Breaking News :

पीएससी परीक्षा में सामान्य ज्ञान का आसान पेपर देख परीक्षार्थियों के खिले चेहरे

नवभारत न्यूज रायसेन, राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2018 जिला मुख्यालय रायसेन के 11 परीक्षा केन्द्रों में सुचारू रूप से सम्पन्न कराई गई। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग इंदौर द्वारा जिला मुख्यालय पर 11 परीक्षा केन्द्रों में सम्पन्न होने वाले परीक्षा के लिए 2408 परीक्षार्थियों में से 1939 परीक्षार्थी ही उपस्थित हुए। रविवार को पीएससी की परीक्षा सुबह दोपहर की दो पाली में आयोजित हुई। पहला पेपर सामान्य ज्ञान का सुबह 10 से पेपर सामान्य अभिरूचि परीक्षण दोपहर 12:15 बजे से शाम 4:15 बजेतक कराया गया। पीएससी परीक्षा में अधिकारी बनने की चाहत में शिक्षित बेरोजगार युवा-युवतियों सहित शासकीय सेवक पटवारी, शिक्षक भी शामिल हुए। परीक्षा हॉल में जैसे ही सुबह सामान्य ज्ञान का पेपर सरल आया तो परीक्षार्थियों के चेहरे पर मुस्कान छा गई। उन्होंने पेपर हल कर प्रसन्नता भी जताई। डिप्टी कलेक्टर एमपी बरार ने बताया कि राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा के दौरान नकल एवं अन्य अनुचित सामग्री के परीक्षा कक्ष में प्रवेश को रोकने के लिए परीक्षार्थियों की जांच की गई तथा मोबाईल, पुस्तक आदि सामग्री को कक्ष मे जाने से पहले से ही ले ली गई तथा निर्धारित स्थान पर उन्हें रखा गया। उन्होंने बताया कि जिले के सभी 11 परीक्षा केन्द्रों में परीक्षा सुचारू रूप से शांतिपूर्वक सम्पन्न हुई। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने इस परीक्षा में लगे अमले को स्पष्ट निर्देश दिए थे कि परीक्षार्थियों को किसी प्रकार की कोई असुविधान हो तथा वे बिना किसी व्यवधान के परीक्षा दे सकें। रविवार को शहर में आयोजित एमपी पीएससी की परीक्षा देने के लिए बनाए गए परीक्षा केन्द्रों पर आए दो हजार परीक्षार्थियों की भीड़ से कई बार मुख्य मार्गों पर जाम की स्थिति निर्मित हुई। रायसेन-विदिशा और रायसेन-सागर मार्ग पर आवागमन को सुचारू बनाने के लिए पुलिस को दिनभर मशक्कत करना पड़ी। जिला मुख्यालय के 10 केंद्रो पर आयोजित हुई पीएससी परीक्षा राजगढ़ . मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा ली जाने वाली राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा एवं वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा रविवार को जिला मुख्यालय पर 10 केंद्रों पर आयोजित की गई. परीक्षा दो पालियों में आयोजित की गई. परीक्षा सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक और दोपहर 2.15 बजे से 4.15 बजे तक आयोजित की गई. जिसमें कुल दर्ज परिक्षार्थियों में 84 प्रतिशत परिक्षार्थी उपस्थित रहे. परीक्षा केे दौरान सुरक्षा की दृष्टि से हर परीक्षा केंद्र पर पुलिस बल तैनात रहा. पुलिस बल रहा तैनात राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा केे दौरान सुरक्षा की दृष्ट्रि से पुलिस बल भी तैनात किया गया था. परीक्षा केे दौरान सभी 10 केंद्रों पर पुलिस की चाक चौबंद व्यवस्था रही. किसी भी केंद्र पर कोई अप्रिय घटना की सूचनाा नहीं मिली. चाक चौबंद रखी नजर परीक्षा प्रारंभ होने से पूर्व मुन्नाभाईयों को रोकने के लिए पुरी व्यवस्था की गई थी. रविवार को जिला मुख्यालय आयोजित की गई राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा के लिए कुल बनाए गए 10 केंद्रों पर कुल दर्ज 2 हजार 929 परिक्षार्थिायों में 2 हजार 478 परिक्षार्थि ने अपना भाग्य अजमाया वही 451 परिक्षार्थी अनुपस्थित रहे. पांच केन्द्रों पर संपन्न हुई प्रारंभिक परीक्षा विदिशा. राज्य लोक सेवा आयोग की रविवार को हुयी प्रारंभिक परीक्षा शहर के पांच केन्द्रों पर हुयी जिसकी पहली पारी में पंजीकृत 2908 में से 2481 ने परीक्षा दी. वहीं द्वितीय पॉली में 2461 परीक्षार्थी उपस्थित रहे.   सख्ती के साथ शांतिपूर्ण संपन्न हुई पीएससी-प्री परीक्षा गुना.मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग की राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा रविवार को शहर के 8 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की गई. जिसमें शहर एवं आस-पास के क्षेत्रों के हजारों युवक-युवतियां एक्जाम देने के लिये सेंटरों पर पहुंचे. लेकिन एक्जाम हॉल में घुसने से पहले सभी लोगों को जूते-मोजे उतारने पड़े. युवतियां को तो कानों के झुमके और सोने की चेन तक उतारने और कड़ी तलाशी देने के बाद अंदर जाने दिया गया. हॉल में सभी युवा नंगे पांव या फिर चप्पल पहन कर ही बैठे थे. दोपहर में कलेक्टर राजेश जैन एवं एसडीएम दिनेशचंद्र शुक्ल ने परीक्षा केंद्रों पर पहुंचकर जायजा लिया. रविवार को सुबह एमपी के कई शहरों के साथ गुना में एमपी पीएससी का प्री एक्जाम था. इस एक्जाम के लिए पहले ही निर्देश थे कि किसी प्रकार की ज्वैलरी नहीं पहनी जाएगी. केवल चप्पल पहनकर ही एक्जाम देने आएं। इसके बाद भी कैंडीडेट्स ने ध्यान नहीं दिया और ज्यादातर परीक्षार्थी जूते पहनकर पहुंचे. यही नहीं युवतियां ईयर रिंग्स और गोल्ड चेन पहनकर एक्जाम देने पहुंची. ऐसे परीक्षार्थियों की सख्ती से तलाशी ली गई और उसके बाद उन्हें ज्वैलरी और जूते उतारने पड़े, तभी वे एक्जाम दे पाए."/>

पीएससी परीक्षा में सामान्य ज्ञान का आसान पेपर देख परीक्षार्थियों के खिले चेहरे

नवभारत न्यूज रायसेन, राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2018 जिला मुख्यालय रायसेन के 11 परीक्षा केन्द्रों में सुचारू रूप से सम्पन्न कराई गई। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग इंदौर द्वारा जिला मुख्यालय पर 11 परीक्षा केन्द्रों में सम्पन्न होने वाले परीक्षा के लिए 2408 परीक्षार्थियों में से 1939 परीक्षार्थी ही उपस्थित हुए। रविवार को पीएससी की परीक्षा सुबह दोपहर की दो पाली में आयोजित हुई। पहला पेपर सामान्य ज्ञान का सुबह 10 से पेपर सामान्य अभिरूचि परीक्षण दोपहर 12:15 बजे से शाम 4:15 बजेतक कराया गया। पीएससी परीक्षा में अधिकारी बनने की चाहत में शिक्षित बेरोजगार युवा-युवतियों सहित शासकीय सेवक पटवारी, शिक्षक भी शामिल हुए। परीक्षा हॉल में जैसे ही सुबह सामान्य ज्ञान का पेपर सरल आया तो परीक्षार्थियों के चेहरे पर मुस्कान छा गई। उन्होंने पेपर हल कर प्रसन्नता भी जताई। डिप्टी कलेक्टर एमपी बरार ने बताया कि राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा के दौरान नकल एवं अन्य अनुचित सामग्री के परीक्षा कक्ष में प्रवेश को रोकने के लिए परीक्षार्थियों की जांच की गई तथा मोबाईल, पुस्तक आदि सामग्री को कक्ष मे जाने से पहले से ही ले ली गई तथा निर्धारित स्थान पर उन्हें रखा गया। उन्होंने बताया कि जिले के सभी 11 परीक्षा केन्द्रों में परीक्षा सुचारू रूप से शांतिपूर्वक सम्पन्न हुई। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने इस परीक्षा में लगे अमले को स्पष्ट निर्देश दिए थे कि परीक्षार्थियों को किसी प्रकार की कोई असुविधान हो तथा वे बिना किसी व्यवधान के परीक्षा दे सकें। रविवार को शहर में आयोजित एमपी पीएससी की परीक्षा देने के लिए बनाए गए परीक्षा केन्द्रों पर आए दो हजार परीक्षार्थियों की भीड़ से कई बार मुख्य मार्गों पर जाम की स्थिति निर्मित हुई। रायसेन-विदिशा और रायसेन-सागर मार्ग पर आवागमन को सुचारू बनाने के लिए पुलिस को दिनभर मशक्कत करना पड़ी। जिला मुख्यालय के 10 केंद्रो पर आयोजित हुई पीएससी परीक्षा राजगढ़ . मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा ली जाने वाली राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा एवं वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा रविवार को जिला मुख्यालय पर 10 केंद्रों पर आयोजित की गई. परीक्षा दो पालियों में आयोजित की गई. परीक्षा सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक और दोपहर 2.15 बजे से 4.15 बजे तक आयोजित की गई. जिसमें कुल दर्ज परिक्षार्थियों में 84 प्रतिशत परिक्षार्थी उपस्थित रहे. परीक्षा केे दौरान सुरक्षा की दृष्टि से हर परीक्षा केंद्र पर पुलिस बल तैनात रहा. पुलिस बल रहा तैनात राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा केे दौरान सुरक्षा की दृष्ट्रि से पुलिस बल भी तैनात किया गया था. परीक्षा केे दौरान सभी 10 केंद्रों पर पुलिस की चाक चौबंद व्यवस्था रही. किसी भी केंद्र पर कोई अप्रिय घटना की सूचनाा नहीं मिली. चाक चौबंद रखी नजर परीक्षा प्रारंभ होने से पूर्व मुन्नाभाईयों को रोकने के लिए पुरी व्यवस्था की गई थी. रविवार को जिला मुख्यालय आयोजित की गई राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा के लिए कुल बनाए गए 10 केंद्रों पर कुल दर्ज 2 हजार 929 परिक्षार्थिायों में 2 हजार 478 परिक्षार्थि ने अपना भाग्य अजमाया वही 451 परिक्षार्थी अनुपस्थित रहे. पांच केन्द्रों पर संपन्न हुई प्रारंभिक परीक्षा विदिशा. राज्य लोक सेवा आयोग की रविवार को हुयी प्रारंभिक परीक्षा शहर के पांच केन्द्रों पर हुयी जिसकी पहली पारी में पंजीकृत 2908 में से 2481 ने परीक्षा दी. वहीं द्वितीय पॉली में 2461 परीक्षार्थी उपस्थित रहे.   सख्ती के साथ शांतिपूर्ण संपन्न हुई पीएससी-प्री परीक्षा गुना.मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग की राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा रविवार को शहर के 8 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की गई. जिसमें शहर एवं आस-पास के क्षेत्रों के हजारों युवक-युवतियां एक्जाम देने के लिये सेंटरों पर पहुंचे. लेकिन एक्जाम हॉल में घुसने से पहले सभी लोगों को जूते-मोजे उतारने पड़े. युवतियां को तो कानों के झुमके और सोने की चेन तक उतारने और कड़ी तलाशी देने के बाद अंदर जाने दिया गया. हॉल में सभी युवा नंगे पांव या फिर चप्पल पहन कर ही बैठे थे. दोपहर में कलेक्टर राजेश जैन एवं एसडीएम दिनेशचंद्र शुक्ल ने परीक्षा केंद्रों पर पहुंचकर जायजा लिया. रविवार को सुबह एमपी के कई शहरों के साथ गुना में एमपी पीएससी का प्री एक्जाम था. इस एक्जाम के लिए पहले ही निर्देश थे कि किसी प्रकार की ज्वैलरी नहीं पहनी जाएगी. केवल चप्पल पहनकर ही एक्जाम देने आएं। इसके बाद भी कैंडीडेट्स ने ध्यान नहीं दिया और ज्यादातर परीक्षार्थी जूते पहनकर पहुंचे. यही नहीं युवतियां ईयर रिंग्स और गोल्ड चेन पहनकर एक्जाम देने पहुंची. ऐसे परीक्षार्थियों की सख्ती से तलाशी ली गई और उसके बाद उन्हें ज्वैलरी और जूते उतारने पड़े, तभी वे एक्जाम दे पाए."/>

पीएससी परीक्षा में सामान्य ज्ञान का आसान पेपर देख परीक्षार्थियों के खिले चेहरे

नवभारत न्यूज रायसेन, राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2018 जिला मुख्यालय रायसेन के 11 परीक्षा केन्द्रों में सुचारू रूप से सम्पन्न कराई गई। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग इंदौर द्वारा जिला मुख्यालय पर 11 परीक्षा केन्द्रों में सम्पन्न होने वाले परीक्षा के लिए 2408 परीक्षार्थियों में से 1939 परीक्षार्थी ही उपस्थित हुए। रविवार को पीएससी की परीक्षा सुबह दोपहर की दो पाली में आयोजित हुई। पहला पेपर सामान्य ज्ञान का सुबह 10 से पेपर सामान्य अभिरूचि परीक्षण दोपहर 12:15 बजे से शाम 4:15 बजेतक कराया गया। पीएससी परीक्षा में अधिकारी बनने की चाहत में शिक्षित बेरोजगार युवा-युवतियों सहित शासकीय सेवक पटवारी, शिक्षक भी शामिल हुए। परीक्षा हॉल में जैसे ही सुबह सामान्य ज्ञान का पेपर सरल आया तो परीक्षार्थियों के चेहरे पर मुस्कान छा गई। उन्होंने पेपर हल कर प्रसन्नता भी जताई। डिप्टी कलेक्टर एमपी बरार ने बताया कि राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा के दौरान नकल एवं अन्य अनुचित सामग्री के परीक्षा कक्ष में प्रवेश को रोकने के लिए परीक्षार्थियों की जांच की गई तथा मोबाईल, पुस्तक आदि सामग्री को कक्ष मे जाने से पहले से ही ले ली गई तथा निर्धारित स्थान पर उन्हें रखा गया। उन्होंने बताया कि जिले के सभी 11 परीक्षा केन्द्रों में परीक्षा सुचारू रूप से शांतिपूर्वक सम्पन्न हुई। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने इस परीक्षा में लगे अमले को स्पष्ट निर्देश दिए थे कि परीक्षार्थियों को किसी प्रकार की कोई असुविधान हो तथा वे बिना किसी व्यवधान के परीक्षा दे सकें। रविवार को शहर में आयोजित एमपी पीएससी की परीक्षा देने के लिए बनाए गए परीक्षा केन्द्रों पर आए दो हजार परीक्षार्थियों की भीड़ से कई बार मुख्य मार्गों पर जाम की स्थिति निर्मित हुई। रायसेन-विदिशा और रायसेन-सागर मार्ग पर आवागमन को सुचारू बनाने के लिए पुलिस को दिनभर मशक्कत करना पड़ी। जिला मुख्यालय के 10 केंद्रो पर आयोजित हुई पीएससी परीक्षा राजगढ़ . मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा ली जाने वाली राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा एवं वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा रविवार को जिला मुख्यालय पर 10 केंद्रों पर आयोजित की गई. परीक्षा दो पालियों में आयोजित की गई. परीक्षा सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक और दोपहर 2.15 बजे से 4.15 बजे तक आयोजित की गई. जिसमें कुल दर्ज परिक्षार्थियों में 84 प्रतिशत परिक्षार्थी उपस्थित रहे. परीक्षा केे दौरान सुरक्षा की दृष्टि से हर परीक्षा केंद्र पर पुलिस बल तैनात रहा. पुलिस बल रहा तैनात राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा केे दौरान सुरक्षा की दृष्ट्रि से पुलिस बल भी तैनात किया गया था. परीक्षा केे दौरान सभी 10 केंद्रों पर पुलिस की चाक चौबंद व्यवस्था रही. किसी भी केंद्र पर कोई अप्रिय घटना की सूचनाा नहीं मिली. चाक चौबंद रखी नजर परीक्षा प्रारंभ होने से पूर्व मुन्नाभाईयों को रोकने के लिए पुरी व्यवस्था की गई थी. रविवार को जिला मुख्यालय आयोजित की गई राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा के लिए कुल बनाए गए 10 केंद्रों पर कुल दर्ज 2 हजार 929 परिक्षार्थिायों में 2 हजार 478 परिक्षार्थि ने अपना भाग्य अजमाया वही 451 परिक्षार्थी अनुपस्थित रहे. पांच केन्द्रों पर संपन्न हुई प्रारंभिक परीक्षा विदिशा. राज्य लोक सेवा आयोग की रविवार को हुयी प्रारंभिक परीक्षा शहर के पांच केन्द्रों पर हुयी जिसकी पहली पारी में पंजीकृत 2908 में से 2481 ने परीक्षा दी. वहीं द्वितीय पॉली में 2461 परीक्षार्थी उपस्थित रहे.   सख्ती के साथ शांतिपूर्ण संपन्न हुई पीएससी-प्री परीक्षा गुना.मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग की राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा रविवार को शहर के 8 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की गई. जिसमें शहर एवं आस-पास के क्षेत्रों के हजारों युवक-युवतियां एक्जाम देने के लिये सेंटरों पर पहुंचे. लेकिन एक्जाम हॉल में घुसने से पहले सभी लोगों को जूते-मोजे उतारने पड़े. युवतियां को तो कानों के झुमके और सोने की चेन तक उतारने और कड़ी तलाशी देने के बाद अंदर जाने दिया गया. हॉल में सभी युवा नंगे पांव या फिर चप्पल पहन कर ही बैठे थे. दोपहर में कलेक्टर राजेश जैन एवं एसडीएम दिनेशचंद्र शुक्ल ने परीक्षा केंद्रों पर पहुंचकर जायजा लिया. रविवार को सुबह एमपी के कई शहरों के साथ गुना में एमपी पीएससी का प्री एक्जाम था. इस एक्जाम के लिए पहले ही निर्देश थे कि किसी प्रकार की ज्वैलरी नहीं पहनी जाएगी. केवल चप्पल पहनकर ही एक्जाम देने आएं। इसके बाद भी कैंडीडेट्स ने ध्यान नहीं दिया और ज्यादातर परीक्षार्थी जूते पहनकर पहुंचे. यही नहीं युवतियां ईयर रिंग्स और गोल्ड चेन पहनकर एक्जाम देने पहुंची. ऐसे परीक्षार्थियों की सख्ती से तलाशी ली गई और उसके बाद उन्हें ज्वैलरी और जूते उतारने पड़े, तभी वे एक्जाम दे पाए.">

पीएससी की प्रदेश के कई केंद्रों पर हुई परीक्षा

2018/02/19



पीएससी परीक्षा में सामान्य ज्ञान का आसान पेपर देख परीक्षार्थियों के खिले चेहरे

नवभारत न्यूज रायसेन, राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2018 जिला मुख्यालय रायसेन के 11 परीक्षा केन्द्रों में सुचारू रूप से सम्पन्न कराई गई। मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग इंदौर द्वारा जिला मुख्यालय पर 11 परीक्षा केन्द्रों में सम्पन्न होने वाले परीक्षा के लिए 2408 परीक्षार्थियों में से 1939 परीक्षार्थी ही उपस्थित हुए। रविवार को पीएससी की परीक्षा सुबह दोपहर की दो पाली में आयोजित हुई। पहला पेपर सामान्य ज्ञान का सुबह 10 से पेपर सामान्य अभिरूचि परीक्षण दोपहर 12:15 बजे से शाम 4:15 बजेतक कराया गया। पीएससी परीक्षा में अधिकारी बनने की चाहत में शिक्षित बेरोजगार युवा-युवतियों सहित शासकीय सेवक पटवारी, शिक्षक भी शामिल हुए। परीक्षा हॉल में जैसे ही सुबह सामान्य ज्ञान का पेपर सरल आया तो परीक्षार्थियों के चेहरे पर मुस्कान छा गई। उन्होंने पेपर हल कर प्रसन्नता भी जताई। डिप्टी कलेक्टर एमपी बरार ने बताया कि राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा के दौरान नकल एवं अन्य अनुचित सामग्री के परीक्षा कक्ष में प्रवेश को रोकने के लिए परीक्षार्थियों की जांच की गई तथा मोबाईल, पुस्तक आदि सामग्री को कक्ष मे जाने से पहले से ही ले ली गई तथा निर्धारित स्थान पर उन्हें रखा गया। उन्होंने बताया कि जिले के सभी 11 परीक्षा केन्द्रों में परीक्षा सुचारू रूप से शांतिपूर्वक सम्पन्न हुई। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर श्रीमती भावना वालिम्बे ने इस परीक्षा में लगे अमले को स्पष्ट निर्देश दिए थे कि परीक्षार्थियों को किसी प्रकार की कोई असुविधान हो तथा वे बिना किसी व्यवधान के परीक्षा दे सकें। रविवार को शहर में आयोजित एमपी पीएससी की परीक्षा देने के लिए बनाए गए परीक्षा केन्द्रों पर आए दो हजार परीक्षार्थियों की भीड़ से कई बार मुख्य मार्गों पर जाम की स्थिति निर्मित हुई। रायसेन-विदिशा और रायसेन-सागर मार्ग पर आवागमन को सुचारू बनाने के लिए पुलिस को दिनभर मशक्कत करना पड़ी। जिला मुख्यालय के 10 केंद्रो पर आयोजित हुई पीएससी परीक्षा राजगढ़ . मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा ली जाने वाली राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा एवं वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा रविवार को जिला मुख्यालय पर 10 केंद्रों पर आयोजित की गई. परीक्षा दो पालियों में आयोजित की गई. परीक्षा सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक और दोपहर 2.15 बजे से 4.15 बजे तक आयोजित की गई. जिसमें कुल दर्ज परिक्षार्थियों में 84 प्रतिशत परिक्षार्थी उपस्थित रहे. परीक्षा केे दौरान सुरक्षा की दृष्टि से हर परीक्षा केंद्र पर पुलिस बल तैनात रहा. पुलिस बल रहा तैनात राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा केे दौरान सुरक्षा की दृष्ट्रि से पुलिस बल भी तैनात किया गया था. परीक्षा केे दौरान सभी 10 केंद्रों पर पुलिस की चाक चौबंद व्यवस्था रही. किसी भी केंद्र पर कोई अप्रिय घटना की सूचनाा नहीं मिली. चाक चौबंद रखी नजर परीक्षा प्रारंभ होने से पूर्व मुन्नाभाईयों को रोकने के लिए पुरी व्यवस्था की गई थी. रविवार को जिला मुख्यालय आयोजित की गई राज्य प्रशासनिक सेवा प्रारंभिक परीक्षा के लिए कुल बनाए गए 10 केंद्रों पर कुल दर्ज 2 हजार 929 परिक्षार्थिायों में 2 हजार 478 परिक्षार्थि ने अपना भाग्य अजमाया वही 451 परिक्षार्थी अनुपस्थित रहे. पांच केन्द्रों पर संपन्न हुई प्रारंभिक परीक्षा विदिशा. राज्य लोक सेवा आयोग की रविवार को हुयी प्रारंभिक परीक्षा शहर के पांच केन्द्रों पर हुयी जिसकी पहली पारी में पंजीकृत 2908 में से 2481 ने परीक्षा दी. वहीं द्वितीय पॉली में 2461 परीक्षार्थी उपस्थित रहे.   सख्ती के साथ शांतिपूर्ण संपन्न हुई पीएससी-प्री परीक्षा गुना.मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग की राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा रविवार को शहर के 8 परीक्षा केन्द्रों पर आयोजित की गई. जिसमें शहर एवं आस-पास के क्षेत्रों के हजारों युवक-युवतियां एक्जाम देने के लिये सेंटरों पर पहुंचे. लेकिन एक्जाम हॉल में घुसने से पहले सभी लोगों को जूते-मोजे उतारने पड़े. युवतियां को तो कानों के झुमके और सोने की चेन तक उतारने और कड़ी तलाशी देने के बाद अंदर जाने दिया गया. हॉल में सभी युवा नंगे पांव या फिर चप्पल पहन कर ही बैठे थे. दोपहर में कलेक्टर राजेश जैन एवं एसडीएम दिनेशचंद्र शुक्ल ने परीक्षा केंद्रों पर पहुंचकर जायजा लिया. रविवार को सुबह एमपी के कई शहरों के साथ गुना में एमपी पीएससी का प्री एक्जाम था. इस एक्जाम के लिए पहले ही निर्देश थे कि किसी प्रकार की ज्वैलरी नहीं पहनी जाएगी. केवल चप्पल पहनकर ही एक्जाम देने आएं। इसके बाद भी कैंडीडेट्स ने ध्यान नहीं दिया और ज्यादातर परीक्षार्थी जूते पहनकर पहुंचे. यही नहीं युवतियां ईयर रिंग्स और गोल्ड चेन पहनकर एक्जाम देने पहुंची. ऐसे परीक्षार्थियों की सख्ती से तलाशी ली गई और उसके बाद उन्हें ज्वैलरी और जूते उतारने पड़े, तभी वे एक्जाम दे पाए.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts