Breaking News :

बीजिंग, अमेरिका ने वर्ष 1989 में बीजिंग के थियामेन चौराहे पर हुए छात्र नेतृत्व वाले प्रदर्शन के दमन में मारे गये लोगों का आंकड़ा सार्वजिनिक किये जाने का आग्रह किया है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पेओं ने रविवार को जारी बयान में कहा, “ नरसंहार में निर्दोष लोगों की मौत दुखद है। हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय की साथ मिलकर चीन सरकार से अपील करते है कि वह नरसंहार में मारे गये, हिरासत में लिए गये और लापता हुए लोगों के विस्तृत आंकड़े पेश करे। ” गौरतलब है कि चीन सरकार ने 04 जून 1989 को हुए इस प्रदर्शन के दमन के लिए सैन्य टैंकों का इस्तेमाल किया था और इस दमनात्मक कार्रवाई में होती मौतों का आंकड़ा कभी जारी नहीं किया। मानवाधिकार समूहों और प्रत्यक्षदर्शियों के अाकलन के अनुसार इसमें सैंकड़ों से लेकर हजारों लोग मारे गये थे। चीन के विदेश मंत्रालय ने इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है और न ही चीन की मीडिया में इस दिन का कोई जिक्र है।"/> बीजिंग, अमेरिका ने वर्ष 1989 में बीजिंग के थियामेन चौराहे पर हुए छात्र नेतृत्व वाले प्रदर्शन के दमन में मारे गये लोगों का आंकड़ा सार्वजिनिक किये जाने का आग्रह किया है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पेओं ने रविवार को जारी बयान में कहा, “ नरसंहार में निर्दोष लोगों की मौत दुखद है। हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय की साथ मिलकर चीन सरकार से अपील करते है कि वह नरसंहार में मारे गये, हिरासत में लिए गये और लापता हुए लोगों के विस्तृत आंकड़े पेश करे। ” गौरतलब है कि चीन सरकार ने 04 जून 1989 को हुए इस प्रदर्शन के दमन के लिए सैन्य टैंकों का इस्तेमाल किया था और इस दमनात्मक कार्रवाई में होती मौतों का आंकड़ा कभी जारी नहीं किया। मानवाधिकार समूहों और प्रत्यक्षदर्शियों के अाकलन के अनुसार इसमें सैंकड़ों से लेकर हजारों लोग मारे गये थे। चीन के विदेश मंत्रालय ने इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है और न ही चीन की मीडिया में इस दिन का कोई जिक्र है।"/> बीजिंग, अमेरिका ने वर्ष 1989 में बीजिंग के थियामेन चौराहे पर हुए छात्र नेतृत्व वाले प्रदर्शन के दमन में मारे गये लोगों का आंकड़ा सार्वजिनिक किये जाने का आग्रह किया है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पेओं ने रविवार को जारी बयान में कहा, “ नरसंहार में निर्दोष लोगों की मौत दुखद है। हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय की साथ मिलकर चीन सरकार से अपील करते है कि वह नरसंहार में मारे गये, हिरासत में लिए गये और लापता हुए लोगों के विस्तृत आंकड़े पेश करे। ” गौरतलब है कि चीन सरकार ने 04 जून 1989 को हुए इस प्रदर्शन के दमन के लिए सैन्य टैंकों का इस्तेमाल किया था और इस दमनात्मक कार्रवाई में होती मौतों का आंकड़ा कभी जारी नहीं किया। मानवाधिकार समूहों और प्रत्यक्षदर्शियों के अाकलन के अनुसार इसमें सैंकड़ों से लेकर हजारों लोग मारे गये थे। चीन के विदेश मंत्रालय ने इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है और न ही चीन की मीडिया में इस दिन का कोई जिक्र है।">

चीन थियानमेन नरसंहार का लेखाजोखा जारी करे: अमेरिका

2018/06/04



बीजिंग, अमेरिका ने वर्ष 1989 में बीजिंग के थियामेन चौराहे पर हुए छात्र नेतृत्व वाले प्रदर्शन के दमन में मारे गये लोगों का आंकड़ा सार्वजिनिक किये जाने का आग्रह किया है। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पेओं ने रविवार को जारी बयान में कहा, “ नरसंहार में निर्दोष लोगों की मौत दुखद है। हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय की साथ मिलकर चीन सरकार से अपील करते है कि वह नरसंहार में मारे गये, हिरासत में लिए गये और लापता हुए लोगों के विस्तृत आंकड़े पेश करे। ” गौरतलब है कि चीन सरकार ने 04 जून 1989 को हुए इस प्रदर्शन के दमन के लिए सैन्य टैंकों का इस्तेमाल किया था और इस दमनात्मक कार्रवाई में होती मौतों का आंकड़ा कभी जारी नहीं किया। मानवाधिकार समूहों और प्रत्यक्षदर्शियों के अाकलन के अनुसार इसमें सैंकड़ों से लेकर हजारों लोग मारे गये थे। चीन के विदेश मंत्रालय ने इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है और न ही चीन की मीडिया में इस दिन का कोई जिक्र है।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts