Breaking News :

पाटन,  कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान दलित समुदाय के साथ एक संवाद कार्यक्रम में कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के मुनवादी संगठन है जो देश की जातिवादी व्यवस्था को ज्यों का त्यों बनाये रखना चाहता है। श्री गांधी ने अपनी तीन दिवसीय नवसर्जन गुजरात यात्रा के तीसरे और अंतिम दिन उत्तर गुजरात के पाटन में दलित समुदाय के साथ संवाद के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि संघ के मनुवादी संगठन है जो देश की जातिवादी संरचना को बनाये रखना चाहता है। उन्होंने कहा कि वह स्वयं जाति व्यवस्था के विरोधी हैं। उन्होंने कहा कि संघ भले जी मुनवादी है पर सामान्य जाति के लोगों के कई ऐसे संगठन भी हैं जिनकी सोच मनुवादी नहीं है। मै जातिवादी व्यवस्था के खिलाफ हूं। यह ऐसी व्यवस्था है जो किसी इंसान को इंसान नहीं मानती। इस व्यवस्था को रद्द करना है। हम दलित आदिवासी समेत सभी को लेकर आगे बढना चाहते हैं। श्री गांधी ने कहा कि वह दलित समुदाय से संबंधित गुजरात के मुद्दों को विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल करेंगे। उन्होंने संवाद के दौरान केंद्र की मोदी सरकार पर अपने प्रहार जारी रखे। उन्होने नोटबंदी, जीएसटी और रोजगार की कमी को लेकर अपने आरोप दोहराये।"/> पाटन,  कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान दलित समुदाय के साथ एक संवाद कार्यक्रम में कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के मुनवादी संगठन है जो देश की जातिवादी व्यवस्था को ज्यों का त्यों बनाये रखना चाहता है। श्री गांधी ने अपनी तीन दिवसीय नवसर्जन गुजरात यात्रा के तीसरे और अंतिम दिन उत्तर गुजरात के पाटन में दलित समुदाय के साथ संवाद के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि संघ के मनुवादी संगठन है जो देश की जातिवादी संरचना को बनाये रखना चाहता है। उन्होंने कहा कि वह स्वयं जाति व्यवस्था के विरोधी हैं। उन्होंने कहा कि संघ भले जी मुनवादी है पर सामान्य जाति के लोगों के कई ऐसे संगठन भी हैं जिनकी सोच मनुवादी नहीं है। मै जातिवादी व्यवस्था के खिलाफ हूं। यह ऐसी व्यवस्था है जो किसी इंसान को इंसान नहीं मानती। इस व्यवस्था को रद्द करना है। हम दलित आदिवासी समेत सभी को लेकर आगे बढना चाहते हैं। श्री गांधी ने कहा कि वह दलित समुदाय से संबंधित गुजरात के मुद्दों को विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल करेंगे। उन्होंने संवाद के दौरान केंद्र की मोदी सरकार पर अपने प्रहार जारी रखे। उन्होने नोटबंदी, जीएसटी और रोजगार की कमी को लेकर अपने आरोप दोहराये।"/> पाटन,  कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान दलित समुदाय के साथ एक संवाद कार्यक्रम में कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के मुनवादी संगठन है जो देश की जातिवादी व्यवस्था को ज्यों का त्यों बनाये रखना चाहता है। श्री गांधी ने अपनी तीन दिवसीय नवसर्जन गुजरात यात्रा के तीसरे और अंतिम दिन उत्तर गुजरात के पाटन में दलित समुदाय के साथ संवाद के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि संघ के मनुवादी संगठन है जो देश की जातिवादी संरचना को बनाये रखना चाहता है। उन्होंने कहा कि वह स्वयं जाति व्यवस्था के विरोधी हैं। उन्होंने कहा कि संघ भले जी मुनवादी है पर सामान्य जाति के लोगों के कई ऐसे संगठन भी हैं जिनकी सोच मनुवादी नहीं है। मै जातिवादी व्यवस्था के खिलाफ हूं। यह ऐसी व्यवस्था है जो किसी इंसान को इंसान नहीं मानती। इस व्यवस्था को रद्द करना है। हम दलित आदिवासी समेत सभी को लेकर आगे बढना चाहते हैं। श्री गांधी ने कहा कि वह दलित समुदाय से संबंधित गुजरात के मुद्दों को विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल करेंगे। उन्होंने संवाद के दौरान केंद्र की मोदी सरकार पर अपने प्रहार जारी रखे। उन्होने नोटबंदी, जीएसटी और रोजगार की कमी को लेकर अपने आरोप दोहराये।">

दलितों के साथ संवाद में राहुल ने कहा - आरएसएस है मनुवादी संगठन

2017/11/13



पाटन,  कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान दलित समुदाय के साथ एक संवाद कार्यक्रम में कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के मुनवादी संगठन है जो देश की जातिवादी व्यवस्था को ज्यों का त्यों बनाये रखना चाहता है। श्री गांधी ने अपनी तीन दिवसीय नवसर्जन गुजरात यात्रा के तीसरे और अंतिम दिन उत्तर गुजरात के पाटन में दलित समुदाय के साथ संवाद के दौरान एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि संघ के मनुवादी संगठन है जो देश की जातिवादी संरचना को बनाये रखना चाहता है। उन्होंने कहा कि वह स्वयं जाति व्यवस्था के विरोधी हैं। उन्होंने कहा कि संघ भले जी मुनवादी है पर सामान्य जाति के लोगों के कई ऐसे संगठन भी हैं जिनकी सोच मनुवादी नहीं है। मै जातिवादी व्यवस्था के खिलाफ हूं। यह ऐसी व्यवस्था है जो किसी इंसान को इंसान नहीं मानती। इस व्यवस्था को रद्द करना है। हम दलित आदिवासी समेत सभी को लेकर आगे बढना चाहते हैं। श्री गांधी ने कहा कि वह दलित समुदाय से संबंधित गुजरात के मुद्दों को विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल करेंगे। उन्होंने संवाद के दौरान केंद्र की मोदी सरकार पर अपने प्रहार जारी रखे। उन्होने नोटबंदी, जीएसटी और रोजगार की कमी को लेकर अपने आरोप दोहराये।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts