Breaking News :

नयी दिल्ली,  राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार ने अपने चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत ‘साबरमती आश्रम’ से करने की घोषणा करते हुए निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों से ‘अंतररात्मा’ की आवाज मतदान करने की अपील की है और कहा है कि वह सर्वोच्च संवैधानिक पद का यह चुनाव जाति नहीं बल्कि विचारधारा के आधार पर लड रही हैं । श्रीमती कुमार ने प्रत्याशी बनने के बाद आज यहां अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस में खुद के ऊपर लगाये जा रहे तमाम आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए यह भी कहा कि यह उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश है । वह कल पूर्वाह्ल ग्यारह बजे संसद भवन में अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगी तथा 30 जून राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आश्रम साबरमती से अपने प्रचार अभियान की शुरूआत करेंगी । उन्होंने कहा कि 17 प्रमुख विपक्षी दलों ने एकता और सामान्य विचारधारा के आधार पर उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया है । यह विचारधारा सामाजिक न्याय ,समावेशी समाज ,प्रेस की आजादी ,गरीबी का अंत और जाति व्यवस्था के विनाश पर अाधारित और ये मूल्य उनके हृदय के करीब हैं जिनमें उनकी गहरी आस्था है । पूर्व लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि उन्होंने दो दिन पूर्व निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों को पत्र लिखकर उन्हें वोट देने की अपील की है । पांच बार सांसद रहीं श्रीमती कुमार ने इन सदस्यों ने कहा कि इतिहास ने उनके समक्ष अद्वितीय मौका पेश किया है और उन्हें अन्य चीजों को भुलाकर अंतररात्मा की आवाज पर उनका समर्थन करना चाहिए ।"/> नयी दिल्ली,  राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार ने अपने चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत ‘साबरमती आश्रम’ से करने की घोषणा करते हुए निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों से ‘अंतररात्मा’ की आवाज मतदान करने की अपील की है और कहा है कि वह सर्वोच्च संवैधानिक पद का यह चुनाव जाति नहीं बल्कि विचारधारा के आधार पर लड रही हैं । श्रीमती कुमार ने प्रत्याशी बनने के बाद आज यहां अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस में खुद के ऊपर लगाये जा रहे तमाम आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए यह भी कहा कि यह उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश है । वह कल पूर्वाह्ल ग्यारह बजे संसद भवन में अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगी तथा 30 जून राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आश्रम साबरमती से अपने प्रचार अभियान की शुरूआत करेंगी । उन्होंने कहा कि 17 प्रमुख विपक्षी दलों ने एकता और सामान्य विचारधारा के आधार पर उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया है । यह विचारधारा सामाजिक न्याय ,समावेशी समाज ,प्रेस की आजादी ,गरीबी का अंत और जाति व्यवस्था के विनाश पर अाधारित और ये मूल्य उनके हृदय के करीब हैं जिनमें उनकी गहरी आस्था है । पूर्व लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि उन्होंने दो दिन पूर्व निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों को पत्र लिखकर उन्हें वोट देने की अपील की है । पांच बार सांसद रहीं श्रीमती कुमार ने इन सदस्यों ने कहा कि इतिहास ने उनके समक्ष अद्वितीय मौका पेश किया है और उन्हें अन्य चीजों को भुलाकर अंतररात्मा की आवाज पर उनका समर्थन करना चाहिए ।"/> नयी दिल्ली,  राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार ने अपने चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत ‘साबरमती आश्रम’ से करने की घोषणा करते हुए निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों से ‘अंतररात्मा’ की आवाज मतदान करने की अपील की है और कहा है कि वह सर्वोच्च संवैधानिक पद का यह चुनाव जाति नहीं बल्कि विचारधारा के आधार पर लड रही हैं । श्रीमती कुमार ने प्रत्याशी बनने के बाद आज यहां अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस में खुद के ऊपर लगाये जा रहे तमाम आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए यह भी कहा कि यह उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश है । वह कल पूर्वाह्ल ग्यारह बजे संसद भवन में अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगी तथा 30 जून राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आश्रम साबरमती से अपने प्रचार अभियान की शुरूआत करेंगी । उन्होंने कहा कि 17 प्रमुख विपक्षी दलों ने एकता और सामान्य विचारधारा के आधार पर उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया है । यह विचारधारा सामाजिक न्याय ,समावेशी समाज ,प्रेस की आजादी ,गरीबी का अंत और जाति व्यवस्था के विनाश पर अाधारित और ये मूल्य उनके हृदय के करीब हैं जिनमें उनकी गहरी आस्था है । पूर्व लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि उन्होंने दो दिन पूर्व निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों को पत्र लिखकर उन्हें वोट देने की अपील की है । पांच बार सांसद रहीं श्रीमती कुमार ने इन सदस्यों ने कहा कि इतिहास ने उनके समक्ष अद्वितीय मौका पेश किया है और उन्हें अन्य चीजों को भुलाकर अंतररात्मा की आवाज पर उनका समर्थन करना चाहिए ।">

जाति नहीं विचारधारा के आधार पर राष्ट्रपति का चुनाव लड रही हूं : मीरा कुमार

2017/06/27



नयी दिल्ली,  राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार ने अपने चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत ‘साबरमती आश्रम’ से करने की घोषणा करते हुए निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों से ‘अंतररात्मा’ की आवाज मतदान करने की अपील की है और कहा है कि वह सर्वोच्च संवैधानिक पद का यह चुनाव जाति नहीं बल्कि विचारधारा के आधार पर लड रही हैं । श्रीमती कुमार ने प्रत्याशी बनने के बाद आज यहां अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस में खुद के ऊपर लगाये जा रहे तमाम आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए यह भी कहा कि यह उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश है । वह कल पूर्वाह्ल ग्यारह बजे संसद भवन में अपना नामांकन पत्र दाखिल करेंगी तथा 30 जून राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आश्रम साबरमती से अपने प्रचार अभियान की शुरूआत करेंगी । उन्होंने कहा कि 17 प्रमुख विपक्षी दलों ने एकता और सामान्य विचारधारा के आधार पर उन्हें अपना प्रत्याशी बनाया है । यह विचारधारा सामाजिक न्याय ,समावेशी समाज ,प्रेस की आजादी ,गरीबी का अंत और जाति व्यवस्था के विनाश पर अाधारित और ये मूल्य उनके हृदय के करीब हैं जिनमें उनकी गहरी आस्था है । पूर्व लोकसभा अध्यक्ष ने बताया कि उन्होंने दो दिन पूर्व निर्वाचक मंडल के सभी सदस्यों को पत्र लिखकर उन्हें वोट देने की अपील की है । पांच बार सांसद रहीं श्रीमती कुमार ने इन सदस्यों ने कहा कि इतिहास ने उनके समक्ष अद्वितीय मौका पेश किया है और उन्हें अन्य चीजों को भुलाकर अंतररात्मा की आवाज पर उनका समर्थन करना चाहिए ।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts