Breaking News :

फोन कर बुलाया फिर कर दी पिटाई

2017/12/19



मामला सतपुड़ा भवन का

  • अफसर ने चेतावनी देते हुए कहा- मेरे रहते नहीं कर पाओगे नौकरी
भोपाल, नौकरशाह इतने निरंकुश हो गए हैं कि वे अधीनस्थ कर्मचारियों पर हाथ उठाने में भी संकोच नहीं करते. आदिम जाति कल्याण विभाग में पदस्थ एक शीघ्रलेखक के साथ मारपीट का मामला सामने आया है. मारपीट किसी और ने नहीं बल्कि आदिमजाति क्षेत्रीय विकास योजनाएं में पदस्थ अपर संचालक डॉ. सुरेश भंडारी ने की. घटना सोमवार शाम 5.30 बजे की है. जैसे ही मारपीट का नजारा वहां पर मौजूद अन्य लोगों ने देखा उन्होंने तुरंत बीच विचाव कराया और उसे वहां से बचाकर ले गए. इसके बाद पीडि़ता ने जहांगीराबाद थाने में मामला दर्ज कराने के लिए आवेदन दिया, जहां पर अभी प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई हैै. मेडिकल रिपोर्ट के लिए उसे काटजू अस्पताल भेजा गया था, जहां अंगूठे में मोच आ गई. फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया है. फरियादी का कहना है कि पुलिस जानबूझकर मामला दर्ज नहीं कर रही है. जानकारी के अनुसार कमलाकर सिंह उम्र 54 वर्ष आदिम जाति क्षेत्रीय विकास योजनाएं में शीघ्रलेखक के पद पर पदस्थ हैं. उनकी पदस्थापना सलाहकार अजय जाशू के यहां है. शीघ्रलेखक कमलाकर ने बताया कि शाम 5.30 बजे वे ऑफिस से घर जाने के लिए निकले थे, अभी वे सीढियां उतर रहे थे कि उनके पास अपर संचालक डॉ. सुरेंद्र सिंह भंडारी का फोन आया. फोन पर मां-बहन की भद्दी गालियां देने लगे और बोले कि कब से बुला रहा हूं, सुनते नहीं हो. इसके बाद जब वह उनके चंैबर में पहुंचा तो अपर संचालक भंडारी ने एकाएक उसका कॉलर पकड़ कर गिरा दिया और टेबिल के नीचे पटक पटक कर मारपीट करने लगे. इसके बाद वहां पर अन्य ऑफिस के लोग आ गए जिन्होंने कमलाकर को वहां से निकाला. तुम्हारी ऐसी ही पिटाई करते रहेंगे फरियादी के मुताबिक मारपीट के दौरान अपर संचालक यह भी कह रहे थे कि देखता हूं, तुम कैसे नौकरी करते हो, तुम्हारी हर दिन ऐसे ही मारपीट करूंगा. मारपीट की वजह से उसके अंगूठे में चोटें आई हैं. फरियादी का कहना है कि वह इन पर हमला भी करा सकते हैं. आरटीआई को लेकर विवाद सूत्रों की मानें तो अपर संचालक डॉ. सुरेंद्र सिंह भंडारी को इस बात का शक है कि शीघ्रलेखक कमलाकर ही आरटीआई कार्यकर्ताओं को उनके बारे में जानकारी देते हैं, साथ ही उनसे आवेदन लगवाते हैं. इस बात को लेकर भंडारी उस पर खुन्नस खाए हुए थे. आवेदन लेकर कर्मचारी का मेडिकल काटजू अस्पताल में कराया गया है. रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी. प्रीतम सिंह ठाकुर थाना प्रभारी, जहांगीराबाद  


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts