Breaking News :

नयी दिल्ली/श्रीनगर,  राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों के लिए सीमा पार से हो रही फंडिंग के सिलसिले में आज राजधानी दिल्ली और श्रीनगर में 16 जगहों पर छापेमारी की। एनआईए के अनुसार सुबह श्रीनगर के 11 और दिल्ली में पांच ठिकानों पर छापेमारी की गई और यह अभी जारी है। एनआईए ने इस सिलसिले में कल श्रीनगर से दो कुख्यात पत्थरबाजाें कुलगाम के जावेद अहमद भट और पुलवामा से कामरान यूसुफ को गिरफ्तार किया था। इसके अलावा जांच एजेंसी ने कश्मीर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अधिवक्ता मियां अब्दुल कयूम को आज अपने दिल्ली स्थिति मुख्यालय में तलब किया है। जांच एजेन्सी ने पत्थरबाजों के खिलाफ अभियान चलाने से पहले पत्थरबाजों के गिरोहों की पूरी सूची तैयार की है । सूत्रों के अनुसार इस सूची में लगभग 100 पत्थरबाजों के नाम हैं। एजेंसी ने इससे पहले पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से आंतकवादी गतिविधियों के लिए फंडिंग करने के संबंध में हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों धडों के प्रवक्ताओं अयाज अकबर और अधिवक्ता शाहिदुल इस्लाम सहित कट्टरपंथी हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी के दामाद तथा कई अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया था। इसमें अन्य संगठन के लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था जिनमें नईम खान, मेहरुजुद्दीन कलवाल, पीर सैफुल्ला और फारूक अहमद डार उर्फ बिट्टा करातायत और व्यापारी जहूर वथाली अादि शामिल हैं। एनआईए टीम ने 16 अगस्त को राज्य पुलिस बल और अद्ध सैनिक बलों की सहायता से श्रीनगर, बारामूला जिले के तंगमर्ग, कुपवाडा जिले के सीमांत हंदवाडा में लगभग 12 ठिकानों पर छापे मारे थे। छापेमारी के बाद एनआईए ने 17 अगस्त को श्रीनगर के व्यापारी जहूर अहमद शाह वथाली को गिरफ्तार किया और दिल्ली की पटियाला हाउस अदालत में एनआई के विशेष न्यायाधीश ने उसे पुलिस हिरासत में भेजने के निर्देश दिए थे। ट्रेड फैसिलिटी सेंटर सलामाबाद ऊरी में 21 जुलाई को एक ट्रक से ड्रग्स मिलने के बाद सीमापार से नियंत्रण रेखा के पास गैरकानूनी गतिविधियों के चलते पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की 34 कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया गया था। एक ट्रक से 66.6 किलोग्राम हेरोइन और ब्राउन शुगर मिलने के बाद श्रीनगर और मुजफ्फराबाद के बीच व्यापार को 22 दिनों यानी 11 अगस्त तक के लिए बंद कर दिया गया। एनआईए की कार्रवाई के बाद नेशनल फ्रंट (एनएफ) के अध्यक्ष न्याम अहमद खान के खिलाफ औपचारिक प्राथमिकी दर्ज की गयी थी जिसमें कश्मीर में आंतकवादी गतिविधियों के लिए विदेशों से हो रही फंडिग का जिक्र है। खान की गिरफ्तार के बाद में गिलानी ने हुर्रियत कांफ्रेंस से उसे निलंबित कर दिया था। घाटी में विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान आतंकवादी समूहों से धन प्राप्त करने के संबंध में एजेंसी ने तीन जून को कश्मीर के 14 ठिकानों पर छापे मारे थे। खान के खुलासे के बाद एनआईए ने दिल्ली में भी कई ठिकानों पर छापे मारे। उल्लेखनीय है कि आतंकवादी सरगना बुरहान वानी के गत वर्ष जुलाई में मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से घाटी में सुरक्षा बलों पर पथराव का लंबा दौर चला था। पत्थरबाजी का दौर पिछले वर्ष से रूक रूक कर जारी है हालांकि पिछले कुछ समय से इन घटनाओं में कमी आई है। रिपोर्टों में कहा गया है कि पत्थरबाजों के गिरोह पत्थर फेंकने के लिए युवाओं को अच्छा खासा पैसा देते हैं।"/> नयी दिल्ली/श्रीनगर,  राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों के लिए सीमा पार से हो रही फंडिंग के सिलसिले में आज राजधानी दिल्ली और श्रीनगर में 16 जगहों पर छापेमारी की। एनआईए के अनुसार सुबह श्रीनगर के 11 और दिल्ली में पांच ठिकानों पर छापेमारी की गई और यह अभी जारी है। एनआईए ने इस सिलसिले में कल श्रीनगर से दो कुख्यात पत्थरबाजाें कुलगाम के जावेद अहमद भट और पुलवामा से कामरान यूसुफ को गिरफ्तार किया था। इसके अलावा जांच एजेंसी ने कश्मीर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अधिवक्ता मियां अब्दुल कयूम को आज अपने दिल्ली स्थिति मुख्यालय में तलब किया है। जांच एजेन्सी ने पत्थरबाजों के खिलाफ अभियान चलाने से पहले पत्थरबाजों के गिरोहों की पूरी सूची तैयार की है । सूत्रों के अनुसार इस सूची में लगभग 100 पत्थरबाजों के नाम हैं। एजेंसी ने इससे पहले पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से आंतकवादी गतिविधियों के लिए फंडिंग करने के संबंध में हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों धडों के प्रवक्ताओं अयाज अकबर और अधिवक्ता शाहिदुल इस्लाम सहित कट्टरपंथी हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी के दामाद तथा कई अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया था। इसमें अन्य संगठन के लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था जिनमें नईम खान, मेहरुजुद्दीन कलवाल, पीर सैफुल्ला और फारूक अहमद डार उर्फ बिट्टा करातायत और व्यापारी जहूर वथाली अादि शामिल हैं। एनआईए टीम ने 16 अगस्त को राज्य पुलिस बल और अद्ध सैनिक बलों की सहायता से श्रीनगर, बारामूला जिले के तंगमर्ग, कुपवाडा जिले के सीमांत हंदवाडा में लगभग 12 ठिकानों पर छापे मारे थे। छापेमारी के बाद एनआईए ने 17 अगस्त को श्रीनगर के व्यापारी जहूर अहमद शाह वथाली को गिरफ्तार किया और दिल्ली की पटियाला हाउस अदालत में एनआई के विशेष न्यायाधीश ने उसे पुलिस हिरासत में भेजने के निर्देश दिए थे। ट्रेड फैसिलिटी सेंटर सलामाबाद ऊरी में 21 जुलाई को एक ट्रक से ड्रग्स मिलने के बाद सीमापार से नियंत्रण रेखा के पास गैरकानूनी गतिविधियों के चलते पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की 34 कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया गया था। एक ट्रक से 66.6 किलोग्राम हेरोइन और ब्राउन शुगर मिलने के बाद श्रीनगर और मुजफ्फराबाद के बीच व्यापार को 22 दिनों यानी 11 अगस्त तक के लिए बंद कर दिया गया। एनआईए की कार्रवाई के बाद नेशनल फ्रंट (एनएफ) के अध्यक्ष न्याम अहमद खान के खिलाफ औपचारिक प्राथमिकी दर्ज की गयी थी जिसमें कश्मीर में आंतकवादी गतिविधियों के लिए विदेशों से हो रही फंडिग का जिक्र है। खान की गिरफ्तार के बाद में गिलानी ने हुर्रियत कांफ्रेंस से उसे निलंबित कर दिया था। घाटी में विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान आतंकवादी समूहों से धन प्राप्त करने के संबंध में एजेंसी ने तीन जून को कश्मीर के 14 ठिकानों पर छापे मारे थे। खान के खुलासे के बाद एनआईए ने दिल्ली में भी कई ठिकानों पर छापे मारे। उल्लेखनीय है कि आतंकवादी सरगना बुरहान वानी के गत वर्ष जुलाई में मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से घाटी में सुरक्षा बलों पर पथराव का लंबा दौर चला था। पत्थरबाजी का दौर पिछले वर्ष से रूक रूक कर जारी है हालांकि पिछले कुछ समय से इन घटनाओं में कमी आई है। रिपोर्टों में कहा गया है कि पत्थरबाजों के गिरोह पत्थर फेंकने के लिए युवाओं को अच्छा खासा पैसा देते हैं।"/> नयी दिल्ली/श्रीनगर,  राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों के लिए सीमा पार से हो रही फंडिंग के सिलसिले में आज राजधानी दिल्ली और श्रीनगर में 16 जगहों पर छापेमारी की। एनआईए के अनुसार सुबह श्रीनगर के 11 और दिल्ली में पांच ठिकानों पर छापेमारी की गई और यह अभी जारी है। एनआईए ने इस सिलसिले में कल श्रीनगर से दो कुख्यात पत्थरबाजाें कुलगाम के जावेद अहमद भट और पुलवामा से कामरान यूसुफ को गिरफ्तार किया था। इसके अलावा जांच एजेंसी ने कश्मीर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अधिवक्ता मियां अब्दुल कयूम को आज अपने दिल्ली स्थिति मुख्यालय में तलब किया है। जांच एजेन्सी ने पत्थरबाजों के खिलाफ अभियान चलाने से पहले पत्थरबाजों के गिरोहों की पूरी सूची तैयार की है । सूत्रों के अनुसार इस सूची में लगभग 100 पत्थरबाजों के नाम हैं। एजेंसी ने इससे पहले पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से आंतकवादी गतिविधियों के लिए फंडिंग करने के संबंध में हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों धडों के प्रवक्ताओं अयाज अकबर और अधिवक्ता शाहिदुल इस्लाम सहित कट्टरपंथी हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी के दामाद तथा कई अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया था। इसमें अन्य संगठन के लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था जिनमें नईम खान, मेहरुजुद्दीन कलवाल, पीर सैफुल्ला और फारूक अहमद डार उर्फ बिट्टा करातायत और व्यापारी जहूर वथाली अादि शामिल हैं। एनआईए टीम ने 16 अगस्त को राज्य पुलिस बल और अद्ध सैनिक बलों की सहायता से श्रीनगर, बारामूला जिले के तंगमर्ग, कुपवाडा जिले के सीमांत हंदवाडा में लगभग 12 ठिकानों पर छापे मारे थे। छापेमारी के बाद एनआईए ने 17 अगस्त को श्रीनगर के व्यापारी जहूर अहमद शाह वथाली को गिरफ्तार किया और दिल्ली की पटियाला हाउस अदालत में एनआई के विशेष न्यायाधीश ने उसे पुलिस हिरासत में भेजने के निर्देश दिए थे। ट्रेड फैसिलिटी सेंटर सलामाबाद ऊरी में 21 जुलाई को एक ट्रक से ड्रग्स मिलने के बाद सीमापार से नियंत्रण रेखा के पास गैरकानूनी गतिविधियों के चलते पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की 34 कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया गया था। एक ट्रक से 66.6 किलोग्राम हेरोइन और ब्राउन शुगर मिलने के बाद श्रीनगर और मुजफ्फराबाद के बीच व्यापार को 22 दिनों यानी 11 अगस्त तक के लिए बंद कर दिया गया। एनआईए की कार्रवाई के बाद नेशनल फ्रंट (एनएफ) के अध्यक्ष न्याम अहमद खान के खिलाफ औपचारिक प्राथमिकी दर्ज की गयी थी जिसमें कश्मीर में आंतकवादी गतिविधियों के लिए विदेशों से हो रही फंडिग का जिक्र है। खान की गिरफ्तार के बाद में गिलानी ने हुर्रियत कांफ्रेंस से उसे निलंबित कर दिया था। घाटी में विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान आतंकवादी समूहों से धन प्राप्त करने के संबंध में एजेंसी ने तीन जून को कश्मीर के 14 ठिकानों पर छापे मारे थे। खान के खुलासे के बाद एनआईए ने दिल्ली में भी कई ठिकानों पर छापे मारे। उल्लेखनीय है कि आतंकवादी सरगना बुरहान वानी के गत वर्ष जुलाई में मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से घाटी में सुरक्षा बलों पर पथराव का लंबा दौर चला था। पत्थरबाजी का दौर पिछले वर्ष से रूक रूक कर जारी है हालांकि पिछले कुछ समय से इन घटनाओं में कमी आई है। रिपोर्टों में कहा गया है कि पत्थरबाजों के गिरोह पत्थर फेंकने के लिए युवाओं को अच्छा खासा पैसा देते हैं।">

एनआईए की दिल्ली समेत 16 जगहों पर छापेमारी

2017/09/06



नयी दिल्ली/श्रीनगर,  राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू कश्मीर में आतंकवादी गतिविधियों के लिए सीमा पार से हो रही फंडिंग के सिलसिले में आज राजधानी दिल्ली और श्रीनगर में 16 जगहों पर छापेमारी की। एनआईए के अनुसार सुबह श्रीनगर के 11 और दिल्ली में पांच ठिकानों पर छापेमारी की गई और यह अभी जारी है। एनआईए ने इस सिलसिले में कल श्रीनगर से दो कुख्यात पत्थरबाजाें कुलगाम के जावेद अहमद भट और पुलवामा से कामरान यूसुफ को गिरफ्तार किया था। इसके अलावा जांच एजेंसी ने कश्मीर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अधिवक्ता मियां अब्दुल कयूम को आज अपने दिल्ली स्थिति मुख्यालय में तलब किया है। जांच एजेन्सी ने पत्थरबाजों के खिलाफ अभियान चलाने से पहले पत्थरबाजों के गिरोहों की पूरी सूची तैयार की है । सूत्रों के अनुसार इस सूची में लगभग 100 पत्थरबाजों के नाम हैं। एजेंसी ने इससे पहले पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से आंतकवादी गतिविधियों के लिए फंडिंग करने के संबंध में हुर्रियत कांफ्रेंस के दोनों धडों के प्रवक्ताओं अयाज अकबर और अधिवक्ता शाहिदुल इस्लाम सहित कट्टरपंथी हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष सैयद अली शाह गिलानी के दामाद तथा कई अलगाववादी नेताओं को गिरफ्तार कर लिया था। इसमें अन्य संगठन के लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था जिनमें नईम खान, मेहरुजुद्दीन कलवाल, पीर सैफुल्ला और फारूक अहमद डार उर्फ बिट्टा करातायत और व्यापारी जहूर वथाली अादि शामिल हैं। एनआईए टीम ने 16 अगस्त को राज्य पुलिस बल और अद्ध सैनिक बलों की सहायता से श्रीनगर, बारामूला जिले के तंगमर्ग, कुपवाडा जिले के सीमांत हंदवाडा में लगभग 12 ठिकानों पर छापे मारे थे। छापेमारी के बाद एनआईए ने 17 अगस्त को श्रीनगर के व्यापारी जहूर अहमद शाह वथाली को गिरफ्तार किया और दिल्ली की पटियाला हाउस अदालत में एनआई के विशेष न्यायाधीश ने उसे पुलिस हिरासत में भेजने के निर्देश दिए थे। ट्रेड फैसिलिटी सेंटर सलामाबाद ऊरी में 21 जुलाई को एक ट्रक से ड्रग्स मिलने के बाद सीमापार से नियंत्रण रेखा के पास गैरकानूनी गतिविधियों के चलते पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की 34 कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया गया था। एक ट्रक से 66.6 किलोग्राम हेरोइन और ब्राउन शुगर मिलने के बाद श्रीनगर और मुजफ्फराबाद के बीच व्यापार को 22 दिनों यानी 11 अगस्त तक के लिए बंद कर दिया गया। एनआईए की कार्रवाई के बाद नेशनल फ्रंट (एनएफ) के अध्यक्ष न्याम अहमद खान के खिलाफ औपचारिक प्राथमिकी दर्ज की गयी थी जिसमें कश्मीर में आंतकवादी गतिविधियों के लिए विदेशों से हो रही फंडिग का जिक्र है। खान की गिरफ्तार के बाद में गिलानी ने हुर्रियत कांफ्रेंस से उसे निलंबित कर दिया था। घाटी में विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान आतंकवादी समूहों से धन प्राप्त करने के संबंध में एजेंसी ने तीन जून को कश्मीर के 14 ठिकानों पर छापे मारे थे। खान के खुलासे के बाद एनआईए ने दिल्ली में भी कई ठिकानों पर छापे मारे। उल्लेखनीय है कि आतंकवादी सरगना बुरहान वानी के गत वर्ष जुलाई में मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से घाटी में सुरक्षा बलों पर पथराव का लंबा दौर चला था। पत्थरबाजी का दौर पिछले वर्ष से रूक रूक कर जारी है हालांकि पिछले कुछ समय से इन घटनाओं में कमी आई है। रिपोर्टों में कहा गया है कि पत्थरबाजों के गिरोह पत्थर फेंकने के लिए युवाओं को अच्छा खासा पैसा देते हैं।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts