Breaking News :

भारत अपने खिलाडिय़ों को ज्यादा अवसर देता है हैदराबाद, राष्ट्रीय टीम से बाहर किये गये पूर्व पाकिस्तानी सलामी बल्लेबाज सलमान बट का मानना है कि चयनकर्ताओं को राष्ट्रीय टीम का चयन करते समय भारतीय चयनकर्ताओं से सीख लेना चाहिए. बट ने यहां हैदाबाद प्रेस क्ल्ब द्वारा कल शाम आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान यह बात कही. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी चयनकर्ताओं के मुकाबले भारतीय चयनकर्ता अपने खिलाडि़य़ों को अधिक मौके देते हैं. पूर्व सलामी बल्लेबाज बट ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट खेलने के लिए भारत अपने खिलाडिय़ों को अधिक अवसर देता है. उन्होंने भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा का उदाहरण देते हुए कहा कि एक समय उनका (रोहित) का औसत 25-30 का था. लेेकिन भारतीय चयनकर्ताओं ने उन्हें लगातार मौके दिये और वह अब विश्व के एक शानदार बल्लेबाज हैं, वहीं कामरान अकमल का मानना है कि पाकिस्तान भारत जैसे स्तरीय बल्लेबाज नहीं बना पाता है क्योंकि पाकिस्तान के घरेलू मैचों में भारत जैसे पिचें नहीं है. कामरान पाकिस्तान के लिए 53 टेस्ट, 157 वनडे और 58 ट्वेंटी-20 अंंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं.कामरान ने कहा कि आपको ऐसे घरेलू पिचें तैयार करने की जरुरत है जहां बल्लेबाज अपनी पारी को संवार सकता है और लंबे समय तक विकेट पर टिक सकता है. ऐसा इसलिए होना चाहिए ताकि बल्लेबाजों को इससे आत्मविश्वास मिले और वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए तैयार हो सके."/> भारत अपने खिलाडिय़ों को ज्यादा अवसर देता है हैदराबाद, राष्ट्रीय टीम से बाहर किये गये पूर्व पाकिस्तानी सलामी बल्लेबाज सलमान बट का मानना है कि चयनकर्ताओं को राष्ट्रीय टीम का चयन करते समय भारतीय चयनकर्ताओं से सीख लेना चाहिए. बट ने यहां हैदाबाद प्रेस क्ल्ब द्वारा कल शाम आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान यह बात कही. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी चयनकर्ताओं के मुकाबले भारतीय चयनकर्ता अपने खिलाडि़य़ों को अधिक मौके देते हैं. पूर्व सलामी बल्लेबाज बट ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट खेलने के लिए भारत अपने खिलाडिय़ों को अधिक अवसर देता है. उन्होंने भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा का उदाहरण देते हुए कहा कि एक समय उनका (रोहित) का औसत 25-30 का था. लेेकिन भारतीय चयनकर्ताओं ने उन्हें लगातार मौके दिये और वह अब विश्व के एक शानदार बल्लेबाज हैं, वहीं कामरान अकमल का मानना है कि पाकिस्तान भारत जैसे स्तरीय बल्लेबाज नहीं बना पाता है क्योंकि पाकिस्तान के घरेलू मैचों में भारत जैसे पिचें नहीं है. कामरान पाकिस्तान के लिए 53 टेस्ट, 157 वनडे और 58 ट्वेंटी-20 अंंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं.कामरान ने कहा कि आपको ऐसे घरेलू पिचें तैयार करने की जरुरत है जहां बल्लेबाज अपनी पारी को संवार सकता है और लंबे समय तक विकेट पर टिक सकता है. ऐसा इसलिए होना चाहिए ताकि बल्लेबाजों को इससे आत्मविश्वास मिले और वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए तैयार हो सके."/> भारत अपने खिलाडिय़ों को ज्यादा अवसर देता है हैदराबाद, राष्ट्रीय टीम से बाहर किये गये पूर्व पाकिस्तानी सलामी बल्लेबाज सलमान बट का मानना है कि चयनकर्ताओं को राष्ट्रीय टीम का चयन करते समय भारतीय चयनकर्ताओं से सीख लेना चाहिए. बट ने यहां हैदाबाद प्रेस क्ल्ब द्वारा कल शाम आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान यह बात कही. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी चयनकर्ताओं के मुकाबले भारतीय चयनकर्ता अपने खिलाडि़य़ों को अधिक मौके देते हैं. पूर्व सलामी बल्लेबाज बट ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट खेलने के लिए भारत अपने खिलाडिय़ों को अधिक अवसर देता है. उन्होंने भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा का उदाहरण देते हुए कहा कि एक समय उनका (रोहित) का औसत 25-30 का था. लेेकिन भारतीय चयनकर्ताओं ने उन्हें लगातार मौके दिये और वह अब विश्व के एक शानदार बल्लेबाज हैं, वहीं कामरान अकमल का मानना है कि पाकिस्तान भारत जैसे स्तरीय बल्लेबाज नहीं बना पाता है क्योंकि पाकिस्तान के घरेलू मैचों में भारत जैसे पिचें नहीं है. कामरान पाकिस्तान के लिए 53 टेस्ट, 157 वनडे और 58 ट्वेंटी-20 अंंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं.कामरान ने कहा कि आपको ऐसे घरेलू पिचें तैयार करने की जरुरत है जहां बल्लेबाज अपनी पारी को संवार सकता है और लंबे समय तक विकेट पर टिक सकता है. ऐसा इसलिए होना चाहिए ताकि बल्लेबाजों को इससे आत्मविश्वास मिले और वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए तैयार हो सके.">

पाकिस्तान चयनकर्ताओं को भारत से सबक लेना चाहिए

2018/01/06



भारत अपने खिलाडिय़ों को ज्यादा अवसर देता है हैदराबाद, राष्ट्रीय टीम से बाहर किये गये पूर्व पाकिस्तानी सलामी बल्लेबाज सलमान बट का मानना है कि चयनकर्ताओं को राष्ट्रीय टीम का चयन करते समय भारतीय चयनकर्ताओं से सीख लेना चाहिए. बट ने यहां हैदाबाद प्रेस क्ल्ब द्वारा कल शाम आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान यह बात कही. उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी चयनकर्ताओं के मुकाबले भारतीय चयनकर्ता अपने खिलाडि़य़ों को अधिक मौके देते हैं. पूर्व सलामी बल्लेबाज बट ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट खेलने के लिए भारत अपने खिलाडिय़ों को अधिक अवसर देता है. उन्होंने भारतीय सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा का उदाहरण देते हुए कहा कि एक समय उनका (रोहित) का औसत 25-30 का था. लेेकिन भारतीय चयनकर्ताओं ने उन्हें लगातार मौके दिये और वह अब विश्व के एक शानदार बल्लेबाज हैं, वहीं कामरान अकमल का मानना है कि पाकिस्तान भारत जैसे स्तरीय बल्लेबाज नहीं बना पाता है क्योंकि पाकिस्तान के घरेलू मैचों में भारत जैसे पिचें नहीं है. कामरान पाकिस्तान के लिए 53 टेस्ट, 157 वनडे और 58 ट्वेंटी-20 अंंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुके हैं.कामरान ने कहा कि आपको ऐसे घरेलू पिचें तैयार करने की जरुरत है जहां बल्लेबाज अपनी पारी को संवार सकता है और लंबे समय तक विकेट पर टिक सकता है. ऐसा इसलिए होना चाहिए ताकि बल्लेबाजों को इससे आत्मविश्वास मिले और वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए तैयार हो सके.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts