Breaking News :

बैरसिया में शीघ्र शुरू होगा 30 से 60 बिस्तरों वाला अस्पताल बैरसिया, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अंतर्गत आने वाले 310 गांवों में स्वास्थ्य सेवाएँ सुचारु हैं.मुख्यालय के अलावा 5 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं 28 उप स्वास्थ्य केंन्द्रों से 110 ग्राम पंचायतों में स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ लोगों तक पहुंच रहा है या नहीं इसकी निगरानी के लिए खंड चिकित्सा अधिकारी गांव-गांव जा कर मॉनीटरिंग कर गरीबों तक स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं को पहुंचाने की दिशा में सक्रिय हैं. खंड चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर किरण बाडेबा ने दैनिक नवभारत को बताया की यहां दूरदराज क्षेत्रों से मरीज आते हैं. और स्टाफ की कमी है फिर भी हम सामुदायिक स्वास्थ केंद्र पर प्रति दिन सुबह-शाम में 1000 से 1200 मरीजों को ओपीडी चला कर मरीजों को दवाईयां भी नियमित वितरण करा रहे हैं. हम क्षेत्र में विभाग की सभी योजनाओं व चिकित्सा सेवा का लाभ मरीजों व आमजनों तक पहुंचा रहे हैं. खण्ड चिकित्सा अधिकारी बडेवा ने बताया की विभाग की 20 योजनाए यहां पर संचालित हैं. जिनमें जननी सुरक्षा योजना एवं 100 डायल योजना के माध्यम से प्रसूति व गम्भीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों को सूचना मिलते ही योजना की गाड़ी द्वारा तुरन्त अस्पताल लाया जाता है और उपचार बाद घर भी छोड़ा जाता है. यहां शासन की सभी योजनाओं का लाभ क्षेत्र के मरीजों को मिल रहा है. जिनमें जननी सुरक्षा, चिकित्सा सहायता योजना, नि:शुल्क दवाई वितरण, बाल शक्ति योजना, दस्तक अभियान, डाईलेसिस सेवा, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना, टीकाकरण कार्यक्रम, क्षय, पल्स पोलियो अभियान सहित सभी योजनाओं का निरंतर लाभ मरीज ले रहे हैं. यहां पदस्थ स्टॉफ, डॉक्टर एवं नर्सिंग सहायकों के माध्यम से ही डयूटी के अलावा जन सेवा में नि:शुल्क स्वास्थ्य सेवाएं भी मरीजों को अच्छे तालमेल के चलते दी जा रही हैं. समय समय पर रोगी कल्याण समिति द्वारा भी बैठकें आयोजित कर व्यवस्था और मरीजों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं कैसे मिल सकें . इस दिशा में क्षेत्रीय विधायक विष्णु खत्री का मार्गदर्शन भी बराबर मिल रहा है. यहां पर शीघ्र सिविल हॉस्पिटल का दर्जा मिल 30 से 60 बिस्तरों वाला अस्पताल संचालित होने लगेगा. जिसका नवीन भवन बन कर तैयार है."/> बैरसिया में शीघ्र शुरू होगा 30 से 60 बिस्तरों वाला अस्पताल बैरसिया, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अंतर्गत आने वाले 310 गांवों में स्वास्थ्य सेवाएँ सुचारु हैं.मुख्यालय के अलावा 5 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं 28 उप स्वास्थ्य केंन्द्रों से 110 ग्राम पंचायतों में स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ लोगों तक पहुंच रहा है या नहीं इसकी निगरानी के लिए खंड चिकित्सा अधिकारी गांव-गांव जा कर मॉनीटरिंग कर गरीबों तक स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं को पहुंचाने की दिशा में सक्रिय हैं. खंड चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर किरण बाडेबा ने दैनिक नवभारत को बताया की यहां दूरदराज क्षेत्रों से मरीज आते हैं. और स्टाफ की कमी है फिर भी हम सामुदायिक स्वास्थ केंद्र पर प्रति दिन सुबह-शाम में 1000 से 1200 मरीजों को ओपीडी चला कर मरीजों को दवाईयां भी नियमित वितरण करा रहे हैं. हम क्षेत्र में विभाग की सभी योजनाओं व चिकित्सा सेवा का लाभ मरीजों व आमजनों तक पहुंचा रहे हैं. खण्ड चिकित्सा अधिकारी बडेवा ने बताया की विभाग की 20 योजनाए यहां पर संचालित हैं. जिनमें जननी सुरक्षा योजना एवं 100 डायल योजना के माध्यम से प्रसूति व गम्भीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों को सूचना मिलते ही योजना की गाड़ी द्वारा तुरन्त अस्पताल लाया जाता है और उपचार बाद घर भी छोड़ा जाता है. यहां शासन की सभी योजनाओं का लाभ क्षेत्र के मरीजों को मिल रहा है. जिनमें जननी सुरक्षा, चिकित्सा सहायता योजना, नि:शुल्क दवाई वितरण, बाल शक्ति योजना, दस्तक अभियान, डाईलेसिस सेवा, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना, टीकाकरण कार्यक्रम, क्षय, पल्स पोलियो अभियान सहित सभी योजनाओं का निरंतर लाभ मरीज ले रहे हैं. यहां पदस्थ स्टॉफ, डॉक्टर एवं नर्सिंग सहायकों के माध्यम से ही डयूटी के अलावा जन सेवा में नि:शुल्क स्वास्थ्य सेवाएं भी मरीजों को अच्छे तालमेल के चलते दी जा रही हैं. समय समय पर रोगी कल्याण समिति द्वारा भी बैठकें आयोजित कर व्यवस्था और मरीजों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं कैसे मिल सकें . इस दिशा में क्षेत्रीय विधायक विष्णु खत्री का मार्गदर्शन भी बराबर मिल रहा है. यहां पर शीघ्र सिविल हॉस्पिटल का दर्जा मिल 30 से 60 बिस्तरों वाला अस्पताल संचालित होने लगेगा. जिसका नवीन भवन बन कर तैयार है."/> बैरसिया में शीघ्र शुरू होगा 30 से 60 बिस्तरों वाला अस्पताल बैरसिया, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अंतर्गत आने वाले 310 गांवों में स्वास्थ्य सेवाएँ सुचारु हैं.मुख्यालय के अलावा 5 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं 28 उप स्वास्थ्य केंन्द्रों से 110 ग्राम पंचायतों में स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ लोगों तक पहुंच रहा है या नहीं इसकी निगरानी के लिए खंड चिकित्सा अधिकारी गांव-गांव जा कर मॉनीटरिंग कर गरीबों तक स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं को पहुंचाने की दिशा में सक्रिय हैं. खंड चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर किरण बाडेबा ने दैनिक नवभारत को बताया की यहां दूरदराज क्षेत्रों से मरीज आते हैं. और स्टाफ की कमी है फिर भी हम सामुदायिक स्वास्थ केंद्र पर प्रति दिन सुबह-शाम में 1000 से 1200 मरीजों को ओपीडी चला कर मरीजों को दवाईयां भी नियमित वितरण करा रहे हैं. हम क्षेत्र में विभाग की सभी योजनाओं व चिकित्सा सेवा का लाभ मरीजों व आमजनों तक पहुंचा रहे हैं. खण्ड चिकित्सा अधिकारी बडेवा ने बताया की विभाग की 20 योजनाए यहां पर संचालित हैं. जिनमें जननी सुरक्षा योजना एवं 100 डायल योजना के माध्यम से प्रसूति व गम्भीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों को सूचना मिलते ही योजना की गाड़ी द्वारा तुरन्त अस्पताल लाया जाता है और उपचार बाद घर भी छोड़ा जाता है. यहां शासन की सभी योजनाओं का लाभ क्षेत्र के मरीजों को मिल रहा है. जिनमें जननी सुरक्षा, चिकित्सा सहायता योजना, नि:शुल्क दवाई वितरण, बाल शक्ति योजना, दस्तक अभियान, डाईलेसिस सेवा, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना, टीकाकरण कार्यक्रम, क्षय, पल्स पोलियो अभियान सहित सभी योजनाओं का निरंतर लाभ मरीज ले रहे हैं. यहां पदस्थ स्टॉफ, डॉक्टर एवं नर्सिंग सहायकों के माध्यम से ही डयूटी के अलावा जन सेवा में नि:शुल्क स्वास्थ्य सेवाएं भी मरीजों को अच्छे तालमेल के चलते दी जा रही हैं. समय समय पर रोगी कल्याण समिति द्वारा भी बैठकें आयोजित कर व्यवस्था और मरीजों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं कैसे मिल सकें . इस दिशा में क्षेत्रीय विधायक विष्णु खत्री का मार्गदर्शन भी बराबर मिल रहा है. यहां पर शीघ्र सिविल हॉस्पिटल का दर्जा मिल 30 से 60 बिस्तरों वाला अस्पताल संचालित होने लगेगा. जिसका नवीन भवन बन कर तैयार है.">

मरीजों को मिल रहीं बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं

2017/12/05



बैरसिया में शीघ्र शुरू होगा 30 से 60 बिस्तरों वाला अस्पताल बैरसिया, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अंतर्गत आने वाले 310 गांवों में स्वास्थ्य सेवाएँ सुचारु हैं.मुख्यालय के अलावा 5 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र एवं 28 उप स्वास्थ्य केंन्द्रों से 110 ग्राम पंचायतों में स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ लोगों तक पहुंच रहा है या नहीं इसकी निगरानी के लिए खंड चिकित्सा अधिकारी गांव-गांव जा कर मॉनीटरिंग कर गरीबों तक स्वास्थ्य विभाग की योजनाओं को पहुंचाने की दिशा में सक्रिय हैं. खंड चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर किरण बाडेबा ने दैनिक नवभारत को बताया की यहां दूरदराज क्षेत्रों से मरीज आते हैं. और स्टाफ की कमी है फिर भी हम सामुदायिक स्वास्थ केंद्र पर प्रति दिन सुबह-शाम में 1000 से 1200 मरीजों को ओपीडी चला कर मरीजों को दवाईयां भी नियमित वितरण करा रहे हैं. हम क्षेत्र में विभाग की सभी योजनाओं व चिकित्सा सेवा का लाभ मरीजों व आमजनों तक पहुंचा रहे हैं. खण्ड चिकित्सा अधिकारी बडेवा ने बताया की विभाग की 20 योजनाए यहां पर संचालित हैं. जिनमें जननी सुरक्षा योजना एवं 100 डायल योजना के माध्यम से प्रसूति व गम्भीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों को सूचना मिलते ही योजना की गाड़ी द्वारा तुरन्त अस्पताल लाया जाता है और उपचार बाद घर भी छोड़ा जाता है. यहां शासन की सभी योजनाओं का लाभ क्षेत्र के मरीजों को मिल रहा है. जिनमें जननी सुरक्षा, चिकित्सा सहायता योजना, नि:शुल्क दवाई वितरण, बाल शक्ति योजना, दस्तक अभियान, डाईलेसिस सेवा, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन योजना, टीकाकरण कार्यक्रम, क्षय, पल्स पोलियो अभियान सहित सभी योजनाओं का निरंतर लाभ मरीज ले रहे हैं. यहां पदस्थ स्टॉफ, डॉक्टर एवं नर्सिंग सहायकों के माध्यम से ही डयूटी के अलावा जन सेवा में नि:शुल्क स्वास्थ्य सेवाएं भी मरीजों को अच्छे तालमेल के चलते दी जा रही हैं. समय समय पर रोगी कल्याण समिति द्वारा भी बैठकें आयोजित कर व्यवस्था और मरीजों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं कैसे मिल सकें . इस दिशा में क्षेत्रीय विधायक विष्णु खत्री का मार्गदर्शन भी बराबर मिल रहा है. यहां पर शीघ्र सिविल हॉस्पिटल का दर्जा मिल 30 से 60 बिस्तरों वाला अस्पताल संचालित होने लगेगा. जिसका नवीन भवन बन कर तैयार है.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts