Breaking News :

बागपत/लखनऊ,   उत्तर प्रदेश के बागपत शहर कोतवाली क्षेत्र में आज सुबह काठा गांव के सामने यमुना नदी में एक नाव के पलटने से 18 लोगों की मृत्यु हो गई जबकि कई लोग अभी भी लापता हैं।  प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे मे मारे गये लोगाें के परिजनों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा की है। उन्होंने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए दुर्घटना में बचे लोगों के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की है। बागपत कोतवाली प्रभारी हरेन्द्र शर्मा के अनुसार काठा गांव से करीब 35 लोग नाव पर सवार होकर यमुना पार हरियाणा की ओर अपने खेत में काम करने जा रहे थे। सुबह करीब साढे सात बजे अचानक नाव पलट गई और अधिकतर लोग यमुना में डूब गये। उन्होंने बताया कि अभी 18 शव नदी से निकाले गये हैं। जिला पुलिस एवं प्रशासन अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और राहत एवं बचाव का काम अभी जारी है। प्रथम दृष्टया नाव में क्षमता से अधिक लोग सवार थे। उन्होंने बताया कि लोगों के अलावा नाव पर खाद के बोरे और अन्य सामान भी लदा था। उन्होंने बताया कि नाव पर कितने लोग थे अभी यह स्पष्ट नहीं है। आधिकारिक तौर पर नाव में करीब 35 लोगों के होने के बात कही गई है जबकि गैर सरकारी सूत्रों के अनुसार यह संख्या अधिक है। इस बीच मेरठ जोन के पुलिस महानिरीक्षक रामकुमार भी घटनास्थल पर पहुंच रहे हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें जो सूचना मिली यमुना से 24 लोगों को निकाला जा चुका है। गोताखोर लापता लोगों की तलाश में लगे हैं ।"/> बागपत/लखनऊ,   उत्तर प्रदेश के बागपत शहर कोतवाली क्षेत्र में आज सुबह काठा गांव के सामने यमुना नदी में एक नाव के पलटने से 18 लोगों की मृत्यु हो गई जबकि कई लोग अभी भी लापता हैं।  प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे मे मारे गये लोगाें के परिजनों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा की है। उन्होंने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए दुर्घटना में बचे लोगों के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की है। बागपत कोतवाली प्रभारी हरेन्द्र शर्मा के अनुसार काठा गांव से करीब 35 लोग नाव पर सवार होकर यमुना पार हरियाणा की ओर अपने खेत में काम करने जा रहे थे। सुबह करीब साढे सात बजे अचानक नाव पलट गई और अधिकतर लोग यमुना में डूब गये। उन्होंने बताया कि अभी 18 शव नदी से निकाले गये हैं। जिला पुलिस एवं प्रशासन अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और राहत एवं बचाव का काम अभी जारी है। प्रथम दृष्टया नाव में क्षमता से अधिक लोग सवार थे। उन्होंने बताया कि लोगों के अलावा नाव पर खाद के बोरे और अन्य सामान भी लदा था। उन्होंने बताया कि नाव पर कितने लोग थे अभी यह स्पष्ट नहीं है। आधिकारिक तौर पर नाव में करीब 35 लोगों के होने के बात कही गई है जबकि गैर सरकारी सूत्रों के अनुसार यह संख्या अधिक है। इस बीच मेरठ जोन के पुलिस महानिरीक्षक रामकुमार भी घटनास्थल पर पहुंच रहे हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें जो सूचना मिली यमुना से 24 लोगों को निकाला जा चुका है। गोताखोर लापता लोगों की तलाश में लगे हैं ।"/> बागपत/लखनऊ,   उत्तर प्रदेश के बागपत शहर कोतवाली क्षेत्र में आज सुबह काठा गांव के सामने यमुना नदी में एक नाव के पलटने से 18 लोगों की मृत्यु हो गई जबकि कई लोग अभी भी लापता हैं।  प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे मे मारे गये लोगाें के परिजनों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा की है। उन्होंने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए दुर्घटना में बचे लोगों के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की है। बागपत कोतवाली प्रभारी हरेन्द्र शर्मा के अनुसार काठा गांव से करीब 35 लोग नाव पर सवार होकर यमुना पार हरियाणा की ओर अपने खेत में काम करने जा रहे थे। सुबह करीब साढे सात बजे अचानक नाव पलट गई और अधिकतर लोग यमुना में डूब गये। उन्होंने बताया कि अभी 18 शव नदी से निकाले गये हैं। जिला पुलिस एवं प्रशासन अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और राहत एवं बचाव का काम अभी जारी है। प्रथम दृष्टया नाव में क्षमता से अधिक लोग सवार थे। उन्होंने बताया कि लोगों के अलावा नाव पर खाद के बोरे और अन्य सामान भी लदा था। उन्होंने बताया कि नाव पर कितने लोग थे अभी यह स्पष्ट नहीं है। आधिकारिक तौर पर नाव में करीब 35 लोगों के होने के बात कही गई है जबकि गैर सरकारी सूत्रों के अनुसार यह संख्या अधिक है। इस बीच मेरठ जोन के पुलिस महानिरीक्षक रामकुमार भी घटनास्थल पर पहुंच रहे हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें जो सूचना मिली यमुना से 24 लोगों को निकाला जा चुका है। गोताखोर लापता लोगों की तलाश में लगे हैं ।">

उत्तर प्रदेश के बागपत के निकट यमुना में नाव डूबी, 18 शव बरामद, अभी भी कई लापता

2017/09/14



बागपत/लखनऊ,   उत्तर प्रदेश के बागपत शहर कोतवाली क्षेत्र में आज सुबह काठा गांव के सामने यमुना नदी में एक नाव के पलटने से 18 लोगों की मृत्यु हो गई जबकि कई लोग अभी भी लापता हैं।  प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे मे मारे गये लोगाें के परिजनों को दो-दो लाख रुपये देने की घोषणा की है। उन्होंने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए दुर्घटना में बचे लोगों के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की है। बागपत कोतवाली प्रभारी हरेन्द्र शर्मा के अनुसार काठा गांव से करीब 35 लोग नाव पर सवार होकर यमुना पार हरियाणा की ओर अपने खेत में काम करने जा रहे थे। सुबह करीब साढे सात बजे अचानक नाव पलट गई और अधिकतर लोग यमुना में डूब गये। उन्होंने बताया कि अभी 18 शव नदी से निकाले गये हैं। जिला पुलिस एवं प्रशासन अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और राहत एवं बचाव का काम अभी जारी है। प्रथम दृष्टया नाव में क्षमता से अधिक लोग सवार थे। उन्होंने बताया कि लोगों के अलावा नाव पर खाद के बोरे और अन्य सामान भी लदा था। उन्होंने बताया कि नाव पर कितने लोग थे अभी यह स्पष्ट नहीं है। आधिकारिक तौर पर नाव में करीब 35 लोगों के होने के बात कही गई है जबकि गैर सरकारी सूत्रों के अनुसार यह संख्या अधिक है। इस बीच मेरठ जोन के पुलिस महानिरीक्षक रामकुमार भी घटनास्थल पर पहुंच रहे हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें जो सूचना मिली यमुना से 24 लोगों को निकाला जा चुका है। गोताखोर लापता लोगों की तलाश में लगे हैं ।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts