Breaking News :

इस्लामाबाद, पाकिस्तान तहरीके इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष और पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी इमरान खान का कहना है कि अगर देश के नेता काले धन को विदेशों में जमा करने की प्रवृति नहीं रखते तो सुरक्षा सहायता राेकने के अमेरिका के फैसले से पाकिस्तानी जनता को आज इतनी शर्मनाक स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। श्री खान ने कल चकवाल में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि देश का आवाम नहीं बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ धोखेबाज है क्याेंकि ऐसे ही नेता धन की अपनी हवस को पूरा करने के लिए काले धन को वैध बनाने में लिप्त रहे। समाचार पत्र एक्सप्रेस न्यूज ने आज उनके हवाले से कहा“अगर देश के नेता अमेरिका से सहायता के तौर पर धनराशि नहीें मांगते तो पाकिस्तान को इस शर्मनाक स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। ” श्री खान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पिछले हफ्ते के उस ट्वीट का जिक्र कर रहे थे जिसमें उन्होंने कहा था अरबों डालर की धनराशि दिए जाने के बाद भी पाकिस्तान ने धोखा ही दिया है और हक्कानी नेटवर्क तथा अफगानी तालिबान के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीे की है। श्री खान नेे कहा“ अफगानिस्तान में अपनी नाकामी को छिपाने के लिए अमेरिका इसका दोष पाकिस्तान को दे रहा है क्योंकि आतंकवाद के खिलाफ चलाए गए युद्व का सबसे बुरा प्रभाव पाकिस्तान के जनजातीय क्षेत्रों और लोगोें पर पड़ा है।” उन्होंने कहा कि देश को हर कोई तभी सम्मान की नजरों से देखेगा जब हमारे नेता विदेशों के कर्ज लेने की प्रवृति से दूर रहे और अवैध कमाई को विदेशी बैंकों में जमा करने की प्रवृति से दूर रहें।"/> इस्लामाबाद, पाकिस्तान तहरीके इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष और पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी इमरान खान का कहना है कि अगर देश के नेता काले धन को विदेशों में जमा करने की प्रवृति नहीं रखते तो सुरक्षा सहायता राेकने के अमेरिका के फैसले से पाकिस्तानी जनता को आज इतनी शर्मनाक स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। श्री खान ने कल चकवाल में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि देश का आवाम नहीं बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ धोखेबाज है क्याेंकि ऐसे ही नेता धन की अपनी हवस को पूरा करने के लिए काले धन को वैध बनाने में लिप्त रहे। समाचार पत्र एक्सप्रेस न्यूज ने आज उनके हवाले से कहा“अगर देश के नेता अमेरिका से सहायता के तौर पर धनराशि नहीें मांगते तो पाकिस्तान को इस शर्मनाक स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। ” श्री खान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पिछले हफ्ते के उस ट्वीट का जिक्र कर रहे थे जिसमें उन्होंने कहा था अरबों डालर की धनराशि दिए जाने के बाद भी पाकिस्तान ने धोखा ही दिया है और हक्कानी नेटवर्क तथा अफगानी तालिबान के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीे की है। श्री खान नेे कहा“ अफगानिस्तान में अपनी नाकामी को छिपाने के लिए अमेरिका इसका दोष पाकिस्तान को दे रहा है क्योंकि आतंकवाद के खिलाफ चलाए गए युद्व का सबसे बुरा प्रभाव पाकिस्तान के जनजातीय क्षेत्रों और लोगोें पर पड़ा है।” उन्होंने कहा कि देश को हर कोई तभी सम्मान की नजरों से देखेगा जब हमारे नेता विदेशों के कर्ज लेने की प्रवृति से दूर रहे और अवैध कमाई को विदेशी बैंकों में जमा करने की प्रवृति से दूर रहें।"/> इस्लामाबाद, पाकिस्तान तहरीके इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष और पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी इमरान खान का कहना है कि अगर देश के नेता काले धन को विदेशों में जमा करने की प्रवृति नहीं रखते तो सुरक्षा सहायता राेकने के अमेरिका के फैसले से पाकिस्तानी जनता को आज इतनी शर्मनाक स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। श्री खान ने कल चकवाल में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि देश का आवाम नहीं बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ धोखेबाज है क्याेंकि ऐसे ही नेता धन की अपनी हवस को पूरा करने के लिए काले धन को वैध बनाने में लिप्त रहे। समाचार पत्र एक्सप्रेस न्यूज ने आज उनके हवाले से कहा“अगर देश के नेता अमेरिका से सहायता के तौर पर धनराशि नहीें मांगते तो पाकिस्तान को इस शर्मनाक स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। ” श्री खान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पिछले हफ्ते के उस ट्वीट का जिक्र कर रहे थे जिसमें उन्होंने कहा था अरबों डालर की धनराशि दिए जाने के बाद भी पाकिस्तान ने धोखा ही दिया है और हक्कानी नेटवर्क तथा अफगानी तालिबान के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीे की है। श्री खान नेे कहा“ अफगानिस्तान में अपनी नाकामी को छिपाने के लिए अमेरिका इसका दोष पाकिस्तान को दे रहा है क्योंकि आतंकवाद के खिलाफ चलाए गए युद्व का सबसे बुरा प्रभाव पाकिस्तान के जनजातीय क्षेत्रों और लोगोें पर पड़ा है।” उन्होंने कहा कि देश को हर कोई तभी सम्मान की नजरों से देखेगा जब हमारे नेता विदेशों के कर्ज लेने की प्रवृति से दूर रहे और अवैध कमाई को विदेशी बैंकों में जमा करने की प्रवृति से दूर रहें।">

नेताओं की गलत आदतों के कारण पाकिस्तान शर्मिंदा हुआ: इमरान खान

2018/01/08



इस्लामाबाद, पाकिस्तान तहरीके इंसाफ (पीटीआई) के अध्यक्ष और पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी इमरान खान का कहना है कि अगर देश के नेता काले धन को विदेशों में जमा करने की प्रवृति नहीं रखते तो सुरक्षा सहायता राेकने के अमेरिका के फैसले से पाकिस्तानी जनता को आज इतनी शर्मनाक स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। श्री खान ने कल चकवाल में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि देश का आवाम नहीं बल्कि पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ धोखेबाज है क्याेंकि ऐसे ही नेता धन की अपनी हवस को पूरा करने के लिए काले धन को वैध बनाने में लिप्त रहे। समाचार पत्र एक्सप्रेस न्यूज ने आज उनके हवाले से कहा“अगर देश के नेता अमेरिका से सहायता के तौर पर धनराशि नहीें मांगते तो पाकिस्तान को इस शर्मनाक स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता। ” श्री खान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पिछले हफ्ते के उस ट्वीट का जिक्र कर रहे थे जिसमें उन्होंने कहा था अरबों डालर की धनराशि दिए जाने के बाद भी पाकिस्तान ने धोखा ही दिया है और हक्कानी नेटवर्क तथा अफगानी तालिबान के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीे की है। श्री खान नेे कहा“ अफगानिस्तान में अपनी नाकामी को छिपाने के लिए अमेरिका इसका दोष पाकिस्तान को दे रहा है क्योंकि आतंकवाद के खिलाफ चलाए गए युद्व का सबसे बुरा प्रभाव पाकिस्तान के जनजातीय क्षेत्रों और लोगोें पर पड़ा है।” उन्होंने कहा कि देश को हर कोई तभी सम्मान की नजरों से देखेगा जब हमारे नेता विदेशों के कर्ज लेने की प्रवृति से दूर रहे और अवैध कमाई को विदेशी बैंकों में जमा करने की प्रवृति से दूर रहें।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts