Breaking News :

भोपाल,  कड़ाके की सर्दी के बीच सूर्य के उत्तरायण होने का पर्व मकर संक्रांति आज पूरे देश की तरह मध्यप्रदेश में भी पूरे उत्साह और उल्लास से मनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश के ओंकारेश्वर, होशंगाबाद और उज्जैन जैसी धार्मिक नगरियों में तड़के से ही लोगों का नर्मदा और क्षिप्रा स्नान का क्रम शुरू हो गया था। भीषण सर्दी के बीच भी लोगों का उत्साह कायम था। लोगों ने पवित्र नदी स्नान के बाद दान-पुण्य और मंदिरों में दर्शन किए। वहीं राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के लगभग सभी शहरों में आसमान पतंगों से भरा हुआ है। कई स्थानों पर पतंगबाजी की प्रतियोगिताएं भी आयोजित हो रहीं हैं। आज से सूर्य के उत्तरायण होने के साथ ही खरमास की भी समाप्ति हो गई है। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक अाज से मांगलिक कार्यों की भी शुरूआत हो सकेगी। प्रदेश के अन्य शहरों से भी मकर संक्रांति पारंपरिक उल्लास से मनाए जाने की खबरें हैं।"/> भोपाल,  कड़ाके की सर्दी के बीच सूर्य के उत्तरायण होने का पर्व मकर संक्रांति आज पूरे देश की तरह मध्यप्रदेश में भी पूरे उत्साह और उल्लास से मनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश के ओंकारेश्वर, होशंगाबाद और उज्जैन जैसी धार्मिक नगरियों में तड़के से ही लोगों का नर्मदा और क्षिप्रा स्नान का क्रम शुरू हो गया था। भीषण सर्दी के बीच भी लोगों का उत्साह कायम था। लोगों ने पवित्र नदी स्नान के बाद दान-पुण्य और मंदिरों में दर्शन किए। वहीं राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के लगभग सभी शहरों में आसमान पतंगों से भरा हुआ है। कई स्थानों पर पतंगबाजी की प्रतियोगिताएं भी आयोजित हो रहीं हैं। आज से सूर्य के उत्तरायण होने के साथ ही खरमास की भी समाप्ति हो गई है। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक अाज से मांगलिक कार्यों की भी शुरूआत हो सकेगी। प्रदेश के अन्य शहरों से भी मकर संक्रांति पारंपरिक उल्लास से मनाए जाने की खबरें हैं।"/> भोपाल,  कड़ाके की सर्दी के बीच सूर्य के उत्तरायण होने का पर्व मकर संक्रांति आज पूरे देश की तरह मध्यप्रदेश में भी पूरे उत्साह और उल्लास से मनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश के ओंकारेश्वर, होशंगाबाद और उज्जैन जैसी धार्मिक नगरियों में तड़के से ही लोगों का नर्मदा और क्षिप्रा स्नान का क्रम शुरू हो गया था। भीषण सर्दी के बीच भी लोगों का उत्साह कायम था। लोगों ने पवित्र नदी स्नान के बाद दान-पुण्य और मंदिरों में दर्शन किए। वहीं राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के लगभग सभी शहरों में आसमान पतंगों से भरा हुआ है। कई स्थानों पर पतंगबाजी की प्रतियोगिताएं भी आयोजित हो रहीं हैं। आज से सूर्य के उत्तरायण होने के साथ ही खरमास की भी समाप्ति हो गई है। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक अाज से मांगलिक कार्यों की भी शुरूआत हो सकेगी। प्रदेश के अन्य शहरों से भी मकर संक्रांति पारंपरिक उल्लास से मनाए जाने की खबरें हैं।">

मध्यप्रदेश में हर तरफ कायम मकर संक्रांति का उल्लास

2017/01/14



भोपाल,  कड़ाके की सर्दी के बीच सूर्य के उत्तरायण होने का पर्व मकर संक्रांति आज पूरे देश की तरह मध्यप्रदेश में भी पूरे उत्साह और उल्लास से मनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश के ओंकारेश्वर, होशंगाबाद और उज्जैन जैसी धार्मिक नगरियों में तड़के से ही लोगों का नर्मदा और क्षिप्रा स्नान का क्रम शुरू हो गया था। भीषण सर्दी के बीच भी लोगों का उत्साह कायम था। लोगों ने पवित्र नदी स्नान के बाद दान-पुण्य और मंदिरों में दर्शन किए। वहीं राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के लगभग सभी शहरों में आसमान पतंगों से भरा हुआ है। कई स्थानों पर पतंगबाजी की प्रतियोगिताएं भी आयोजित हो रहीं हैं। आज से सूर्य के उत्तरायण होने के साथ ही खरमास की भी समाप्ति हो गई है। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक अाज से मांगलिक कार्यों की भी शुरूआत हो सकेगी। प्रदेश के अन्य शहरों से भी मकर संक्रांति पारंपरिक उल्लास से मनाए जाने की खबरें हैं।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts