Breaking News :

पति ने पागल कहा, पत्नी ने लगाई फांसी

2017/12/05



फरवरी माह में हुई थी शादी नवभारत न्यूज भोपाल, ऐशबाग थाना अंतर्गत एक विवाहिता ने फांसी लगाकर जान दे दी. बताया जा रहा है कि पति पत्नी के बीच विवाद चल रहा था, वहीं हाल ही में पति ने महिला को मानसिक रुप से विक्षिप्त होने के आरोप लगाए थे. पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है. पुलिस से मिली जानकारी के शैलकुमारी चौकसे की शादी इसी वर्ष फरवरी माह में पुष्पानगर में रहने वाले खेमराज राय से हुई थी. पुलिस के मुताबिक शादी के बाद से ही इनके बीच विवाद चल रहा था. इतना ही नहीं एक मामले में परिवार परामर्श केंद्र में भी काउंसलिंग हुई थी. महिला का पति कहता रहता था कि पत्नी के परिजनों ने धोखे में रखकर उसकी शादी की है. महिला मानसिक रुप से विक्षिप्त होने के आरोप लगाकर पति ने विगत 28 नवंबर को शिकायत भी की थी. पति का आरोप है कि उनके परिजनों ने धोखे में रखकर उसे फंसा दिया है. पुलिस की मानें तो महिला इसी बात को लेकर डिप्रेशन में रहती थी. रविववार को उसने अपने आप को कमरे में बंद कर फांसी लगा ली. पुलिस का कहना है कि अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है, मामले की जांच की जा रही है, जिसके बाद ही स्थिति साफ हो पाएगी. पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना प्रारंभ कर दी है. पहले रखा शादी का प्रस्ताव फिर करने लगा प्रताडि़त शेलकुमारी के पिता लक्ष्मणप्रकाश चौकसे ने बताया कि शेलकुमारी का पहले पति से तलाक हो गया था. उसके 3 साल बाद फरवरी 2016 में उन्होंने ऐशबाग निवासी खेमराज से उसकी दूसरी शादी की थी. खेमराज की भी यह दूसरी शादी थी. उसने ही शादी का प्रस्ताव रखा था. शादी के बाद वह दहेज के लिए प्रताडि़त करने लगा था. हम उसे बीच-बीच में रुपए देते रहते थे. वह फैक्ट्री चलाने के लिए 10 लाख रुपए मांग रहा था. आरक्षक के साथ मारपीट मामले में तीन गिरफ्तार आरक्षक से मारपीट करने के मामले में गोविंदपुरा पुलिस ने दंपति सहित एक अन्य को गिरफ्तार किया है. सोमवार को उन्हें न्यायालय में पेश किया गया, जहां से जेल भेज दिया गया है. वहीं पुलिस वीडियो के आधार पर अन्य आरोपियों का पता लगाने में जुटी है. आरक्षक से मारपीट करने के मामले में एक पुलिसकर्मी भी सामने आ रहा है. पुलिस का कहना है कि आरोपी कोई भी हो, छोड़ा नहीं जाएगा. गौरतलब है कि आरक्षक नरेश बघेल का गोविंदपुरा थाने के सामने कार पार्क करने को लेकर अर्पणा शर्मा निवासी अवधपुरी से विवाद हो गया था. इसके बाद कार में सवार दंपति ने पेट्रोल पंप पर आरक्ष के साथ मारपीट कर दी थी और अभद्रता करने के आरोप लगाए थे. जब पुलिस ने जांच की तो सामने आया कि आरक्षक से दंपति ने अन्य लोगों के साथ मिलकर लात घूसों व चप्पलों से मारपीट की, जिसके बाद गोविंदपुरा पुलिस ने दंपति को गिरफ्तार कर लिया था, वहीं सोमवार को पुलिस ने मामले की जांच करते हुए एक अन्य आरोपी अक्षय सिंह राजपूत निवासी अवधपुरी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया, जहां से जेल भेज दिया गया है. बड़ी बहन का आरोप- हत्या की गई है मृतिका की बड़ी बहन ने बताया कि मरने से पूर्व मृतिका ने फोन पर बताया था कि खेमराज ने पूरे घर में यहां तक कि बेडरूम में भी कैमरे लगवा दिए हैं. वे मुझे बहुत मारते हैं. उन्होंने ऐशबाग पुलिस थाने में मेरी कोई शिकायत की है. पुलिस थाने से फोन आ रहे हैं. पुलिस पापा और मुझे थाने बुला रही है. मृतिका की बड़ी बहन ने हत्या की आशंका जताई है. उन्होंने कहा कि वह बहुत हिम्मत वाली थी. वह कहती थी दीदी खेमराज बहुत परेशान करते हैं. वह मुझे घर से निकालना चाहते हैं, लेकिन मैं घर से नहीं निकलूंगी. अगर घर से निकल गई, तो सब यही कहेंगे कि दूसरे पति से भी इसकी नहीं बन पाई. मैं पापा को और दुख नहीं दे सकती हूं. वह रो रही थी, लेकिन उसने कहीं भी आत्महत्या करने का जिक्र नहीं किया था. मैंने उसे समझाया और वह शांत हो गई थी. बातचीत के बाद खेमराज ने मुझे मैसेज करके कहा था कि मैं अंतिम बार तुम्हारी बहन की गुलामी करने जा रहा हूं. खेमराज की बातों का मतलब अब समझ आया.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts