Breaking News :

यह मेरे कॅरियर का शानदार पल किंग्स्टन, ओलंपिक इतिहास के सफलतम धावकों में शुमार जमैका के यूसेन बोल्ट ने किंग्सटन नेशनल स्टेडियम के सामने अपनी प्रतिमा का अनावरण किया और इसे अपने करियर में सबसे शानदार पल बताया. जमैकन सरकार और प्रधानमंत्री एंड्रयू होलनेस ने देश के सबसे मशूहर और सफल एथलीट बोल्ट की इस प्रतिमा को स्थापित करने में मदद की. इस प्रतिमा को ठीक उसी जगह स्थापित किया गया है जहां 15 वर्ष पहले बोल्ट ने अपनी जूनियर चैंपियनशिप जीतकर दुनियाभर में नयी पहचान बनाई थी. बीजिंग, लंदन और रियो लगातार तीन ओलंपिक में तिहरे स्वर्ण पदकधारी एथलीट ने कहा कि मेरे लिये यह सबसे ऊपर है. मेरे करियर में इससे अच्छा पल कभी नहीं आया. जिस स्टेडियम से करियर की शुरूआत हुई थी उसी में अपनी प्रतिमा को देखना मेरे लिये बहुत बड़ी बात है. मेरे पास शब्द नहीं है. मैं बहुत खुश हूं और उत्साहित भी हूं. 31 वर्षीय बोल्ट की इस प्रतिमा को जमैका के कलाकार बासिल वाटसन ने तैयार किया है और इसे बोल्ट के बहुचर्चित पोज 'लाइटनिंग बोल्ट' के आधार पर ही तैयार किया गया है. जमैकन धावक को उनके 100 और 200 मीटर ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिपों में रेस जीतने के बाद इसी स्टाइल में जश्न मनाते देखा गया है. बोल्ट ने करियर में 11 विश्व और आठ ओलंपिक पदक जीते हैं. बोल्ट को अपने नौ ओलंपिक स्वर्ण पदकों में से एक को गंवाना पड़ा था क्योंकि 2008 बीजिंग ओलंपिक की चार गुणा 100 मीटर रिले टीम के सदस्य नेस्टा कार्टर को प्रतिबंधित दवाओं के सेवन को दोषी पाया गया था. बोल्ट ने कहा कि मैंने जो किया यह उसकी बदौलत है. मेरी हार, चोटें, जो भी मैंने किया उन सबकी बदौलत ही आज मुझे यह सम्मान मिला है. दुनिया के सबसे तेज धावक ने इस वर्ष के शुरूआत में लंदन विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के साथ अपने करियर पर विराम लगा दिया था. काफी खुश दिखाई दे रहे एथलीट ने कहा कि यह बहुत अच्छा है कि हम पीछे मुड़कर देखें तो पता लगता है कि आपके करियर ने क्या दिया है. मैंने जो भी काम किया है उसके लिये मुझे खुद पर गर्व है. यह मेरे लिये अच्छा समय है और मैं अच्छी जगह हूं. इससे पहले जमैका के प्रधानमंत्री होलनेस ने कहा कि बोल्ट के प्रदर्शन की वजह से ही जमैका का खेल बहुत ऊपर स्तर पर गया है. बोल्ट ने कहा कि मैंने हमेशा सोचा कि मैं अपने देश को गौरवान्वित करूं और यदि देश के प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि मेरे काम से देश का सम्मान बड़ा है तो मैं इससे बहुत खुश हूं. मैं आगे भी ऐसा करता रहूंगा."/> यह मेरे कॅरियर का शानदार पल किंग्स्टन, ओलंपिक इतिहास के सफलतम धावकों में शुमार जमैका के यूसेन बोल्ट ने किंग्सटन नेशनल स्टेडियम के सामने अपनी प्रतिमा का अनावरण किया और इसे अपने करियर में सबसे शानदार पल बताया. जमैकन सरकार और प्रधानमंत्री एंड्रयू होलनेस ने देश के सबसे मशूहर और सफल एथलीट बोल्ट की इस प्रतिमा को स्थापित करने में मदद की. इस प्रतिमा को ठीक उसी जगह स्थापित किया गया है जहां 15 वर्ष पहले बोल्ट ने अपनी जूनियर चैंपियनशिप जीतकर दुनियाभर में नयी पहचान बनाई थी. बीजिंग, लंदन और रियो लगातार तीन ओलंपिक में तिहरे स्वर्ण पदकधारी एथलीट ने कहा कि मेरे लिये यह सबसे ऊपर है. मेरे करियर में इससे अच्छा पल कभी नहीं आया. जिस स्टेडियम से करियर की शुरूआत हुई थी उसी में अपनी प्रतिमा को देखना मेरे लिये बहुत बड़ी बात है. मेरे पास शब्द नहीं है. मैं बहुत खुश हूं और उत्साहित भी हूं. 31 वर्षीय बोल्ट की इस प्रतिमा को जमैका के कलाकार बासिल वाटसन ने तैयार किया है और इसे बोल्ट के बहुचर्चित पोज 'लाइटनिंग बोल्ट' के आधार पर ही तैयार किया गया है. जमैकन धावक को उनके 100 और 200 मीटर ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिपों में रेस जीतने के बाद इसी स्टाइल में जश्न मनाते देखा गया है. बोल्ट ने करियर में 11 विश्व और आठ ओलंपिक पदक जीते हैं. बोल्ट को अपने नौ ओलंपिक स्वर्ण पदकों में से एक को गंवाना पड़ा था क्योंकि 2008 बीजिंग ओलंपिक की चार गुणा 100 मीटर रिले टीम के सदस्य नेस्टा कार्टर को प्रतिबंधित दवाओं के सेवन को दोषी पाया गया था. बोल्ट ने कहा कि मैंने जो किया यह उसकी बदौलत है. मेरी हार, चोटें, जो भी मैंने किया उन सबकी बदौलत ही आज मुझे यह सम्मान मिला है. दुनिया के सबसे तेज धावक ने इस वर्ष के शुरूआत में लंदन विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के साथ अपने करियर पर विराम लगा दिया था. काफी खुश दिखाई दे रहे एथलीट ने कहा कि यह बहुत अच्छा है कि हम पीछे मुड़कर देखें तो पता लगता है कि आपके करियर ने क्या दिया है. मैंने जो भी काम किया है उसके लिये मुझे खुद पर गर्व है. यह मेरे लिये अच्छा समय है और मैं अच्छी जगह हूं. इससे पहले जमैका के प्रधानमंत्री होलनेस ने कहा कि बोल्ट के प्रदर्शन की वजह से ही जमैका का खेल बहुत ऊपर स्तर पर गया है. बोल्ट ने कहा कि मैंने हमेशा सोचा कि मैं अपने देश को गौरवान्वित करूं और यदि देश के प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि मेरे काम से देश का सम्मान बड़ा है तो मैं इससे बहुत खुश हूं. मैं आगे भी ऐसा करता रहूंगा."/> यह मेरे कॅरियर का शानदार पल किंग्स्टन, ओलंपिक इतिहास के सफलतम धावकों में शुमार जमैका के यूसेन बोल्ट ने किंग्सटन नेशनल स्टेडियम के सामने अपनी प्रतिमा का अनावरण किया और इसे अपने करियर में सबसे शानदार पल बताया. जमैकन सरकार और प्रधानमंत्री एंड्रयू होलनेस ने देश के सबसे मशूहर और सफल एथलीट बोल्ट की इस प्रतिमा को स्थापित करने में मदद की. इस प्रतिमा को ठीक उसी जगह स्थापित किया गया है जहां 15 वर्ष पहले बोल्ट ने अपनी जूनियर चैंपियनशिप जीतकर दुनियाभर में नयी पहचान बनाई थी. बीजिंग, लंदन और रियो लगातार तीन ओलंपिक में तिहरे स्वर्ण पदकधारी एथलीट ने कहा कि मेरे लिये यह सबसे ऊपर है. मेरे करियर में इससे अच्छा पल कभी नहीं आया. जिस स्टेडियम से करियर की शुरूआत हुई थी उसी में अपनी प्रतिमा को देखना मेरे लिये बहुत बड़ी बात है. मेरे पास शब्द नहीं है. मैं बहुत खुश हूं और उत्साहित भी हूं. 31 वर्षीय बोल्ट की इस प्रतिमा को जमैका के कलाकार बासिल वाटसन ने तैयार किया है और इसे बोल्ट के बहुचर्चित पोज 'लाइटनिंग बोल्ट' के आधार पर ही तैयार किया गया है. जमैकन धावक को उनके 100 और 200 मीटर ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिपों में रेस जीतने के बाद इसी स्टाइल में जश्न मनाते देखा गया है. बोल्ट ने करियर में 11 विश्व और आठ ओलंपिक पदक जीते हैं. बोल्ट को अपने नौ ओलंपिक स्वर्ण पदकों में से एक को गंवाना पड़ा था क्योंकि 2008 बीजिंग ओलंपिक की चार गुणा 100 मीटर रिले टीम के सदस्य नेस्टा कार्टर को प्रतिबंधित दवाओं के सेवन को दोषी पाया गया था. बोल्ट ने कहा कि मैंने जो किया यह उसकी बदौलत है. मेरी हार, चोटें, जो भी मैंने किया उन सबकी बदौलत ही आज मुझे यह सम्मान मिला है. दुनिया के सबसे तेज धावक ने इस वर्ष के शुरूआत में लंदन विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के साथ अपने करियर पर विराम लगा दिया था. काफी खुश दिखाई दे रहे एथलीट ने कहा कि यह बहुत अच्छा है कि हम पीछे मुड़कर देखें तो पता लगता है कि आपके करियर ने क्या दिया है. मैंने जो भी काम किया है उसके लिये मुझे खुद पर गर्व है. यह मेरे लिये अच्छा समय है और मैं अच्छी जगह हूं. इससे पहले जमैका के प्रधानमंत्री होलनेस ने कहा कि बोल्ट के प्रदर्शन की वजह से ही जमैका का खेल बहुत ऊपर स्तर पर गया है. बोल्ट ने कहा कि मैंने हमेशा सोचा कि मैं अपने देश को गौरवान्वित करूं और यदि देश के प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि मेरे काम से देश का सम्मान बड़ा है तो मैं इससे बहुत खुश हूं. मैं आगे भी ऐसा करता रहूंगा.">

बोल्ट ने किया अपनी प्रतिमा का अनावरण

2017/12/06



यह मेरे कॅरियर का शानदार पल किंग्स्टन, ओलंपिक इतिहास के सफलतम धावकों में शुमार जमैका के यूसेन बोल्ट ने किंग्सटन नेशनल स्टेडियम के सामने अपनी प्रतिमा का अनावरण किया और इसे अपने करियर में सबसे शानदार पल बताया. जमैकन सरकार और प्रधानमंत्री एंड्रयू होलनेस ने देश के सबसे मशूहर और सफल एथलीट बोल्ट की इस प्रतिमा को स्थापित करने में मदद की. इस प्रतिमा को ठीक उसी जगह स्थापित किया गया है जहां 15 वर्ष पहले बोल्ट ने अपनी जूनियर चैंपियनशिप जीतकर दुनियाभर में नयी पहचान बनाई थी. बीजिंग, लंदन और रियो लगातार तीन ओलंपिक में तिहरे स्वर्ण पदकधारी एथलीट ने कहा कि मेरे लिये यह सबसे ऊपर है. मेरे करियर में इससे अच्छा पल कभी नहीं आया. जिस स्टेडियम से करियर की शुरूआत हुई थी उसी में अपनी प्रतिमा को देखना मेरे लिये बहुत बड़ी बात है. मेरे पास शब्द नहीं है. मैं बहुत खुश हूं और उत्साहित भी हूं. 31 वर्षीय बोल्ट की इस प्रतिमा को जमैका के कलाकार बासिल वाटसन ने तैयार किया है और इसे बोल्ट के बहुचर्चित पोज 'लाइटनिंग बोल्ट' के आधार पर ही तैयार किया गया है. जमैकन धावक को उनके 100 और 200 मीटर ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिपों में रेस जीतने के बाद इसी स्टाइल में जश्न मनाते देखा गया है. बोल्ट ने करियर में 11 विश्व और आठ ओलंपिक पदक जीते हैं. बोल्ट को अपने नौ ओलंपिक स्वर्ण पदकों में से एक को गंवाना पड़ा था क्योंकि 2008 बीजिंग ओलंपिक की चार गुणा 100 मीटर रिले टीम के सदस्य नेस्टा कार्टर को प्रतिबंधित दवाओं के सेवन को दोषी पाया गया था. बोल्ट ने कहा कि मैंने जो किया यह उसकी बदौलत है. मेरी हार, चोटें, जो भी मैंने किया उन सबकी बदौलत ही आज मुझे यह सम्मान मिला है. दुनिया के सबसे तेज धावक ने इस वर्ष के शुरूआत में लंदन विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के साथ अपने करियर पर विराम लगा दिया था. काफी खुश दिखाई दे रहे एथलीट ने कहा कि यह बहुत अच्छा है कि हम पीछे मुड़कर देखें तो पता लगता है कि आपके करियर ने क्या दिया है. मैंने जो भी काम किया है उसके लिये मुझे खुद पर गर्व है. यह मेरे लिये अच्छा समय है और मैं अच्छी जगह हूं. इससे पहले जमैका के प्रधानमंत्री होलनेस ने कहा कि बोल्ट के प्रदर्शन की वजह से ही जमैका का खेल बहुत ऊपर स्तर पर गया है. बोल्ट ने कहा कि मैंने हमेशा सोचा कि मैं अपने देश को गौरवान्वित करूं और यदि देश के प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि मेरे काम से देश का सम्मान बड़ा है तो मैं इससे बहुत खुश हूं. मैं आगे भी ऐसा करता रहूंगा.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts