Breaking News :

नयी दिल्ली,  वर्ष 2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले में आरोपी पूर्व सैन्य अधिकारी ले. कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित ने जमानत के लिए आज उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। बम्बई उच्च न्यायालय से राहत नहीं मिलने के बाद कर्नल पुरोहित ने शीर्ष अदालत में याचिका दायर करके जमानत पर रिहाई का आदेश देने का अनुरोध किया है। उच्च न्यायालय से इस मामले के मुख्य आरोपियों में से एक साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को पिछले दिनों जमानत मिली थी। उच्च न्यायालय ने हालांकि कर्नल पुरोहित को जमानत पर रिहा करने से इन्कार कर दिया था। इसके बाद उन्होंने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है। कर्नल पुरोहित ने अपनी याचिका में समानता के आधार पर जमानत देने की मांग की है। याचिका में कहा गया है कि वह आठ साल से जेल में बंद हैं। इस मामले में उच्च न्यायालय ने सही फैसला नहीं दिया है। याचिका में यह भी कहा गया है कि उच्च न्यायालय ने सेना की कोर्ट आफ इंक्वायरी की रिपोर्ट पर गौर नहीं किया, जिसमें कहा गया है कि वह सेना के लिए खुफिया काम करते थे। मुख्य न्यायाधीश जे एस केहर ने याचिकाकर्ता को आश्वस्त किया कि वह उनकी याचिका पर गौर करेंगे।"/> नयी दिल्ली,  वर्ष 2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले में आरोपी पूर्व सैन्य अधिकारी ले. कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित ने जमानत के लिए आज उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। बम्बई उच्च न्यायालय से राहत नहीं मिलने के बाद कर्नल पुरोहित ने शीर्ष अदालत में याचिका दायर करके जमानत पर रिहाई का आदेश देने का अनुरोध किया है। उच्च न्यायालय से इस मामले के मुख्य आरोपियों में से एक साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को पिछले दिनों जमानत मिली थी। उच्च न्यायालय ने हालांकि कर्नल पुरोहित को जमानत पर रिहा करने से इन्कार कर दिया था। इसके बाद उन्होंने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है। कर्नल पुरोहित ने अपनी याचिका में समानता के आधार पर जमानत देने की मांग की है। याचिका में कहा गया है कि वह आठ साल से जेल में बंद हैं। इस मामले में उच्च न्यायालय ने सही फैसला नहीं दिया है। याचिका में यह भी कहा गया है कि उच्च न्यायालय ने सेना की कोर्ट आफ इंक्वायरी की रिपोर्ट पर गौर नहीं किया, जिसमें कहा गया है कि वह सेना के लिए खुफिया काम करते थे। मुख्य न्यायाधीश जे एस केहर ने याचिकाकर्ता को आश्वस्त किया कि वह उनकी याचिका पर गौर करेंगे।"/> नयी दिल्ली,  वर्ष 2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले में आरोपी पूर्व सैन्य अधिकारी ले. कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित ने जमानत के लिए आज उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। बम्बई उच्च न्यायालय से राहत नहीं मिलने के बाद कर्नल पुरोहित ने शीर्ष अदालत में याचिका दायर करके जमानत पर रिहाई का आदेश देने का अनुरोध किया है। उच्च न्यायालय से इस मामले के मुख्य आरोपियों में से एक साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को पिछले दिनों जमानत मिली थी। उच्च न्यायालय ने हालांकि कर्नल पुरोहित को जमानत पर रिहा करने से इन्कार कर दिया था। इसके बाद उन्होंने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है। कर्नल पुरोहित ने अपनी याचिका में समानता के आधार पर जमानत देने की मांग की है। याचिका में कहा गया है कि वह आठ साल से जेल में बंद हैं। इस मामले में उच्च न्यायालय ने सही फैसला नहीं दिया है। याचिका में यह भी कहा गया है कि उच्च न्यायालय ने सेना की कोर्ट आफ इंक्वायरी की रिपोर्ट पर गौर नहीं किया, जिसमें कहा गया है कि वह सेना के लिए खुफिया काम करते थे। मुख्य न्यायाधीश जे एस केहर ने याचिकाकर्ता को आश्वस्त किया कि वह उनकी याचिका पर गौर करेंगे।">

मालेगांव विस्फोट कांड : कर्नल पुरोहित पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

2017/04/28



नयी दिल्ली,  वर्ष 2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले में आरोपी पूर्व सैन्य अधिकारी ले. कर्नल प्रसाद श्रीकांत पुरोहित ने जमानत के लिए आज उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। बम्बई उच्च न्यायालय से राहत नहीं मिलने के बाद कर्नल पुरोहित ने शीर्ष अदालत में याचिका दायर करके जमानत पर रिहाई का आदेश देने का अनुरोध किया है। उच्च न्यायालय से इस मामले के मुख्य आरोपियों में से एक साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को पिछले दिनों जमानत मिली थी। उच्च न्यायालय ने हालांकि कर्नल पुरोहित को जमानत पर रिहा करने से इन्कार कर दिया था। इसके बाद उन्होंने शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है। कर्नल पुरोहित ने अपनी याचिका में समानता के आधार पर जमानत देने की मांग की है। याचिका में कहा गया है कि वह आठ साल से जेल में बंद हैं। इस मामले में उच्च न्यायालय ने सही फैसला नहीं दिया है। याचिका में यह भी कहा गया है कि उच्च न्यायालय ने सेना की कोर्ट आफ इंक्वायरी की रिपोर्ट पर गौर नहीं किया, जिसमें कहा गया है कि वह सेना के लिए खुफिया काम करते थे। मुख्य न्यायाधीश जे एस केहर ने याचिकाकर्ता को आश्वस्त किया कि वह उनकी याचिका पर गौर करेंगे।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts