Breaking News :

पटना,  बिहार में श्री नीतीश कुमार ने महज 16 घंटे के अंदर सहयोगी बदलकर एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और इसी के साथ चार साल 40 दिन बाद भाजपा की भी सरकार में वापसी हो गई. राजभवन के राजेन्द्र मंडपम में आयोजित समारोह में राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने कुमार को मुख्यमंत्री के पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी. इसके बाद मंत्री के रूप में एक मात्र मोदी ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली. इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री जे.पी.नड्डा और भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अनिल जैन के अलावा प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण ङ्क्षसह के अलावा राजग के कई सांसद, विधायक समेत वरिष्ठ नेता मौजूद थे. कुमार ने 16 जून 2013 को लालकृष्ण आडवाणी की जगह नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने पर भाजपा से नाता तोड़ लिया था."/> पटना,  बिहार में श्री नीतीश कुमार ने महज 16 घंटे के अंदर सहयोगी बदलकर एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और इसी के साथ चार साल 40 दिन बाद भाजपा की भी सरकार में वापसी हो गई. राजभवन के राजेन्द्र मंडपम में आयोजित समारोह में राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने कुमार को मुख्यमंत्री के पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी. इसके बाद मंत्री के रूप में एक मात्र मोदी ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली. इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री जे.पी.नड्डा और भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अनिल जैन के अलावा प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण ङ्क्षसह के अलावा राजग के कई सांसद, विधायक समेत वरिष्ठ नेता मौजूद थे. कुमार ने 16 जून 2013 को लालकृष्ण आडवाणी की जगह नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने पर भाजपा से नाता तोड़ लिया था."/> पटना,  बिहार में श्री नीतीश कुमार ने महज 16 घंटे के अंदर सहयोगी बदलकर एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और इसी के साथ चार साल 40 दिन बाद भाजपा की भी सरकार में वापसी हो गई. राजभवन के राजेन्द्र मंडपम में आयोजित समारोह में राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने कुमार को मुख्यमंत्री के पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी. इसके बाद मंत्री के रूप में एक मात्र मोदी ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली. इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री जे.पी.नड्डा और भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अनिल जैन के अलावा प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण ङ्क्षसह के अलावा राजग के कई सांसद, विधायक समेत वरिष्ठ नेता मौजूद थे. कुमार ने 16 जून 2013 को लालकृष्ण आडवाणी की जगह नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने पर भाजपा से नाता तोड़ लिया था.">

छोटे से ब्रेक के बाद नीतीश बने सीएम

2017/07/28



पटना,  बिहार में श्री नीतीश कुमार ने महज 16 घंटे के अंदर सहयोगी बदलकर एक बार फिर मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली और इसी के साथ चार साल 40 दिन बाद भाजपा की भी सरकार में वापसी हो गई. राजभवन के राजेन्द्र मंडपम में आयोजित समारोह में राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने कुमार को मुख्यमंत्री के पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी. इसके बाद मंत्री के रूप में एक मात्र मोदी ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली. इस मौके पर केन्द्रीय मंत्री जे.पी.नड्डा और भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री अनिल जैन के अलावा प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण ङ्क्षसह के अलावा राजग के कई सांसद, विधायक समेत वरिष्ठ नेता मौजूद थे. कुमार ने 16 जून 2013 को लालकृष्ण आडवाणी की जगह नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने पर भाजपा से नाता तोड़ लिया था.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts