Breaking News :

33 सूत्रीय मांगों को लेकर किया अनुष्ठान

नवभारत न्यूज भोपाल, किसान, मजदूरों व महिलाओं से की जा रही अभद्रता से परेशान ग्रामीणों द्वारा 1 जनवरी से शहीद स्मारक बोरास, उदयपुरा से गुफा मंदिर भोपाल तक एडवोकेट सुनील कुमार दीक्षित के नेतृत्व में अपनी 33 सूत्रीय मांगों को लेकर सरों अर्थात् साष्टांग प्रणाम का आयोजन किया गया. ग्राम उदय से भारत उदय के समर्थन में ग्रामीणों द्वारा इस समग्र क्रांति का आयोजन किया गया. नेतृत्व कर रहे सुनील कुमार दीक्षित ने बताया कि किसान, मजदूर, महिलाओं के संबंध में 33 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन 18 दिसंबर को राष्ट्रपति , प्रधानमंत्री, राज्यपाल व मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार उदयपुरा के माध्यम से सौंपा गया था, लेकिन उक्त मांगों को शासन द्वारा पूर्ण नहीं किया गया. जिसके विरोध में हमने साष्टांग प्रणाम करते हुये रैली निकालने का आयोजन किया. आमरण अनशन की चेतावनी नेतृत्व कर रहे सुनील कुमार दीक्षित ने आंदोलन की जानकारी देते हुये बताया कि सरों के दौरान हम मुख्यमंत्री, राज्यपाल व प्रमुख सचिव से मांगों के समर्थन में भेंट करते हुये गुफा मंदिर में शिव अभिषेक करेंगे तथा प्रशासन द्वारा मांगें पूरी नहीं होने पर बीएचईएल मैदान में आमरण अनशन किया जायेगा. ये हैं मांगें प्रत्येक गांव में शासकीय गौ-शाला, मजदूरों के आवासीय पट्टे, राशनकार्ड, बीमा कार्ड, स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराये जायें, अनाज के उचित दाम दिये जावें, तुअर 8201, चना-मसूर, तिवड़ा, बटरा, उड़द, मूंग 7000, बासमती धान 5000, मोटा धान 3000, गन्ना 400 रु. प्रति ङ्क्षक्वटल, सरकार द्वारा अधिकृत जमीनों का उचित गाइड लाइन के तहत भुगतान, आदिवासी व ग्रामीणों के लिये आवासीय पट्टे व वनभूमि में जोत पट्टे उपलब्ध करायें, प्रत्येक ग्राम में चरोखर भूमि, श्मशानघाट, मंडी की जमीनों का सीमांकन, आरक्षित वर्ग के मजदूर किसानों के बच्चों को ही आरक्षण, अधिवक्ता व पत्रकारों के लिये प्रोटेक्शन एक्ट लागू किये जायें, उदयपुरा तहसील के 109 गांवों में नल-जल की उचित जल व्यवस्था तथा किसानों, मजदूरों व महिलाओं पर दर्ज झूठे प्रकरण को वापस लिया जाये.  "/>

33 सूत्रीय मांगों को लेकर किया अनुष्ठान

नवभारत न्यूज भोपाल, किसान, मजदूरों व महिलाओं से की जा रही अभद्रता से परेशान ग्रामीणों द्वारा 1 जनवरी से शहीद स्मारक बोरास, उदयपुरा से गुफा मंदिर भोपाल तक एडवोकेट सुनील कुमार दीक्षित के नेतृत्व में अपनी 33 सूत्रीय मांगों को लेकर सरों अर्थात् साष्टांग प्रणाम का आयोजन किया गया. ग्राम उदय से भारत उदय के समर्थन में ग्रामीणों द्वारा इस समग्र क्रांति का आयोजन किया गया. नेतृत्व कर रहे सुनील कुमार दीक्षित ने बताया कि किसान, मजदूर, महिलाओं के संबंध में 33 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन 18 दिसंबर को राष्ट्रपति , प्रधानमंत्री, राज्यपाल व मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार उदयपुरा के माध्यम से सौंपा गया था, लेकिन उक्त मांगों को शासन द्वारा पूर्ण नहीं किया गया. जिसके विरोध में हमने साष्टांग प्रणाम करते हुये रैली निकालने का आयोजन किया. आमरण अनशन की चेतावनी नेतृत्व कर रहे सुनील कुमार दीक्षित ने आंदोलन की जानकारी देते हुये बताया कि सरों के दौरान हम मुख्यमंत्री, राज्यपाल व प्रमुख सचिव से मांगों के समर्थन में भेंट करते हुये गुफा मंदिर में शिव अभिषेक करेंगे तथा प्रशासन द्वारा मांगें पूरी नहीं होने पर बीएचईएल मैदान में आमरण अनशन किया जायेगा. ये हैं मांगें प्रत्येक गांव में शासकीय गौ-शाला, मजदूरों के आवासीय पट्टे, राशनकार्ड, बीमा कार्ड, स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराये जायें, अनाज के उचित दाम दिये जावें, तुअर 8201, चना-मसूर, तिवड़ा, बटरा, उड़द, मूंग 7000, बासमती धान 5000, मोटा धान 3000, गन्ना 400 रु. प्रति ङ्क्षक्वटल, सरकार द्वारा अधिकृत जमीनों का उचित गाइड लाइन के तहत भुगतान, आदिवासी व ग्रामीणों के लिये आवासीय पट्टे व वनभूमि में जोत पट्टे उपलब्ध करायें, प्रत्येक ग्राम में चरोखर भूमि, श्मशानघाट, मंडी की जमीनों का सीमांकन, आरक्षित वर्ग के मजदूर किसानों के बच्चों को ही आरक्षण, अधिवक्ता व पत्रकारों के लिये प्रोटेक्शन एक्ट लागू किये जायें, उदयपुरा तहसील के 109 गांवों में नल-जल की उचित जल व्यवस्था तथा किसानों, मजदूरों व महिलाओं पर दर्ज झूठे प्रकरण को वापस लिया जाये.  "/>

33 सूत्रीय मांगों को लेकर किया अनुष्ठान

नवभारत न्यूज भोपाल, किसान, मजदूरों व महिलाओं से की जा रही अभद्रता से परेशान ग्रामीणों द्वारा 1 जनवरी से शहीद स्मारक बोरास, उदयपुरा से गुफा मंदिर भोपाल तक एडवोकेट सुनील कुमार दीक्षित के नेतृत्व में अपनी 33 सूत्रीय मांगों को लेकर सरों अर्थात् साष्टांग प्रणाम का आयोजन किया गया. ग्राम उदय से भारत उदय के समर्थन में ग्रामीणों द्वारा इस समग्र क्रांति का आयोजन किया गया. नेतृत्व कर रहे सुनील कुमार दीक्षित ने बताया कि किसान, मजदूर, महिलाओं के संबंध में 33 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन 18 दिसंबर को राष्ट्रपति , प्रधानमंत्री, राज्यपाल व मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार उदयपुरा के माध्यम से सौंपा गया था, लेकिन उक्त मांगों को शासन द्वारा पूर्ण नहीं किया गया. जिसके विरोध में हमने साष्टांग प्रणाम करते हुये रैली निकालने का आयोजन किया. आमरण अनशन की चेतावनी नेतृत्व कर रहे सुनील कुमार दीक्षित ने आंदोलन की जानकारी देते हुये बताया कि सरों के दौरान हम मुख्यमंत्री, राज्यपाल व प्रमुख सचिव से मांगों के समर्थन में भेंट करते हुये गुफा मंदिर में शिव अभिषेक करेंगे तथा प्रशासन द्वारा मांगें पूरी नहीं होने पर बीएचईएल मैदान में आमरण अनशन किया जायेगा. ये हैं मांगें प्रत्येक गांव में शासकीय गौ-शाला, मजदूरों के आवासीय पट्टे, राशनकार्ड, बीमा कार्ड, स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराये जायें, अनाज के उचित दाम दिये जावें, तुअर 8201, चना-मसूर, तिवड़ा, बटरा, उड़द, मूंग 7000, बासमती धान 5000, मोटा धान 3000, गन्ना 400 रु. प्रति ङ्क्षक्वटल, सरकार द्वारा अधिकृत जमीनों का उचित गाइड लाइन के तहत भुगतान, आदिवासी व ग्रामीणों के लिये आवासीय पट्टे व वनभूमि में जोत पट्टे उपलब्ध करायें, प्रत्येक ग्राम में चरोखर भूमि, श्मशानघाट, मंडी की जमीनों का सीमांकन, आरक्षित वर्ग के मजदूर किसानों के बच्चों को ही आरक्षण, अधिवक्ता व पत्रकारों के लिये प्रोटेक्शन एक्ट लागू किये जायें, उदयपुरा तहसील के 109 गांवों में नल-जल की उचित जल व्यवस्था तथा किसानों, मजदूरों व महिलाओं पर दर्ज झूठे प्रकरण को वापस लिया जाये.  ">

उदयपुरा से भोपाल चले आए दण्डवत

2018/01/16



33 सूत्रीय मांगों को लेकर किया अनुष्ठान

नवभारत न्यूज भोपाल, किसान, मजदूरों व महिलाओं से की जा रही अभद्रता से परेशान ग्रामीणों द्वारा 1 जनवरी से शहीद स्मारक बोरास, उदयपुरा से गुफा मंदिर भोपाल तक एडवोकेट सुनील कुमार दीक्षित के नेतृत्व में अपनी 33 सूत्रीय मांगों को लेकर सरों अर्थात् साष्टांग प्रणाम का आयोजन किया गया. ग्राम उदय से भारत उदय के समर्थन में ग्रामीणों द्वारा इस समग्र क्रांति का आयोजन किया गया. नेतृत्व कर रहे सुनील कुमार दीक्षित ने बताया कि किसान, मजदूर, महिलाओं के संबंध में 33 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन 18 दिसंबर को राष्ट्रपति , प्रधानमंत्री, राज्यपाल व मुख्यमंत्री के नाम तहसीलदार उदयपुरा के माध्यम से सौंपा गया था, लेकिन उक्त मांगों को शासन द्वारा पूर्ण नहीं किया गया. जिसके विरोध में हमने साष्टांग प्रणाम करते हुये रैली निकालने का आयोजन किया. आमरण अनशन की चेतावनी नेतृत्व कर रहे सुनील कुमार दीक्षित ने आंदोलन की जानकारी देते हुये बताया कि सरों के दौरान हम मुख्यमंत्री, राज्यपाल व प्रमुख सचिव से मांगों के समर्थन में भेंट करते हुये गुफा मंदिर में शिव अभिषेक करेंगे तथा प्रशासन द्वारा मांगें पूरी नहीं होने पर बीएचईएल मैदान में आमरण अनशन किया जायेगा. ये हैं मांगें प्रत्येक गांव में शासकीय गौ-शाला, मजदूरों के आवासीय पट्टे, राशनकार्ड, बीमा कार्ड, स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराये जायें, अनाज के उचित दाम दिये जावें, तुअर 8201, चना-मसूर, तिवड़ा, बटरा, उड़द, मूंग 7000, बासमती धान 5000, मोटा धान 3000, गन्ना 400 रु. प्रति ङ्क्षक्वटल, सरकार द्वारा अधिकृत जमीनों का उचित गाइड लाइन के तहत भुगतान, आदिवासी व ग्रामीणों के लिये आवासीय पट्टे व वनभूमि में जोत पट्टे उपलब्ध करायें, प्रत्येक ग्राम में चरोखर भूमि, श्मशानघाट, मंडी की जमीनों का सीमांकन, आरक्षित वर्ग के मजदूर किसानों के बच्चों को ही आरक्षण, अधिवक्ता व पत्रकारों के लिये प्रोटेक्शन एक्ट लागू किये जायें, उदयपुरा तहसील के 109 गांवों में नल-जल की उचित जल व्यवस्था तथा किसानों, मजदूरों व महिलाओं पर दर्ज झूठे प्रकरण को वापस लिया जाये.  


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts