2,208 धनकुबेरों की सूची में इस साल जोरदार छलांग लगाकर 13 पायदान उपर आ गये हैं। वर्ष 2017 में वह 23.2 अरब डाॅलर की कुल संपत्ति के साथ 33 वें स्थान पर थे और अब वह 19 वें नंबर पर आ गए हैं।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts