Breaking News :

नहीं हो रहा रखरखाव, जालियां उखड़ीं, स्टॉपों पर रहता है अंधेरा संत हिरदाराम नगर, बैरागढ़ से मिसरोद तक करोड़ो रूपए की लागत से बनाया गया बीआरटीएस कॉरीडोर अब खस्ता हालत की भेट चढ़ गया है. बस स्टॉपों पर अन्धेरा छाया रहता है कहीं से लाईट हटा दी गई है तो कहीं स्टॉप दुदर्शा का शिकार हो गए हैं. यातायात को दुरस्त करने के लिए कॉरीडोर के निर्माण में करोड़ो रूपए लगा दिए गए ताकि सुन्दर के साथ-साथ स्वच्छ व ट्रैफिक से निजात मिल सके. लेकिन यह सब उलटा होता नजर आ रहा है. संत नगर में बीआरटीएस कोरीडोर में पहले दुर्घटना रोकने के लिए महापौर ने गेट लगवाये थे लेकिन वह जगह-जगह से टूट गए है जिसक बाद सड़क के एक किनारे पर रख दिए गए है. वहीं बाद में कई जगह से जालियां गायब हो गई तो कहीं जगह से जालिया टेड़ी हो गई. जिससे कॉरीडोर की सुन्दरता बिगड़ गई है. इस कोरीडोर का रख रखाव सही से नहीं हो पाना इसका मुख्य कारण है यदि समय रहते बीआरटीएस कॉरीडोर के मेंटीनेंस पर ध्यान नहीं दिया गया तो वह दिन भी दूर नहीं जब कोरीडोर को स्वयं हटवाना पड़ेगा. संत नगर में विगत दिन दुर्घटना में बीआरटीएस कॉरीडोर की लोहे की जाली उखड़ कर सड़क पर आ गई है. जिस कारण सड़क से बीआरटीएस बस के ड्रायवरों को बस चलाने में परेशानी हो रही है.   अन्य वाहन दौड़ते कॉरिडोर में बेधड़क अन्य वाहनों का निकलना लगा हुआ है. अन्य वाहनों का कहीं से भी निकलने के कारण दुर्घटनाएं भी हो रही है. वॉलेन्टियर भी लापता रहते हैं. जगह-जगह से गेट टूटे होने के कारण अन्य वाहन भी निकल रहे हैं. इधर, कोरीडोर की लोहे की जाली उखड़ कर सड़क पर आ गई है. कहीं जगह से जालिां भी गायब हो गई है."/> नहीं हो रहा रखरखाव, जालियां उखड़ीं, स्टॉपों पर रहता है अंधेरा संत हिरदाराम नगर, बैरागढ़ से मिसरोद तक करोड़ो रूपए की लागत से बनाया गया बीआरटीएस कॉरीडोर अब खस्ता हालत की भेट चढ़ गया है. बस स्टॉपों पर अन्धेरा छाया रहता है कहीं से लाईट हटा दी गई है तो कहीं स्टॉप दुदर्शा का शिकार हो गए हैं. यातायात को दुरस्त करने के लिए कॉरीडोर के निर्माण में करोड़ो रूपए लगा दिए गए ताकि सुन्दर के साथ-साथ स्वच्छ व ट्रैफिक से निजात मिल सके. लेकिन यह सब उलटा होता नजर आ रहा है. संत नगर में बीआरटीएस कोरीडोर में पहले दुर्घटना रोकने के लिए महापौर ने गेट लगवाये थे लेकिन वह जगह-जगह से टूट गए है जिसक बाद सड़क के एक किनारे पर रख दिए गए है. वहीं बाद में कई जगह से जालियां गायब हो गई तो कहीं जगह से जालिया टेड़ी हो गई. जिससे कॉरीडोर की सुन्दरता बिगड़ गई है. इस कोरीडोर का रख रखाव सही से नहीं हो पाना इसका मुख्य कारण है यदि समय रहते बीआरटीएस कॉरीडोर के मेंटीनेंस पर ध्यान नहीं दिया गया तो वह दिन भी दूर नहीं जब कोरीडोर को स्वयं हटवाना पड़ेगा. संत नगर में विगत दिन दुर्घटना में बीआरटीएस कॉरीडोर की लोहे की जाली उखड़ कर सड़क पर आ गई है. जिस कारण सड़क से बीआरटीएस बस के ड्रायवरों को बस चलाने में परेशानी हो रही है.   अन्य वाहन दौड़ते कॉरिडोर में बेधड़क अन्य वाहनों का निकलना लगा हुआ है. अन्य वाहनों का कहीं से भी निकलने के कारण दुर्घटनाएं भी हो रही है. वॉलेन्टियर भी लापता रहते हैं. जगह-जगह से गेट टूटे होने के कारण अन्य वाहन भी निकल रहे हैं. इधर, कोरीडोर की लोहे की जाली उखड़ कर सड़क पर आ गई है. कहीं जगह से जालिां भी गायब हो गई है."/> नहीं हो रहा रखरखाव, जालियां उखड़ीं, स्टॉपों पर रहता है अंधेरा संत हिरदाराम नगर, बैरागढ़ से मिसरोद तक करोड़ो रूपए की लागत से बनाया गया बीआरटीएस कॉरीडोर अब खस्ता हालत की भेट चढ़ गया है. बस स्टॉपों पर अन्धेरा छाया रहता है कहीं से लाईट हटा दी गई है तो कहीं स्टॉप दुदर्शा का शिकार हो गए हैं. यातायात को दुरस्त करने के लिए कॉरीडोर के निर्माण में करोड़ो रूपए लगा दिए गए ताकि सुन्दर के साथ-साथ स्वच्छ व ट्रैफिक से निजात मिल सके. लेकिन यह सब उलटा होता नजर आ रहा है. संत नगर में बीआरटीएस कोरीडोर में पहले दुर्घटना रोकने के लिए महापौर ने गेट लगवाये थे लेकिन वह जगह-जगह से टूट गए है जिसक बाद सड़क के एक किनारे पर रख दिए गए है. वहीं बाद में कई जगह से जालियां गायब हो गई तो कहीं जगह से जालिया टेड़ी हो गई. जिससे कॉरीडोर की सुन्दरता बिगड़ गई है. इस कोरीडोर का रख रखाव सही से नहीं हो पाना इसका मुख्य कारण है यदि समय रहते बीआरटीएस कॉरीडोर के मेंटीनेंस पर ध्यान नहीं दिया गया तो वह दिन भी दूर नहीं जब कोरीडोर को स्वयं हटवाना पड़ेगा. संत नगर में विगत दिन दुर्घटना में बीआरटीएस कॉरीडोर की लोहे की जाली उखड़ कर सड़क पर आ गई है. जिस कारण सड़क से बीआरटीएस बस के ड्रायवरों को बस चलाने में परेशानी हो रही है.   अन्य वाहन दौड़ते कॉरिडोर में बेधड़क अन्य वाहनों का निकलना लगा हुआ है. अन्य वाहनों का कहीं से भी निकलने के कारण दुर्घटनाएं भी हो रही है. वॉलेन्टियर भी लापता रहते हैं. जगह-जगह से गेट टूटे होने के कारण अन्य वाहन भी निकल रहे हैं. इधर, कोरीडोर की लोहे की जाली उखड़ कर सड़क पर आ गई है. कहीं जगह से जालिां भी गायब हो गई है.">

खतरा बना कॉरिडोर

2018/01/04



नहीं हो रहा रखरखाव, जालियां उखड़ीं, स्टॉपों पर रहता है अंधेरा संत हिरदाराम नगर, बैरागढ़ से मिसरोद तक करोड़ो रूपए की लागत से बनाया गया बीआरटीएस कॉरीडोर अब खस्ता हालत की भेट चढ़ गया है. बस स्टॉपों पर अन्धेरा छाया रहता है कहीं से लाईट हटा दी गई है तो कहीं स्टॉप दुदर्शा का शिकार हो गए हैं. यातायात को दुरस्त करने के लिए कॉरीडोर के निर्माण में करोड़ो रूपए लगा दिए गए ताकि सुन्दर के साथ-साथ स्वच्छ व ट्रैफिक से निजात मिल सके. लेकिन यह सब उलटा होता नजर आ रहा है. संत नगर में बीआरटीएस कोरीडोर में पहले दुर्घटना रोकने के लिए महापौर ने गेट लगवाये थे लेकिन वह जगह-जगह से टूट गए है जिसक बाद सड़क के एक किनारे पर रख दिए गए है. वहीं बाद में कई जगह से जालियां गायब हो गई तो कहीं जगह से जालिया टेड़ी हो गई. जिससे कॉरीडोर की सुन्दरता बिगड़ गई है. इस कोरीडोर का रख रखाव सही से नहीं हो पाना इसका मुख्य कारण है यदि समय रहते बीआरटीएस कॉरीडोर के मेंटीनेंस पर ध्यान नहीं दिया गया तो वह दिन भी दूर नहीं जब कोरीडोर को स्वयं हटवाना पड़ेगा. संत नगर में विगत दिन दुर्घटना में बीआरटीएस कॉरीडोर की लोहे की जाली उखड़ कर सड़क पर आ गई है. जिस कारण सड़क से बीआरटीएस बस के ड्रायवरों को बस चलाने में परेशानी हो रही है.   अन्य वाहन दौड़ते कॉरिडोर में बेधड़क अन्य वाहनों का निकलना लगा हुआ है. अन्य वाहनों का कहीं से भी निकलने के कारण दुर्घटनाएं भी हो रही है. वॉलेन्टियर भी लापता रहते हैं. जगह-जगह से गेट टूटे होने के कारण अन्य वाहन भी निकल रहे हैं. इधर, कोरीडोर की लोहे की जाली उखड़ कर सड़क पर आ गई है. कहीं जगह से जालिां भी गायब हो गई है.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts