Breaking News :

ठेकेदार से पैसा व मोबाइल लेकर हुए फरार, पुलिस ने धरदबोचा नवभारत न्यूज भोपाल, मिसरोद थाना अंतर्गत मजदूर दिलाने के नाम पर एक ठेकेदार के साथ पांच लोगों ने मिलकर ठगी कर दी. आरोपी उससे पैसे व मोबाइल लेकर फरार हो गए. पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपियों को पकड़ लिया. सभी आरोपी छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं. जानकारी के अनुसार शिवकुमार पाठक पिता रजनीकांत पाठक निवासी पथरोटा इटारसी ठेकेदारी करते हैं. विगत 19 दिसंबर को उनके पास कॉल आया, जिसने अपना नाम सोनचंद्र बताते हुए कहा कि उससे पास 22 मजदूर हैं. इसके बाद शिवकुमार अपने दोस्त दीपक रावतेल व संतोस के साथ भोपाल आए और फोन पर बातचीत की, तो सोनचंद्र ने कहा कि गुरूवार सुबह शनि मंदिर के पास होशंगाबाद रोड़ पर मिलना. जब शिवकुमार वहां पहुंचे तो उन्हें वहां पर चार लोग मिले, जिन्होंने अपना नाम फूलचंद्र, हरि व गौतम उरोती निवासी छत्तीसगढ़ बताया. इसके बाद इन लोगों ने झांसा देकर शिवकुमार व उनके साथियों से 23 हजार रुपए ले लिए और बोले कि अभी थोड़ी देर में आते हैं. इतना ही नहीं आरोपियों ने इस कदर झांसा दिया कि ठेकेदार बातों में आ गया .और उनसे मोबाइल यह कहकर ले गए कि उनको घर पर फोन लगाना है. दो घंटे बाद नहीं लौटे तो समझ आ गया माजरा फरियादी पहले तो दो घंटे तक अपने दोस्तों के साथ लेवर लाने का इंतजार करता रहा, लेकिन जब उनका कोई अता पता नहीं चला तो वे समझ गए कि उनके साथ धोखाधड़ी हुई है. इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने सूचना मिलते ही मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया और होटल व लॉज में तलाशी की. कुछ समय बाद पुलिस को सूचना मिली कि गले में तुलसी की माला पहने हुए कुछ लोग अग्रवाल धर्मशाला के पास खड़े हैं, पुलिस ने सूचना मिलते ही उन्हें धर दबोचा."/> ठेकेदार से पैसा व मोबाइल लेकर हुए फरार, पुलिस ने धरदबोचा नवभारत न्यूज भोपाल, मिसरोद थाना अंतर्गत मजदूर दिलाने के नाम पर एक ठेकेदार के साथ पांच लोगों ने मिलकर ठगी कर दी. आरोपी उससे पैसे व मोबाइल लेकर फरार हो गए. पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपियों को पकड़ लिया. सभी आरोपी छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं. जानकारी के अनुसार शिवकुमार पाठक पिता रजनीकांत पाठक निवासी पथरोटा इटारसी ठेकेदारी करते हैं. विगत 19 दिसंबर को उनके पास कॉल आया, जिसने अपना नाम सोनचंद्र बताते हुए कहा कि उससे पास 22 मजदूर हैं. इसके बाद शिवकुमार अपने दोस्त दीपक रावतेल व संतोस के साथ भोपाल आए और फोन पर बातचीत की, तो सोनचंद्र ने कहा कि गुरूवार सुबह शनि मंदिर के पास होशंगाबाद रोड़ पर मिलना. जब शिवकुमार वहां पहुंचे तो उन्हें वहां पर चार लोग मिले, जिन्होंने अपना नाम फूलचंद्र, हरि व गौतम उरोती निवासी छत्तीसगढ़ बताया. इसके बाद इन लोगों ने झांसा देकर शिवकुमार व उनके साथियों से 23 हजार रुपए ले लिए और बोले कि अभी थोड़ी देर में आते हैं. इतना ही नहीं आरोपियों ने इस कदर झांसा दिया कि ठेकेदार बातों में आ गया .और उनसे मोबाइल यह कहकर ले गए कि उनको घर पर फोन लगाना है. दो घंटे बाद नहीं लौटे तो समझ आ गया माजरा फरियादी पहले तो दो घंटे तक अपने दोस्तों के साथ लेवर लाने का इंतजार करता रहा, लेकिन जब उनका कोई अता पता नहीं चला तो वे समझ गए कि उनके साथ धोखाधड़ी हुई है. इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने सूचना मिलते ही मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया और होटल व लॉज में तलाशी की. कुछ समय बाद पुलिस को सूचना मिली कि गले में तुलसी की माला पहने हुए कुछ लोग अग्रवाल धर्मशाला के पास खड़े हैं, पुलिस ने सूचना मिलते ही उन्हें धर दबोचा."/> ठेकेदार से पैसा व मोबाइल लेकर हुए फरार, पुलिस ने धरदबोचा नवभारत न्यूज भोपाल, मिसरोद थाना अंतर्गत मजदूर दिलाने के नाम पर एक ठेकेदार के साथ पांच लोगों ने मिलकर ठगी कर दी. आरोपी उससे पैसे व मोबाइल लेकर फरार हो गए. पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपियों को पकड़ लिया. सभी आरोपी छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं. जानकारी के अनुसार शिवकुमार पाठक पिता रजनीकांत पाठक निवासी पथरोटा इटारसी ठेकेदारी करते हैं. विगत 19 दिसंबर को उनके पास कॉल आया, जिसने अपना नाम सोनचंद्र बताते हुए कहा कि उससे पास 22 मजदूर हैं. इसके बाद शिवकुमार अपने दोस्त दीपक रावतेल व संतोस के साथ भोपाल आए और फोन पर बातचीत की, तो सोनचंद्र ने कहा कि गुरूवार सुबह शनि मंदिर के पास होशंगाबाद रोड़ पर मिलना. जब शिवकुमार वहां पहुंचे तो उन्हें वहां पर चार लोग मिले, जिन्होंने अपना नाम फूलचंद्र, हरि व गौतम उरोती निवासी छत्तीसगढ़ बताया. इसके बाद इन लोगों ने झांसा देकर शिवकुमार व उनके साथियों से 23 हजार रुपए ले लिए और बोले कि अभी थोड़ी देर में आते हैं. इतना ही नहीं आरोपियों ने इस कदर झांसा दिया कि ठेकेदार बातों में आ गया .और उनसे मोबाइल यह कहकर ले गए कि उनको घर पर फोन लगाना है. दो घंटे बाद नहीं लौटे तो समझ आ गया माजरा फरियादी पहले तो दो घंटे तक अपने दोस्तों के साथ लेवर लाने का इंतजार करता रहा, लेकिन जब उनका कोई अता पता नहीं चला तो वे समझ गए कि उनके साथ धोखाधड़ी हुई है. इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने सूचना मिलते ही मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया और होटल व लॉज में तलाशी की. कुछ समय बाद पुलिस को सूचना मिली कि गले में तुलसी की माला पहने हुए कुछ लोग अग्रवाल धर्मशाला के पास खड़े हैं, पुलिस ने सूचना मिलते ही उन्हें धर दबोचा.">

मजदूरी दिलाने के नाम पर ठगी

2017/12/23



ठेकेदार से पैसा व मोबाइल लेकर हुए फरार, पुलिस ने धरदबोचा नवभारत न्यूज भोपाल, मिसरोद थाना अंतर्गत मजदूर दिलाने के नाम पर एक ठेकेदार के साथ पांच लोगों ने मिलकर ठगी कर दी. आरोपी उससे पैसे व मोबाइल लेकर फरार हो गए. पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपियों को पकड़ लिया. सभी आरोपी छत्तीसगढ़ के रहने वाले हैं. जानकारी के अनुसार शिवकुमार पाठक पिता रजनीकांत पाठक निवासी पथरोटा इटारसी ठेकेदारी करते हैं. विगत 19 दिसंबर को उनके पास कॉल आया, जिसने अपना नाम सोनचंद्र बताते हुए कहा कि उससे पास 22 मजदूर हैं. इसके बाद शिवकुमार अपने दोस्त दीपक रावतेल व संतोस के साथ भोपाल आए और फोन पर बातचीत की, तो सोनचंद्र ने कहा कि गुरूवार सुबह शनि मंदिर के पास होशंगाबाद रोड़ पर मिलना. जब शिवकुमार वहां पहुंचे तो उन्हें वहां पर चार लोग मिले, जिन्होंने अपना नाम फूलचंद्र, हरि व गौतम उरोती निवासी छत्तीसगढ़ बताया. इसके बाद इन लोगों ने झांसा देकर शिवकुमार व उनके साथियों से 23 हजार रुपए ले लिए और बोले कि अभी थोड़ी देर में आते हैं. इतना ही नहीं आरोपियों ने इस कदर झांसा दिया कि ठेकेदार बातों में आ गया .और उनसे मोबाइल यह कहकर ले गए कि उनको घर पर फोन लगाना है. दो घंटे बाद नहीं लौटे तो समझ आ गया माजरा फरियादी पहले तो दो घंटे तक अपने दोस्तों के साथ लेवर लाने का इंतजार करता रहा, लेकिन जब उनका कोई अता पता नहीं चला तो वे समझ गए कि उनके साथ धोखाधड़ी हुई है. इसके बाद उन्होंने पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने सूचना मिलते ही मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया और होटल व लॉज में तलाशी की. कुछ समय बाद पुलिस को सूचना मिली कि गले में तुलसी की माला पहने हुए कुछ लोग अग्रवाल धर्मशाला के पास खड़े हैं, पुलिस ने सूचना मिलते ही उन्हें धर दबोचा.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts