Breaking News :

बगदाद,  इराक के अर्द्धसैनिक बलों की इकाईयों ने प्राचीन शहर अल-हतरा को इस्लामिक स्टेट के कब्जे से छुड़ा लिया है। इराकी सेना के प्रवक्ता के अनुसार अर्द्धसैनिक बलों ने इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों को प्राचीन शहर से बाहर खदेड़ते हुए शहर पर कब्जा कर लिया। इस्लामिक स्टेट ने अपने तीन साल के कब्जे के दौरान शहर को काफी नुकसान पहुंचाया है। हालांकि, इस दौरान नुकसान कितना हुआ है अभी इस बात की जानकारी नहीं मिली है। गौरतलब है कि इस्लामिक स्टेट ने 2015 में एक वीडियो जारी किया था जिसमें अल-हतरा के स्मारकों को नुकसान पहुंचाते हुए दिखाया गया था। ईरान में प्रशिक्षण प्राप्त शिया नेतृत्व वाले लड़ाकों ने मंगलवार सुबह अल-हतरा को छुड़ाने के लिए अपना अभियान शुरू किया था। इन शिया लड़ाकों का गठन 2014 में कट्टरपंथी सुन्नी आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के गठन के बाद किया गया था। अल-हतरा 2014 में इस्लामिक स्टेट के नियंत्रण में आने से पहले इराक के सबसे संरक्षित प्राचीन स्थलों में से एक था। राजधानी बगदाद से 290 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम और मोसुल से 110 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित अल-हतरा संभवत ईसा पूर्व दूसरी-तीसरी शताब्दी में बसाया गया था। शहर के कई मंदिर यूनानी और रोमन वास्तुकला कला में बने थे और इनमें पूर्वी सजावटी विशेषताओं की झलक भी थी। "/> बगदाद,  इराक के अर्द्धसैनिक बलों की इकाईयों ने प्राचीन शहर अल-हतरा को इस्लामिक स्टेट के कब्जे से छुड़ा लिया है। इराकी सेना के प्रवक्ता के अनुसार अर्द्धसैनिक बलों ने इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों को प्राचीन शहर से बाहर खदेड़ते हुए शहर पर कब्जा कर लिया। इस्लामिक स्टेट ने अपने तीन साल के कब्जे के दौरान शहर को काफी नुकसान पहुंचाया है। हालांकि, इस दौरान नुकसान कितना हुआ है अभी इस बात की जानकारी नहीं मिली है। गौरतलब है कि इस्लामिक स्टेट ने 2015 में एक वीडियो जारी किया था जिसमें अल-हतरा के स्मारकों को नुकसान पहुंचाते हुए दिखाया गया था। ईरान में प्रशिक्षण प्राप्त शिया नेतृत्व वाले लड़ाकों ने मंगलवार सुबह अल-हतरा को छुड़ाने के लिए अपना अभियान शुरू किया था। इन शिया लड़ाकों का गठन 2014 में कट्टरपंथी सुन्नी आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के गठन के बाद किया गया था। अल-हतरा 2014 में इस्लामिक स्टेट के नियंत्रण में आने से पहले इराक के सबसे संरक्षित प्राचीन स्थलों में से एक था। राजधानी बगदाद से 290 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम और मोसुल से 110 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित अल-हतरा संभवत ईसा पूर्व दूसरी-तीसरी शताब्दी में बसाया गया था। शहर के कई मंदिर यूनानी और रोमन वास्तुकला कला में बने थे और इनमें पूर्वी सजावटी विशेषताओं की झलक भी थी। "/> बगदाद,  इराक के अर्द्धसैनिक बलों की इकाईयों ने प्राचीन शहर अल-हतरा को इस्लामिक स्टेट के कब्जे से छुड़ा लिया है। इराकी सेना के प्रवक्ता के अनुसार अर्द्धसैनिक बलों ने इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों को प्राचीन शहर से बाहर खदेड़ते हुए शहर पर कब्जा कर लिया। इस्लामिक स्टेट ने अपने तीन साल के कब्जे के दौरान शहर को काफी नुकसान पहुंचाया है। हालांकि, इस दौरान नुकसान कितना हुआ है अभी इस बात की जानकारी नहीं मिली है। गौरतलब है कि इस्लामिक स्टेट ने 2015 में एक वीडियो जारी किया था जिसमें अल-हतरा के स्मारकों को नुकसान पहुंचाते हुए दिखाया गया था। ईरान में प्रशिक्षण प्राप्त शिया नेतृत्व वाले लड़ाकों ने मंगलवार सुबह अल-हतरा को छुड़ाने के लिए अपना अभियान शुरू किया था। इन शिया लड़ाकों का गठन 2014 में कट्टरपंथी सुन्नी आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के गठन के बाद किया गया था। अल-हतरा 2014 में इस्लामिक स्टेट के नियंत्रण में आने से पहले इराक के सबसे संरक्षित प्राचीन स्थलों में से एक था। राजधानी बगदाद से 290 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम और मोसुल से 110 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित अल-हतरा संभवत ईसा पूर्व दूसरी-तीसरी शताब्दी में बसाया गया था। शहर के कई मंदिर यूनानी और रोमन वास्तुकला कला में बने थे और इनमें पूर्वी सजावटी विशेषताओं की झलक भी थी। ">

इस्लामिक स्टेट के कब्जे से छुड़ाया गया प्राचीन शहर अल-हतरा

2017/04/27



बगदाद,  इराक के अर्द्धसैनिक बलों की इकाईयों ने प्राचीन शहर अल-हतरा को इस्लामिक स्टेट के कब्जे से छुड़ा लिया है। इराकी सेना के प्रवक्ता के अनुसार अर्द्धसैनिक बलों ने इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों को प्राचीन शहर से बाहर खदेड़ते हुए शहर पर कब्जा कर लिया। इस्लामिक स्टेट ने अपने तीन साल के कब्जे के दौरान शहर को काफी नुकसान पहुंचाया है। हालांकि, इस दौरान नुकसान कितना हुआ है अभी इस बात की जानकारी नहीं मिली है। गौरतलब है कि इस्लामिक स्टेट ने 2015 में एक वीडियो जारी किया था जिसमें अल-हतरा के स्मारकों को नुकसान पहुंचाते हुए दिखाया गया था। ईरान में प्रशिक्षण प्राप्त शिया नेतृत्व वाले लड़ाकों ने मंगलवार सुबह अल-हतरा को छुड़ाने के लिए अपना अभियान शुरू किया था। इन शिया लड़ाकों का गठन 2014 में कट्टरपंथी सुन्नी आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के गठन के बाद किया गया था। अल-हतरा 2014 में इस्लामिक स्टेट के नियंत्रण में आने से पहले इराक के सबसे संरक्षित प्राचीन स्थलों में से एक था। राजधानी बगदाद से 290 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम और मोसुल से 110 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित अल-हतरा संभवत ईसा पूर्व दूसरी-तीसरी शताब्दी में बसाया गया था। शहर के कई मंदिर यूनानी और रोमन वास्तुकला कला में बने थे और इनमें पूर्वी सजावटी विशेषताओं की झलक भी थी।


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts