Breaking News :

नयी दिल्ली, विनिर्मित उत्पादों के साथ दालों, गेहूँ और अनाजों की कीमतों में गिरावट के कारण जनवरी में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर घटकर 2.84 प्रतिशत पर आ गयी जो छह महीने का निचला स्तर है। इससे पहले दिसंबर 2017 में थोक महँगाई दर 3.58 प्रतिशत रही थी जबकि पिछले साल जनवरी में यह 4.26 फीसदी रही थी। थोक महँगाई का यह पिछले साल जुलाई के बाद का न्यूनतम स्तर है। जुलाई 2017 में यह 1.88 प्रतिशत दर्ज की गयी थी। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा आज यहाँ जारी आँकड़ों के अनुसार, पिछले साल जनवरी की तुलना में इस साल जनवरी में दालों की कीमत में 30.43 प्रतिशत, गेहूँ में 6.94 प्रतिशत और अनाजों में 1.98 प्रतिशत की गिरावट रही है। खाद्य पदार्थ वर्ग की महँगाई दर तीन प्रतिशत रही। अन्य खाद्य पदार्थों में प्याज के दाम एक साल पहले के मुकाबले लगभग तीन गुणा हो गये हैं। इनकी महँगाई दर 193.89 प्रतिशत रही। सब्जियों के दाम 40.77 प्रतिशत बढ़े हैं। धान के दाम 4.59 प्रतिशत, आलू के 8.68 प्रतिशत और फलों के 8.49 प्रतिशत बढ़े हैं। दूध के दाम में 3.93 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।"/> नयी दिल्ली, विनिर्मित उत्पादों के साथ दालों, गेहूँ और अनाजों की कीमतों में गिरावट के कारण जनवरी में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर घटकर 2.84 प्रतिशत पर आ गयी जो छह महीने का निचला स्तर है। इससे पहले दिसंबर 2017 में थोक महँगाई दर 3.58 प्रतिशत रही थी जबकि पिछले साल जनवरी में यह 4.26 फीसदी रही थी। थोक महँगाई का यह पिछले साल जुलाई के बाद का न्यूनतम स्तर है। जुलाई 2017 में यह 1.88 प्रतिशत दर्ज की गयी थी। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा आज यहाँ जारी आँकड़ों के अनुसार, पिछले साल जनवरी की तुलना में इस साल जनवरी में दालों की कीमत में 30.43 प्रतिशत, गेहूँ में 6.94 प्रतिशत और अनाजों में 1.98 प्रतिशत की गिरावट रही है। खाद्य पदार्थ वर्ग की महँगाई दर तीन प्रतिशत रही। अन्य खाद्य पदार्थों में प्याज के दाम एक साल पहले के मुकाबले लगभग तीन गुणा हो गये हैं। इनकी महँगाई दर 193.89 प्रतिशत रही। सब्जियों के दाम 40.77 प्रतिशत बढ़े हैं। धान के दाम 4.59 प्रतिशत, आलू के 8.68 प्रतिशत और फलों के 8.49 प्रतिशत बढ़े हैं। दूध के दाम में 3.93 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।"/> नयी दिल्ली, विनिर्मित उत्पादों के साथ दालों, गेहूँ और अनाजों की कीमतों में गिरावट के कारण जनवरी में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर घटकर 2.84 प्रतिशत पर आ गयी जो छह महीने का निचला स्तर है। इससे पहले दिसंबर 2017 में थोक महँगाई दर 3.58 प्रतिशत रही थी जबकि पिछले साल जनवरी में यह 4.26 फीसदी रही थी। थोक महँगाई का यह पिछले साल जुलाई के बाद का न्यूनतम स्तर है। जुलाई 2017 में यह 1.88 प्रतिशत दर्ज की गयी थी। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा आज यहाँ जारी आँकड़ों के अनुसार, पिछले साल जनवरी की तुलना में इस साल जनवरी में दालों की कीमत में 30.43 प्रतिशत, गेहूँ में 6.94 प्रतिशत और अनाजों में 1.98 प्रतिशत की गिरावट रही है। खाद्य पदार्थ वर्ग की महँगाई दर तीन प्रतिशत रही। अन्य खाद्य पदार्थों में प्याज के दाम एक साल पहले के मुकाबले लगभग तीन गुणा हो गये हैं। इनकी महँगाई दर 193.89 प्रतिशत रही। सब्जियों के दाम 40.77 प्रतिशत बढ़े हैं। धान के दाम 4.59 प्रतिशत, आलू के 8.68 प्रतिशत और फलों के 8.49 प्रतिशत बढ़े हैं। दूध के दाम में 3.93 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।">

थोक महँगाई घटकर छह महीने के निचले स्तर पर

2018/02/15



नयी दिल्ली, विनिर्मित उत्पादों के साथ दालों, गेहूँ और अनाजों की कीमतों में गिरावट के कारण जनवरी में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर घटकर 2.84 प्रतिशत पर आ गयी जो छह महीने का निचला स्तर है। इससे पहले दिसंबर 2017 में थोक महँगाई दर 3.58 प्रतिशत रही थी जबकि पिछले साल जनवरी में यह 4.26 फीसदी रही थी। थोक महँगाई का यह पिछले साल जुलाई के बाद का न्यूनतम स्तर है। जुलाई 2017 में यह 1.88 प्रतिशत दर्ज की गयी थी। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय द्वारा आज यहाँ जारी आँकड़ों के अनुसार, पिछले साल जनवरी की तुलना में इस साल जनवरी में दालों की कीमत में 30.43 प्रतिशत, गेहूँ में 6.94 प्रतिशत और अनाजों में 1.98 प्रतिशत की गिरावट रही है। खाद्य पदार्थ वर्ग की महँगाई दर तीन प्रतिशत रही। अन्य खाद्य पदार्थों में प्याज के दाम एक साल पहले के मुकाबले लगभग तीन गुणा हो गये हैं। इनकी महँगाई दर 193.89 प्रतिशत रही। सब्जियों के दाम 40.77 प्रतिशत बढ़े हैं। धान के दाम 4.59 प्रतिशत, आलू के 8.68 प्रतिशत और फलों के 8.49 प्रतिशत बढ़े हैं। दूध के दाम में 3.93 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts