Breaking News :

डकैती की योजना बनाने के आरोपी जमानत पर रिहा पुलिस पर है बर्बरतापूर्वक मारपीट का आरोप नवभारत न्यूज भोपाल, राजधानी की एक अदालत ने डकैती की योजना बनाने के आरोपियों यूनुस उर्फ चीना और नदीम को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए हैं. अधिवक्ता मो जुबैर ने बताया कि इस मामले में अदालत ने थाने के सीसीटीवी फुटेज प्रस्तुत करने के आदेश दिए थे. थाने की ओर से जवाब पेश किया गया है कि थाने में मुखबिरों का आना-जाना लगा रहता है. फुटेज प्रस्तुत करने से उनके मुखबिरों की गोपनीयता भंग होगी. यह है मामला बचाव पक्ष के वकील मो जुबैर ने बताया कि पुलिस ने चीना उर्फ मोहम्मद, नदीम उर्फ बच्चा, शानू उर्फ शैराज और आमीर पर डकैती की योजना बनाने का आरोप लगाते हुए 8 नवंबर 2017 को गिरफ्तार करना बताया गया है जबकि पक्षकारों का कहना है कि पुलिस ने उनको 5 नवंबर 2017 को थाने बुलाकर बंद कर दिया गया था. इस मामले में पुलिस द्वारा की मनमानी और बर्बरतापूर्ण रवैये को अदालत के सामने लाने के लिए आरोपियों की ओर से कोर्ट के समक्ष आवेदन पेश कर थाने के सीसीटीवी फुटेज पेश करने के आदेश पुलिस को दिए जाने की मांग की गई थी. कोर्ट ने निशातपुरा थाना पुलिस को थाने की सीसीटीवी फुटेज पेश करने के आदेश दिए थे. लेकिन पुलिस ने मुखबिरों की गोपनियता भंग होने का हवाला देते हुए फुटेज प्रस्तुत नहीं किए हैं."/> डकैती की योजना बनाने के आरोपी जमानत पर रिहा पुलिस पर है बर्बरतापूर्वक मारपीट का आरोप नवभारत न्यूज भोपाल, राजधानी की एक अदालत ने डकैती की योजना बनाने के आरोपियों यूनुस उर्फ चीना और नदीम को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए हैं. अधिवक्ता मो जुबैर ने बताया कि इस मामले में अदालत ने थाने के सीसीटीवी फुटेज प्रस्तुत करने के आदेश दिए थे. थाने की ओर से जवाब पेश किया गया है कि थाने में मुखबिरों का आना-जाना लगा रहता है. फुटेज प्रस्तुत करने से उनके मुखबिरों की गोपनीयता भंग होगी. यह है मामला बचाव पक्ष के वकील मो जुबैर ने बताया कि पुलिस ने चीना उर्फ मोहम्मद, नदीम उर्फ बच्चा, शानू उर्फ शैराज और आमीर पर डकैती की योजना बनाने का आरोप लगाते हुए 8 नवंबर 2017 को गिरफ्तार करना बताया गया है जबकि पक्षकारों का कहना है कि पुलिस ने उनको 5 नवंबर 2017 को थाने बुलाकर बंद कर दिया गया था. इस मामले में पुलिस द्वारा की मनमानी और बर्बरतापूर्ण रवैये को अदालत के सामने लाने के लिए आरोपियों की ओर से कोर्ट के समक्ष आवेदन पेश कर थाने के सीसीटीवी फुटेज पेश करने के आदेश पुलिस को दिए जाने की मांग की गई थी. कोर्ट ने निशातपुरा थाना पुलिस को थाने की सीसीटीवी फुटेज पेश करने के आदेश दिए थे. लेकिन पुलिस ने मुखबिरों की गोपनियता भंग होने का हवाला देते हुए फुटेज प्रस्तुत नहीं किए हैं."/> डकैती की योजना बनाने के आरोपी जमानत पर रिहा पुलिस पर है बर्बरतापूर्वक मारपीट का आरोप नवभारत न्यूज भोपाल, राजधानी की एक अदालत ने डकैती की योजना बनाने के आरोपियों यूनुस उर्फ चीना और नदीम को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए हैं. अधिवक्ता मो जुबैर ने बताया कि इस मामले में अदालत ने थाने के सीसीटीवी फुटेज प्रस्तुत करने के आदेश दिए थे. थाने की ओर से जवाब पेश किया गया है कि थाने में मुखबिरों का आना-जाना लगा रहता है. फुटेज प्रस्तुत करने से उनके मुखबिरों की गोपनीयता भंग होगी. यह है मामला बचाव पक्ष के वकील मो जुबैर ने बताया कि पुलिस ने चीना उर्फ मोहम्मद, नदीम उर्फ बच्चा, शानू उर्फ शैराज और आमीर पर डकैती की योजना बनाने का आरोप लगाते हुए 8 नवंबर 2017 को गिरफ्तार करना बताया गया है जबकि पक्षकारों का कहना है कि पुलिस ने उनको 5 नवंबर 2017 को थाने बुलाकर बंद कर दिया गया था. इस मामले में पुलिस द्वारा की मनमानी और बर्बरतापूर्ण रवैये को अदालत के सामने लाने के लिए आरोपियों की ओर से कोर्ट के समक्ष आवेदन पेश कर थाने के सीसीटीवी फुटेज पेश करने के आदेश पुलिस को दिए जाने की मांग की गई थी. कोर्ट ने निशातपुरा थाना पुलिस को थाने की सीसीटीवी फुटेज पेश करने के आदेश दिए थे. लेकिन पुलिस ने मुखबिरों की गोपनियता भंग होने का हवाला देते हुए फुटेज प्रस्तुत नहीं किए हैं.">

कोर्ट ने मांगी सीसीटीवी कैमरे की रिकार्डिंग, पुलिस ने कहा हमारी गोपनीयता भंग होगी

2018/01/19



डकैती की योजना बनाने के आरोपी जमानत पर रिहा

पुलिस पर है बर्बरतापूर्वक मारपीट का आरोप नवभारत न्यूज भोपाल, राजधानी की एक अदालत ने डकैती की योजना बनाने के आरोपियों यूनुस उर्फ चीना और नदीम को जमानत पर रिहा करने के आदेश दिए हैं. अधिवक्ता मो जुबैर ने बताया कि इस मामले में अदालत ने थाने के सीसीटीवी फुटेज प्रस्तुत करने के आदेश दिए थे. थाने की ओर से जवाब पेश किया गया है कि थाने में मुखबिरों का आना-जाना लगा रहता है. फुटेज प्रस्तुत करने से उनके मुखबिरों की गोपनीयता भंग होगी. यह है मामला बचाव पक्ष के वकील मो जुबैर ने बताया कि पुलिस ने चीना उर्फ मोहम्मद, नदीम उर्फ बच्चा, शानू उर्फ शैराज और आमीर पर डकैती की योजना बनाने का आरोप लगाते हुए 8 नवंबर 2017 को गिरफ्तार करना बताया गया है जबकि पक्षकारों का कहना है कि पुलिस ने उनको 5 नवंबर 2017 को थाने बुलाकर बंद कर दिया गया था. इस मामले में पुलिस द्वारा की मनमानी और बर्बरतापूर्ण रवैये को अदालत के सामने लाने के लिए आरोपियों की ओर से कोर्ट के समक्ष आवेदन पेश कर थाने के सीसीटीवी फुटेज पेश करने के आदेश पुलिस को दिए जाने की मांग की गई थी. कोर्ट ने निशातपुरा थाना पुलिस को थाने की सीसीटीवी फुटेज पेश करने के आदेश दिए थे. लेकिन पुलिस ने मुखबिरों की गोपनियता भंग होने का हवाला देते हुए फुटेज प्रस्तुत नहीं किए हैं.


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts