Breaking News :

मेलबोर्न, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच चौथे एशेज़ टेस्ट के आयोजन स्थल मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) की पिच को खराब करार दिया है।इस पिच पर पांच दिन में केवल 24 विकेट गिरे और अंतत: मैच ड्रा समाप्त हुआ था। आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दोनों ही टीमों ने इस पिच की आलोचना की थी जहां मेजबान टीम ने पहली पारी में 327 रन बनाये और दूसरी पारी में चार विकेट पर 263 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी जबकि इंग्लैंड ने अपनी एकमात्र पारी में 491 रन बनाये लेकिन फिर भी वह जीत नहीं सकी और मैच ड्रा समाप्त हो गया। मैच रेफरी रंजन मदुगाले ने अपनी रिपोर्ट में आईसीसी को पिच का विवरण दिया है।उन्होंने कहा“ एमसीजी पिच पर उछाल बहुत कम था और यह धीमी पिच मैच के साथ और धीमी होती चली गयी।पांच दिनों के मैच में भी पिच की हरकत में कोई बदलाव आया ही नहीं और इसपर स्वभाविक रूप से भी कोई बदलाव नहीं दिखा।” मैच अधिकारियों ने भी एमसीजी की पिच को लेकर चिंता जताई थी।मदुगाले ने कहा“ इस पिच पर गेंद और बल्ले से बराबरी का खेल दिखाई नहीं दिया।न तो इसने बल्लेबाज़ों को खास मदद की और न ही गेंदबाजों को विकेट के मौके दिये।”"/> मेलबोर्न, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच चौथे एशेज़ टेस्ट के आयोजन स्थल मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) की पिच को खराब करार दिया है।इस पिच पर पांच दिन में केवल 24 विकेट गिरे और अंतत: मैच ड्रा समाप्त हुआ था। आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दोनों ही टीमों ने इस पिच की आलोचना की थी जहां मेजबान टीम ने पहली पारी में 327 रन बनाये और दूसरी पारी में चार विकेट पर 263 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी जबकि इंग्लैंड ने अपनी एकमात्र पारी में 491 रन बनाये लेकिन फिर भी वह जीत नहीं सकी और मैच ड्रा समाप्त हो गया। मैच रेफरी रंजन मदुगाले ने अपनी रिपोर्ट में आईसीसी को पिच का विवरण दिया है।उन्होंने कहा“ एमसीजी पिच पर उछाल बहुत कम था और यह धीमी पिच मैच के साथ और धीमी होती चली गयी।पांच दिनों के मैच में भी पिच की हरकत में कोई बदलाव आया ही नहीं और इसपर स्वभाविक रूप से भी कोई बदलाव नहीं दिखा।” मैच अधिकारियों ने भी एमसीजी की पिच को लेकर चिंता जताई थी।मदुगाले ने कहा“ इस पिच पर गेंद और बल्ले से बराबरी का खेल दिखाई नहीं दिया।न तो इसने बल्लेबाज़ों को खास मदद की और न ही गेंदबाजों को विकेट के मौके दिये।”"/> मेलबोर्न, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच चौथे एशेज़ टेस्ट के आयोजन स्थल मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) की पिच को खराब करार दिया है।इस पिच पर पांच दिन में केवल 24 विकेट गिरे और अंतत: मैच ड्रा समाप्त हुआ था। आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दोनों ही टीमों ने इस पिच की आलोचना की थी जहां मेजबान टीम ने पहली पारी में 327 रन बनाये और दूसरी पारी में चार विकेट पर 263 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी जबकि इंग्लैंड ने अपनी एकमात्र पारी में 491 रन बनाये लेकिन फिर भी वह जीत नहीं सकी और मैच ड्रा समाप्त हो गया। मैच रेफरी रंजन मदुगाले ने अपनी रिपोर्ट में आईसीसी को पिच का विवरण दिया है।उन्होंने कहा“ एमसीजी पिच पर उछाल बहुत कम था और यह धीमी पिच मैच के साथ और धीमी होती चली गयी।पांच दिनों के मैच में भी पिच की हरकत में कोई बदलाव आया ही नहीं और इसपर स्वभाविक रूप से भी कोई बदलाव नहीं दिखा।” मैच अधिकारियों ने भी एमसीजी की पिच को लेकर चिंता जताई थी।मदुगाले ने कहा“ इस पिच पर गेंद और बल्ले से बराबरी का खेल दिखाई नहीं दिया।न तो इसने बल्लेबाज़ों को खास मदद की और न ही गेंदबाजों को विकेट के मौके दिये।”">

अाईसीसी ने एशेज़ टेस्ट के बाद एमसीजी पिच को बताया ‘खराब’

2018/01/03



मेलबोर्न, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच चौथे एशेज़ टेस्ट के आयोजन स्थल मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड (एमसीजी) की पिच को खराब करार दिया है।इस पिच पर पांच दिन में केवल 24 विकेट गिरे और अंतत: मैच ड्रा समाप्त हुआ था। आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड दोनों ही टीमों ने इस पिच की आलोचना की थी जहां मेजबान टीम ने पहली पारी में 327 रन बनाये और दूसरी पारी में चार विकेट पर 263 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी जबकि इंग्लैंड ने अपनी एकमात्र पारी में 491 रन बनाये लेकिन फिर भी वह जीत नहीं सकी और मैच ड्रा समाप्त हो गया। मैच रेफरी रंजन मदुगाले ने अपनी रिपोर्ट में आईसीसी को पिच का विवरण दिया है।उन्होंने कहा“ एमसीजी पिच पर उछाल बहुत कम था और यह धीमी पिच मैच के साथ और धीमी होती चली गयी।पांच दिनों के मैच में भी पिच की हरकत में कोई बदलाव आया ही नहीं और इसपर स्वभाविक रूप से भी कोई बदलाव नहीं दिखा।” मैच अधिकारियों ने भी एमसीजी की पिच को लेकर चिंता जताई थी।मदुगाले ने कहा“ इस पिच पर गेंद और बल्ले से बराबरी का खेल दिखाई नहीं दिया।न तो इसने बल्लेबाज़ों को खास मदद की और न ही गेंदबाजों को विकेट के मौके दिये।”


Opinions expressed in the comments are not reflective of Nava Bharat. Comments are moderated automatically.

Related Posts