Breaking News :

शिमला,  हिमाचल प्रदेश के मंडी में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हो गई है. ये सभी मृतक उन दो रोडवेज की बसों के यात्री हैं जो भूस्खलन की चपेट में आ गई थी. वहीं, मृतकों की संख्या बढऩे की आशंका जताई जा रही है. यह हादसा शनिवार की देर रात हुआ. एक बस चंबा से मनाली जा रही थी, जबकि दूसरी मनाली से जम्मू के कटरा के सफर पर थी. रात होने के कारण राहत और बचाव का काम सुबह तक के लिए रोक दिया गया है. बताया जा रहा है कि यह हादसा तब हुआ जब दोनों बसें रिफ्रेशमेंट के लिए जोगिंदरनगर के पास कोटरूपी में रुकी थीं. इस दौरान बादल फटने और भूस्खलन के चलते एक विशाल पत्थर मनाली से कटरा जाने वाली बस के ऊपर आ गिरा. इसके बाद बस लुढ़कते हुए 200 मीटर तक नीचे जा गिरी. इस बस में 7-8 लोग सवार थे. उधर चंबा से मनाली जाने वाली बस पूरी तरह पानी में बह गई और लुढ़कते हुए खाई में लगभग 2 किलोमीटर नीचे चली गई. यह बस पूरी तरह भरी हुई थी. बादल फटने और भूस्खलन के चलते सड़क का लगभग 250 मीटर हिस्सा बह गया है."/> शिमला,  हिमाचल प्रदेश के मंडी में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हो गई है. ये सभी मृतक उन दो रोडवेज की बसों के यात्री हैं जो भूस्खलन की चपेट में आ गई थी. वहीं, मृतकों की संख्या बढऩे की आशंका जताई जा रही है. यह हादसा शनिवार की देर रात हुआ. एक बस चंबा से मनाली जा रही थी, जबकि दूसरी मनाली से जम्मू के कटरा के सफर पर थी. रात होने के कारण राहत और बचाव का काम सुबह तक के लिए रोक दिया गया है. बताया जा रहा है कि यह हादसा तब हुआ जब दोनों बसें रिफ्रेशमेंट के लिए जोगिंदरनगर के पास कोटरूपी में रुकी थीं. इस दौरान बादल फटने और भूस्खलन के चलते एक विशाल पत्थर मनाली से कटरा जाने वाली बस के ऊपर आ गिरा. इसके बाद बस लुढ़कते हुए 200 मीटर तक नीचे जा गिरी. इस बस में 7-8 लोग सवार थे. उधर चंबा से मनाली जाने वाली बस पूरी तरह पानी में बह गई और लुढ़कते हुए खाई में लगभग 2 किलोमीटर नीचे चली गई. यह बस पूरी तरह भरी हुई थी. बादल फटने और भूस्खलन के चलते सड़क का लगभग 250 मीटर हिस्सा बह गया है."/> शिमला,  हिमाचल प्रदेश के मंडी में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हो गई है. ये सभी मृतक उन दो रोडवेज की बसों के यात्री हैं जो भूस्खलन की चपेट में आ गई थी. वहीं, मृतकों की संख्या बढऩे की आशंका जताई जा रही है. यह हादसा शनिवार की देर रात हुआ. एक बस चंबा से मनाली जा रही थी, जबकि दूसरी मनाली से जम्मू के कटरा के सफर पर थी. रात होने के कारण राहत और बचाव का काम सुबह तक के लिए रोक दिया गया है. बताया जा रहा है कि यह हादसा तब हुआ जब दोनों बसें रिफ्रेशमेंट के लिए जोगिंदरनगर के पास कोटरूपी में रुकी थीं. इस दौरान बादल फटने और भूस्खलन के चलते एक विशाल पत्थर मनाली से कटरा जाने वाली बस के ऊपर आ गिरा. इसके बाद बस लुढ़कते हुए 200 मीटर तक नीचे जा गिरी. इस बस में 7-8 लोग सवार थे. उधर चंबा से मनाली जाने वाली बस पूरी तरह पानी में बह गई और लुढ़कते हुए खाई में लगभग 2 किलोमीटर नीचे चली गई. यह बस पूरी तरह भरी हुई थी. बादल फटने और भूस्खलन के चलते सड़क का लगभग 250 मीटर हिस्सा बह गया है.">

दरकी चट्टान 50 की मौत, हिमाचल में बादल फटने के बाद भूस्खलन का कहर

2017/08/14



शिमला,  हिमाचल प्रदेश के मंडी में भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हो गई है. ये सभी मृतक उन दो रोडवेज की बसों के यात्री हैं जो भूस्खलन की चपेट में आ गई थी. वहीं, मृतकों की संख्या बढऩे की आशंका जताई जा रही है. यह हादसा शनिवार की देर रात हुआ. एक बस चंबा से मनाली जा रही थी, जबकि दूसरी मनाली से जम्मू के कटरा के सफर पर थी. रात होने के कारण राहत और बचाव का काम सुबह तक के लिए रोक दिया गया है. बताया जा रहा है कि यह हादसा तब हुआ जब दोनों बसें रिफ्रेशमेंट के लिए जोगिंदरनगर के पास कोटरूपी में रुकी थीं. इस दौरान बादल फटने और भूस्खलन के चलते एक विशाल पत्थर मनाली से कटरा जाने वाली बस के ऊपर आ गिरा. इसके बाद बस लुढ़कते हुए 200 मीटर तक नीचे जा गिरी. इस बस में 7-8 लोग सवार थे. उधर चंबा से मनाली जाने वाली बस पूरी तरह पानी में बह गई और लुढ़कते हुए खाई में लगभग 2 किलोमीटर नीचे चली गई. यह बस पूरी तरह भरी हुई थी. बादल फटने और भूस्खलन के चलते सड़क का लगभग 250 मीटर हिस्सा बह गया है.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts