Breaking News :

ताइपे, ताइवान के तटवर्ती शहर हुआलीन में आये जबरदस्त भूकंप में कम से कम दो लोगों की मौत हो गयी तथा 219 लोग घायल हो गये हैं।ताइवान की राष्ट्रपति साइ इंग वेन ने आज सुबह प्रभावित स्थानों का दौरा किया और राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लिया। सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारतीय समयानुसार कल रात साढे नौ बजे आये इस भूकंप के बाद से लगभग 150 लोग लापता हैं। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.4 मापी गयी। राहत एवं बचावकर्मी मलबे में फंसे लोगों को निकालने का प्रयास कर रहे हैं। माना जा रहा है कि मलबे के नीचे बड़ी संख्या में लोग दबे हो सकते हैं। भूकंप में एक सैन्य अस्पताल समेत कई इमारतें धराशायी हो गयी हैं। हुआलिन की आबादी करीब एक लाख है। भूकंप के कारण लगभग 40 हजार घरों में पानी और 600 घरों में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गयी है। राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार राष्ट्रपति ने कैबिनेट और संबंधित मंत्रालयों को आपदा राहत कार्य तेज करने के लिए कहा है। अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग ने बताया कि भूकंप का केन्द्र जमीन से एक किलोमीटर नीचे था। भूकंप के बाद कई और झटके महसूस किये गये लेकिन सुनामी की चेतावनी जारी नहीं की गयी है। गौरतलब है कि ताइवान में 2016 में आये भूकंप में सौ से अधिक लोगों की मौत हुई थी। इसके अलावा 1999 के जबरदस्त भूकंप में दो हजार से अधिक लोग मारे गये थे।"/> ताइपे, ताइवान के तटवर्ती शहर हुआलीन में आये जबरदस्त भूकंप में कम से कम दो लोगों की मौत हो गयी तथा 219 लोग घायल हो गये हैं।ताइवान की राष्ट्रपति साइ इंग वेन ने आज सुबह प्रभावित स्थानों का दौरा किया और राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लिया। सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारतीय समयानुसार कल रात साढे नौ बजे आये इस भूकंप के बाद से लगभग 150 लोग लापता हैं। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.4 मापी गयी। राहत एवं बचावकर्मी मलबे में फंसे लोगों को निकालने का प्रयास कर रहे हैं। माना जा रहा है कि मलबे के नीचे बड़ी संख्या में लोग दबे हो सकते हैं। भूकंप में एक सैन्य अस्पताल समेत कई इमारतें धराशायी हो गयी हैं। हुआलिन की आबादी करीब एक लाख है। भूकंप के कारण लगभग 40 हजार घरों में पानी और 600 घरों में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गयी है। राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार राष्ट्रपति ने कैबिनेट और संबंधित मंत्रालयों को आपदा राहत कार्य तेज करने के लिए कहा है। अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग ने बताया कि भूकंप का केन्द्र जमीन से एक किलोमीटर नीचे था। भूकंप के बाद कई और झटके महसूस किये गये लेकिन सुनामी की चेतावनी जारी नहीं की गयी है। गौरतलब है कि ताइवान में 2016 में आये भूकंप में सौ से अधिक लोगों की मौत हुई थी। इसके अलावा 1999 के जबरदस्त भूकंप में दो हजार से अधिक लोग मारे गये थे।"/> ताइपे, ताइवान के तटवर्ती शहर हुआलीन में आये जबरदस्त भूकंप में कम से कम दो लोगों की मौत हो गयी तथा 219 लोग घायल हो गये हैं।ताइवान की राष्ट्रपति साइ इंग वेन ने आज सुबह प्रभावित स्थानों का दौरा किया और राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लिया। सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारतीय समयानुसार कल रात साढे नौ बजे आये इस भूकंप के बाद से लगभग 150 लोग लापता हैं। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.4 मापी गयी। राहत एवं बचावकर्मी मलबे में फंसे लोगों को निकालने का प्रयास कर रहे हैं। माना जा रहा है कि मलबे के नीचे बड़ी संख्या में लोग दबे हो सकते हैं। भूकंप में एक सैन्य अस्पताल समेत कई इमारतें धराशायी हो गयी हैं। हुआलिन की आबादी करीब एक लाख है। भूकंप के कारण लगभग 40 हजार घरों में पानी और 600 घरों में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गयी है। राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार राष्ट्रपति ने कैबिनेट और संबंधित मंत्रालयों को आपदा राहत कार्य तेज करने के लिए कहा है। अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग ने बताया कि भूकंप का केन्द्र जमीन से एक किलोमीटर नीचे था। भूकंप के बाद कई और झटके महसूस किये गये लेकिन सुनामी की चेतावनी जारी नहीं की गयी है। गौरतलब है कि ताइवान में 2016 में आये भूकंप में सौ से अधिक लोगों की मौत हुई थी। इसके अलावा 1999 के जबरदस्त भूकंप में दो हजार से अधिक लोग मारे गये थे।">

ताइवान में भूकंप, चार की मौत, 225 घायल 9

2018/02/07



ताइपे, ताइवान के तटवर्ती शहर हुआलीन में आये जबरदस्त भूकंप में कम से कम दो लोगों की मौत हो गयी तथा 219 लोग घायल हो गये हैं।ताइवान की राष्ट्रपति साइ इंग वेन ने आज सुबह प्रभावित स्थानों का दौरा किया और राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लिया। सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारतीय समयानुसार कल रात साढे नौ बजे आये इस भूकंप के बाद से लगभग 150 लोग लापता हैं। भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 6.4 मापी गयी। राहत एवं बचावकर्मी मलबे में फंसे लोगों को निकालने का प्रयास कर रहे हैं। माना जा रहा है कि मलबे के नीचे बड़ी संख्या में लोग दबे हो सकते हैं। भूकंप में एक सैन्य अस्पताल समेत कई इमारतें धराशायी हो गयी हैं। हुआलिन की आबादी करीब एक लाख है। भूकंप के कारण लगभग 40 हजार घरों में पानी और 600 घरों में बिजली की आपूर्ति बाधित हो गयी है। राष्ट्रपति कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के अनुसार राष्ट्रपति ने कैबिनेट और संबंधित मंत्रालयों को आपदा राहत कार्य तेज करने के लिए कहा है। अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण विभाग ने बताया कि भूकंप का केन्द्र जमीन से एक किलोमीटर नीचे था। भूकंप के बाद कई और झटके महसूस किये गये लेकिन सुनामी की चेतावनी जारी नहीं की गयी है। गौरतलब है कि ताइवान में 2016 में आये भूकंप में सौ से अधिक लोगों की मौत हुई थी। इसके अलावा 1999 के जबरदस्त भूकंप में दो हजार से अधिक लोग मारे गये थे।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts